loader
फ़ोटो साभार: वीडियो ग्रैब/तनिष्क विज्ञापन

तनिष्क एकत्वम के विज्ञापन में कुछ लोगों ने नफ़रत ढूंढ निकाली, एड हटाया गया

यदि आपने तनिष्क ज्वैलरी का नया विज्ञापन नहीं देखा है तो शायद अब आप कहीं देख भी नहीं पाएँगे। ऐसा इसलिए कि इस विज्ञापन पर विवाद हो गया है और उस विज्ञापन को कथित तौर पर हटा लिया गया है। यानी मुख्यधारा के मीडिया में यह विज्ञापन नहीं दिखेगा। हालाँकि कुछ लोगों ने इस विज्ञापन को ट्विटर पर डाल दिया है और यह आप पर है कि आपको उस विज्ञापन में नफ़रत दिखती है या फिर प्यार। 

टाटा ग्रुप के ज्वैलरी ब्रांड तनिष्क के इस नये विज्ञापन का नाम 'एकत्वम' है। 45 सेकंड की यह विज्ञापन फ़िल्म दो अलग-अलग धर्मावलंबियों के बीच शादी पर आधारित है। इस विज्ञापन में देखा जा सकता है कि एक मुसलिम परिवार अपनी पुत्रवधू के लिए परंपरागत हिंदू रीति रिवाज वाले कार्यक्रम की तैयारी कर रहा है। विज्ञापन के सेट से लगता है कि वह दक्षिण भारतीय परिवार है।

ख़ास ख़बरें

वीडियो में भरा-पूरा मुसलिम परिवार दिखता है। बगीचा है, दीपमालाएँ हैं और नटराज की प्रतिमा भी है। वीडियो के अंत में वह महिला अपनी सास से पूछती है, 'ये रस्म तो आपके घर में होती भी नहीं है न?' इस पर उसकी सास उसे जवाब देती है, 'पर बिटिया को खुश रखने की रस्म तो हर घर में होती है न?' इसके बाद विज्ञापन में संदेश दिया गया है- 'एक जो हुए हम, तो क्या ना कर जाएँगे।' यानी इसमें एकता की बात की गई है।

पिछले हफ़्ते यह विज्ञापन आया था लेकिन सोमवार यानी 12 अक्टूबर को ट्विटर पर इस विज्ञापन के ख़िलाफ़ BoycottTanishq हैशटैग ट्रेंड करने लगा। सोशल मीडिया पर यह विज्ञापन बहस का मुद्दा बन गया है और लोग इसके बारे में कई तरह की बात कर रहे हैं। कोई इसे लव जिहाद’ को बढ़ावा देने वाला बता रहा है, तो कोई एंटी- हिंदू। कई लोग तो तनिष्क के गहने नहीं खरीदने की बात करते हुए इस ब्रांड का बहिष्कार करने की माँग उठा रहे हैं। इसके बाद इस वीडियो विज्ञापन को तनिष्क के आधिकारिक यूट्यूब चैनल, फ़ेसबुक चैनल से हटा लिया गया। हालाँकि इस मामले में तनिष्क की ओर से कोई बयान नहीं जारी किया गया है। 

 tanishq ekatvam ad pulled amid trolls boycott for showing hindu muslim unity - Satya Hindi

ट्विटर पर भी इस विज्ञापन को हटाए जाने के बारे में दावे किए गए। कार्तिक नाम के यूज़र ने लिखा, 'बेहुदा तरीक़े से ट्रोल किए जाने के बाद तनिष्क ने आधिकारिक रूप से अपना विज्ञापन वापस ले लिया है। इसे देखिए कि क्यों बहुत ही दुःखद स्थिति है, और ऐसे अन्य विज्ञापनों के संदर्भ में देखिए जो ट्रोल किए गए (और कुछ, वापस ले लिए गए)।

इस वीडियो विज्ञापन को हटाने का कारण सरसरी तौर पर ट्विटर पर ट्रेंड होना और इसको हिंदू-मुसलिम के नज़रिए से इस विज्ञापन की आलोचना करना रहा है। कई लोगों ने सोशल मीडिया पर इसे 'लव जिहाद' के तौर पर पेश किया।

ट्विटर पर एक यूज़र ने लिखा है, 'तनिष्क दिखा क्या रही है- मुसलिम घर में हिंदू लड़की 100 फ़ीसदी सुरक्षित।

वास्तव में क्या हो रहा है- हिंदू लड़की लव जिहाद में फँसाई जाती है, हत्या की जाती है।

हिंदू लड़की दूसरे धर्मों के घरों में ज़ीरो फ़ीसदी सुरक्षित है। इसलिए कंपनी की इस बीमार मानसिकता को न मानें।'

प्रिंस तिवारी नाम के एक ट्विटर यूज़र ने लिखा, 'इसे डिसलाइक और रिपोर्ट करें। वे हर बार क्यों लव जिहाद को बढ़ावा देते हैं? कल एक हिंदू लड़के को मुसलिमों ने लिंच कर दिया।'

ट्विटर पर ऐसी प्रतिक्रियाओं के बाद कई लोगों ने इस पर तीखी प्रतिक्रिया दी। कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने लिखा, "तो इस खूबसूरत विज्ञापन के माध्यम से हिंदू-मुसलिम एकता को उजागर करने के लिए हिंदुत्व के धर्मांध लोगों ने तनिष्क ज्वैलरी का बहिष्कार करने का आह्वान किया है। अगर हिंदू-मुसलिम 'एकत्वम' उन्हें बहुत परेशान करता है तो वे दुनिया में सबसे लंबे समय तक हिंदू-मुसलिम एकता के प्रतीक- भारत का बहिष्कार क्यों नहीं करते हैं?"

हिंदू-मुसलिम एकता की बात करने पर लोगों ने शशि थरूर के ख़िलाफ़ भी तीखी टिप्पणियाँ कीं। इनमें से अधिकतर वे ट्रोल हैं जो दक्षिणपंथी विचारधारा से जुड़े हैं और वे हर ऐसे मामलों पर टूट पड़ते हैं जिनमें सांप्रदायिक सद्भाव की बात कही जाती है। ट्रोल बड़े स्तर पर सामाजिक तानेबाने को भी प्रभावित करते हैं। तनिष्क द्वारा इस विज्ञापन को हटाए जाने में भी ट्रोल के इस असर को देखा जा सकता है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें