loader

मेरे पति को हमलावर सरेआम मारते रहे, कोई बचाने नहीं आया: सुल्ताना 

हैदराबाद में नागराज नाम के शख्स की उसकी पत्नी के भाइयों के द्वारा सरेआम हत्या करने की घटना का वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया पर जोरदार ढंग से वायरल है। नागराज हिंदू समुदाय से थे जबकि उनकी पत्नी आशरीन सुल्ताना मुस्लिम हैं। दोनों ने कुछ महीने पहले ही प्रेम विवाह किया था और इस बात से आशरीन के घरवाले बेहद नाराज थे।

एएनआई से बातचीत में सुल्ताना ने कहा कि घटना वाले दिन अचानक उनके भाई आए और उनके पति को नीचे गिरा कर रॉड से मारने लगे। 

सुल्ताना ने कहा कि उन्होंने उनसे पूछा कि वह नागराज को क्यों मार रहे हैं और तब तक उन्हें नहीं पता था कि हमलावर उनके भाई और रिश्तेदार ही हैं। सुल्ताना ने कहा कि हमलावरों ने नागराज के सिर पर लगातार चोट मारी और इस दौरान वह कई लोगों से मदद मांगती रही लेकिन कोई भी आगे नहीं आया। 

सुल्ताना ने कहा कि नागराज के सिर पर हेलमेट था लेकिन हमलावर लगातार रॉड से हमला करते रहे और इस वजह से हेलमेट टूट गया और भेजा बाहर आ गया।

ताज़ा ख़बरें

सुल्ताना कहती हैं कि उन्हें दूसरों से मदद नहीं मांगनी चाहिए थी और खुद ही नागराज को बचाने की कोशिश करनी थी। सुल्ताना कहती हैं कि उनसे यह सब बर्दाश्त नहीं हो रहा है और नागराज के बिना वह जीना नहीं चाहती।

सुल्ताना इस बात पर अफसोस जताती हैं कि उन्होंने लोगों से मदद मांगने में बेवजह समय खराब किया।

सुल्ताना एएनआई से कहती हैं कि वहां पर इतने लोग होने के बाद भी वे एक इंसान को नहीं बचा सके और जो लोग वहां थे वे इंसान ही नहीं हैं, उनके पास दिल ही नहीं है और हमलावरों ने बहुत बुरी तरीके से नागराज को मारा। 

Sultana Nagraj Murder News in Hyderabad - Satya Hindi

निश्चित रूप से इस घटना का जो वीडियो सामने आया है उससे लगता है कि अगर आसपास खड़े लोग नागराज को बचाने आते तो शायद उसकी जान बच सकती थी। घटना के दौरान सुल्ताना ने अपने भाई को रोकने की बहुत कोशिश की लेकिन वह कामयाब नहीं हो सकी।

पुलिस ने इस मामले में 2 लोगों को गिरफ्तार किया है और मुख्य हमलावर की पहचान सुल्ताना के भाई के रूप में ही हुई है। यह घटना उस वक्त हुई थी जब नागराज और सुल्ताना रात को 9 बजे के वक्त हैदराबाद में कहीं जा रहे थे।  

नागराज और सुल्ताना एक दूसरे को बीते 7 साल से जानते थे और इस साल जनवरी के महीने में हैदराबाद में आर्य समाज मंदिर में उन्होंने शादी की थी।

देश से और खबरें

बीबीसी के मुताबिक, घरवालों की नाराजगी से बचने के लिए वे दोनों कुछ महीने के लिए विशाखापट्टनम चले गए थे और कुछ ही दिन पहले हैदराबाद लौटे थे क्योंकि उन्हें ऐसा लगा था कि अब खासकर सुल्ताना के परिजन इस शादी को लेकर आपत्ति नहीं करेंगे।

लेकिन वे गलत निकले और सुल्तान के भाई ने ही नागराज की हत्या कर दी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें