loader

वर्मा के जवाब 'लीक' होने से कोर्ट ख़फ़ा, सुनवाई टाली

सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई के निदेशक आलोक वर्मा की याचिका पर चल रही सुनवाई 29 नवंबर तक के लिए टाल दी है।अदालत की खंडपीठ ने वर्मा की याचिका को स्वीकार कर लिया था और मंगलवार को सुनवाई की तारीख़ तय की थी। खंडपीठ ने सुनवाई टालने की कोई वजह नहीं बताई, पर यह साफ़ हो गया कि वह जानकारी लीक होने से ख़फ़ा थी।

नरीमन की खिंचाई

सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने इस मामले में वर्मा और उनके वकील फ़ली नरीमन की जम कर खिंचाई की। इस मामले में वर्मा की कुछ बातें मीडिया में लीक हो गईं। गोगोई ने नरीमन से पूछा कि ये बातें लीक कैसे हुईं और इसके लिए कौन ज़िम्मेदार है। नरीमन इस पर कोई साफ़ ज़वाब नहीं दे पाये। उन्होंने मीडिया पर ठीकरा फोड़ते हुए सिर्फ़ इतना कहा कि उसे ज़िम्मेदारी और गंभीरता से काम करना चाहिए। इस खंडपीठ में एसके कौल और केएम जोसफ़ भी हैं। जस्टिस गोगोई ने तल्ख़ टिप्पणी करते हुए कहा, 'आप में से कोई सुनवाई के लायक नहीं हैं।'वर्मा ने ख़ुद को सीबीआई निदेशक पद से हटाए जाने के फ़ैसले के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। अदालत ने शुक्रवार को हुई सुनवाई में कहा था कि केंद्रीय सतर्कता आयोग ने वर्मा को  'क्लीन चिट' नहीं दी थी, यानि उन्हें पूरी तरह पाक साफ़ नहीं माना था। खंडपीठ ने कहा था कि कुछ मामलों में वर्मा के बारे में 'अच्छी बातें कही गईं थीं, पर कुछ दूसरे मामलोें में उतनी अच्छी बात नहीं कही गई थी।' समझा जाता है कि अंग्रेज़ी वेबसाइट 'द वायर' में छपी खबर से सुप्रीम कोर्ट नाराज़ है। यह खबर आप यहां पढ़ सकते हैं। 

'द वायर' की सफ़ाई

लेकिेन इस वेबसाइट ने कुछ भी लीक करने से इनकार किया है। इसके प्रमुख सिद्धार्थ वरदराजन ने ट्वीट कर कहा कि आलोक वर्मा ने सीवीसी रिपोर्ट के मामले में पहले जो कुछ कहा था, उस आधार पर ख़बर लिखी गई है। इसका अदालत को दी गई मुहरबंद लिफाफे से कोई मतलब नहीं है। उन्होंने वह लिफाफा देखा ही नहीं है। 
Supreme Court postpones hearing on petition on CBI Director Alok Verma till November 29 - Satya Hindi
सुप्रीम कोर्ट ने वर्मा से कहा था कि वे अपनी बातें मुहरबंद लिफाफे में अदालत को दें ताकि कोई दूसरा उसे न जान सके। लेकिन 'द वायर' में ख़बर छपने के बाद उसे लगा कि जानकारियां लीक कर दी गई हैं। हालांकि इस वेबसाइट ने अपनी सफ़ाई दे दी है, पर अदालत उससे कितना संतुष्ट है, यह अगली सुनवाई में ही पता चल पायेगा। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें