loader

सुप्रीम कोर्ट : सरकार से अलग राय प्रकट करना राजद्रोह नहीं

सुप्रीम कोर्ट ने एक अहम फ़ैसले में कहा है कि सरकार से अलग राय प्रकट करना राजद्रोह नहीं है। सर्वोच्च अदालत ने फ़ारूक़ अब्दुल्ला के ख़िलाफ़ दायर याचिका की सुनवाई करते हुए यह निर्णय सुनाया है। 

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि याचिकाकर्ता यह साबित करने में नाकाम रहे कि फ़ारूक़ अब्दुल्ला ने अनुच्छेद 370 ख़त्म किए जाने के बाद भारत के ख़िलाफ़ चीन या पाकिस्तान से किसी तरह की मदद ली थी। याचिकाकर्ता पर 50 हज़ार रुपए का ज़ुर्माना लगाया गया। 

सर्वोच्च अदालत ने कहा कि सरकार से असहमत होना या उससे अलग राय रखना या उन्हें व्यक्त करना राजद्रोह नहीं माना जा सकता है।

क्या है मामला?

याचिकाकर्ता रजत शर्मा और नेह श्रीवास्तव ने 2019 में अनुच्छेद 370 ख़त्म किए जाने के ख़िलाफ़ फ़ारूक अब्दुल्ला के दिए गए बयान पर अदालत में याचिका दायर की थी। उन्होंने कहा था कि नेशनल कॉन्फ्रेंस का यह नेता देशद्रोही है और उसे सांसद के रूप में काम करते रहते देने का मतलब देशद्रोह और भारत-विरोधी गतिविधियों को बढ़ावा देने के समान होगा। उन्होंने यह भी कहा कि यह देश की एकता के ख़िलाफ़ है। 

बता दें कि फ़ारूक़ अब्दुल्ला जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री और केंद्रीय मंत्री भी रह चुके हैं। केंद्र सरकार ने 5 अगस्त, 2019, को अनुच्छेद 370 ख़त्म करते समय उन्हें एहतियाती तौर पर नज़रबंद कर दिया था। वे कई महीने बाद रिहा किए गए। 

ख़ास ख़बरें

क्या कहा था दिल्ली की अदालत ने?

इसके पहले दिल्ली सत्र न्यायालय के जज जस्टिस धर्मेंद्र राणा ने कहा था, “किसी भी लोकतांत्रिक देश में नागरिक सरकार की अंतरात्मा की आवाज़ के रक्षक होते हैं। उन्हें जेल में सिर्फ इस आधार पर नहीं डाला जा सकता है कि वे सरकार की नीतियों से इत्तेफाक़ नहीं रखते...राजद्रोह सरकारों की घायल अहं की तुष्टि के लिये नहीं लगाया जा सकता है। एक जाग्रत और मज़बूती से अपनी बातों को रखने वाला नागरिक समाज एक स्वस्थ लोकतंत्र की पहचान है।”

जज ने निहारेन्दु दत्त मजुमदार बनाम एम्परर एआईआर मामले के फ़ैसले के हवाले से कहा, “विचारों की भिन्नता, अलग-अलग राय, असहमति यहाँ तक अनुपात से अधिक असहमति भी सरकार की नीतियों में वैचारिकता बढ़ाती है।”

न्यायाधीश राणा ने कहा कि यहाँ तक कि हमारे पूर्वजों ने बोलने और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को एक सम्मानजनक मौलिक अधिकार के रूप में मान्यता दी और अलग-अलग विचारों को सम्मान दिया। उन्होंने कहा कि भारत के संविधान के अनुच्छेद 19 के तहत असहमति का अधिकार दृढ़ता से निहित है।

इसके भी पहले सुप्रीम कोर्ट में राजद्रोह के मामले में जज ने 1962 के केदार नाथ मामले का हवाला देते हुए कहा कि ‘सिर्फ शब्दों से ही नहीं, बल्कि उन शब्दों के कारण वास्तव में हिंसा या उसके लिए उकसावा देने का मामला साबित होना चाहिए।’ 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें