loader

चिदंबरम की ज़मानत को चुनौती देने वाली याचिका सुप्रीम कोर्ट में खारिज

पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम की ज़मानत को चुनौती देने वाली याचिका सुप्रीम कोर्ट में खारिज हो गई है। सर्वोच्च अदालत ने आईएनएक्स मीडिया मामले में केंद्रीय जाँच ब्यूरो की उस याचिका को खारिज कर दिया, जिसमें उनकी ज़मानत को चुनौती दी गई थी। 

पुनर्विचार नहीं

सु्प्रीम कोर्ट ने अपने फ़ैसले में कहा, हमने पुनर्विचार याचिका पर ग़ौर किया है और उससे जुड़े काग़ज़ात देखे हैं। हम इससे संतुष्ट हैं कि ज़मानत देने में कोई ग़लती नहीं हुई थी, लिहाज़ा, हम इस पर पुनर्विचार की ज़रूरत नहीं समझते। 
देश से और खबरें

सर्वोच्च अदालत ने 22 अक्टूबर को चिदंबरम को ज़मानत देते हुए सीबीआई के इस तर्क को खारिज कर दिया था कि पूर्व वित्त मंत्री को ज़मानत नहीं दी जानी चाहिए क्योंकि वे हवाई जहाज़ से कहीं भाग जा सकते हैं। 

क्या था मामला?

इसके बाद अदालत ने आईएनएक्स मीडिया केस में प्रवर्तन निदेशालय यानी एनफ़ोर्समेंट डाइरेक्टरेट की ओर से दायर मामले में भी दिसंबर में ज़मानत दे दी थी। 
सर्वोच्च अदालत ने कहा था कि चिदंबरम ने जाँच में सहयोग किया था और उन्हें आदेश दिया था कि वे आगे भी ऐसा करते रहें। 
सीबीआई ने चिदंबरम पर आरोप लगाया था कि उन्होंने आईएनएक्स मीडिया से 10 लाख रुपए की घूस लेकर उसे प्रत्यक्ष विदेशी निवेश से जुड़ा आदेश जारी किया था। 
आरोप है कि 2007 में जब पी. चिदंबरम वित्त मंत्री थे तब नियमों को ताक पर रखकर आईएनएक्स मीडिया को विदेशी निवेश की मंज़ूरी दिलायी गयी थी। यह भी आरोप है कि कार्ति चिदंबरम ने अपने पिता पी. चिदंबरम के ज़रिए आईएनएक्स मीडिया को विदेशी निवेश प्रमोशन बोर्ड से यह मंज़ूरी दिलाई थी। 
चिदंबरम सीबीआई के इन आरोपों को ख़ारिज़ करते रहे हैं और कहते रहे हैं कि इन कंपनियों के विदेशी निवेश के प्रस्तावों को मंज़ूरी देने में कोई भी गड़बड़ी नहीं की गयी है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें