loader

अबू सलेम केस- न्यायपालिका को भाषण न दे केंद्र: सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को केंद्र सरकार से सख़्त लहजे में कहा है कि वह न्यायपालिका को भाषण न दे। अदालत ने यह टिप्पणी तब की जब वह गैंगस्टर अबू सलेम की याचिका पर सुनवाई कर रही थी। सलेम ने 25 साल से अधिक की जेल की सज़ा के ख़िलाफ़ याचिका लगाई है। प्रत्यर्पण के दौरान भारत द्वारा पुर्तगाल को दिए गए वचन के अनुसार कारावास की सजा 25 साल से अधिक नहीं हो सकती।

अबू सलेम की याचिका पर ही केंद्र ने हलफनामा दायर कर जवाब दिया था। लेकिन हलफनामा में दिए गए जवाब के तौर-तरीक़ों पर सुप्रीम कोर्ट ने नाराज़गी जताई। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्रीय गृह मंत्रालय के उस रुख को खारिज कर दिया कि अबू सलेम के प्रत्यर्पण के दौरान पुर्तगाल के सामने की गई प्रतिबद्धता से परे जाकर उसे दी गई 25 साल की सजा को बढ़ाया जाए। अदालत ने इस बात पर भी नाराज़गी जताई कि संबंधित मुद्दे को तय करने का यह 'उचित समय' नहीं है। 

ताज़ा ख़बरें

सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि केंद्र को स्पष्ट होना चाहिए कि वे क्या कहना चाहते हैं। इसने कहा कि हमें गृह मंत्रालय के हलफनामे में 'हम उचित समय पर निर्णय लेंगे' जैसे वाक्य पसंद नहीं हैं।

न्यायमूर्ति संजय किशन कौल और न्यायमूर्ति एम.एम. सुंदरेश 1993 के बॉम्बे ब्लास्ट मामले के दोषी अबू सलेम की एक याचिका पर सुनवाई कर रहे थे। लाइव लॉ की रिपोर्ट के अनुसार सुप्रीम कोर्ट की पीठ ने अपने आदेश में कहा कि ऐसा लगता है कि गृह मंत्रालय सुझाव दे रहा है कि मामले के संबंध में न्यायालय को क्या करना चाहिए या क्या नहीं करना चाहिए।

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्रीय गृह मंत्रालय के इस रुख को भी खारिज कर दिया कि अबू सलेम की याचिका समय से काफ़ी पहले दायर की गई है। 

पीठ ने कहा, 'हमें आश्वासन के प्रभाव पर फ़ैसला लेना है और हम उस आधार पर अपील की सुनवाई को स्थगित नहीं कर सकते हैं। न ही सरकार को हलफनामे पर यह कहने की अनुमति है कि अपीलकर्ता इस याचिका को नहीं उठा सकता है।'

देश से और ख़बरें

न्यायमूर्ति एसके कौल ने गृह मंत्रालय से कहा, 'आप कहते हैं कि उचित समय पर प्रतिबद्धता का पालन किया जाएगा। हमने आपसे पूछा, आपको जवाब देना था। आपके गृह सचिव को हमें भाषण देने की कोई ज़रूरत नहीं थी... वह अधिकार आज भी है। वह कैसे कह सकते हैं कि दिए गए आश्वासन के आधार पर बहस करने वाले दोषी का सवाल ही नहीं है।' उन्होंने कहा, 'गृह सचिव कोई नहीं है जो हमें इस मुद्दे पर फैसला करने के लिए कहे।'

बता दें कि मंगलवार को केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि सरकार तत्कालीन उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी द्वारा पुर्तगाल सरकार को दिए गए आश्वासन पर बाध्य है कि अबू सलेम को दी गई कोई भी सजा 25 साल से अधिक नहीं होगी। भल्ला ने कहा था कि यह आश्वासन 25 साल की अवधि 10 नवंबर, 2030 को समाप्त होने के बाद प्रभावी होगा।

ख़ास ख़बरें

पहले एक सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि वह सीबीआई द्वारा दायर हलफनामे से संतुष्ट नहीं है जिसमें कहा गया है कि भारत द्वारा पुर्तगाल को दिया गया आश्वासन भारतीय अदालतों पर बाध्यकारी नहीं है। अदालत ने 2 फरवरी को अबू सलेम की याचिका पर केंद्र से जवाब मांगा था।

क़ानूनी लड़ाई के बाद अबू सलेम को 11 नवंबर, 2005 को पुर्तगाल से प्रत्यर्पित किया गया था। 2017 में अबू सलेम को मुंबई में 1993 के सीरियल ब्लास्ट मामले में उसकी भूमिका के लिए दोषी ठहराया गया और आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई। उसे विस्फोटों से पहले गुजरात से मुंबई हथियार ले जाने का दोषी पाया गया था।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें