loader

कोरोना से लड़ने के लिए विशेषज्ञों ने भारत को दिए आठ सुझाव

ब्रिटिश पत्रिका 'द लांसेट' को दुनिया के 21 विशेषज्ञों ने कहा है कि कोरोना की तीसरी लहर को रोकने के लिए भारत को बड़े और सख़्त कदम उठाने होंगे। 

उन्होंने इसके लिए भारत को आठ सलाह दिए। इन विशेषज्ञों में दो भारतीय हैं- हृदय रोग विशेषज्ञ डॉक्टर देवी शेट्टी और बायोकॉन की प्रमुख किरण शॉ मजुमदार। 

इन्होंने कहा है कि-

  • आवश्यक स्वास्थ्य सेवाओं का विकेंद्रीकरण कर दिया जाए। अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग स्थितियाँ हैं और यह साफ है कि एक ही उपाय सब जगह कारगर नहीं हो सकती है।
  • आवश्यक स्वास्थ्य सेवाओं की कीमतें और शुल्क एक हो, उनकी एक राष्ट्रीय नीति हो और वह पूरी तरह पारदर्शी हो। एंबुलेन्स सेवा, ऑक्सीजन, ज़रूरी दवाएँ और अस्पतालों के चार्ज वगैरह एक समान हो। अस्पताल ऐसे शुल्क न लें कि रोगी के परिजन के लिए उन्हें चुकाना मुमिकन ही न हो। इन सभी खर्चों का भुगतान बीमा से किया जाए, यह व्यवस्था हो। ऐसा कुछ जगहों पर किया गया है।
  • कोरोना से निपटने के उपायों के रूप में तथ्य आधारित जानकारी हों, जिनका प्रचार-प्रसार किया जाए। इनमें घर पर सेवा करने, ज़िला अस्पताल में दाखिल करने या स्थानीय अस्पतालों में दाखिल करने पर देखभाल की जानकारी अंतरराष्ट्रीय मानकों के आधार पर हों।
  • स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े सभी लोगों चाहे वे सरकारी क्षेत्र में हों निजी क्षेत्र में, उनका इस्तेमाल किया जाए। ये लोग उपकरण, क्लिनिकल खोजों, बीमा और मानसिक स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े हो सकते हैं। इन सबका इस्तेमाल किया जाए।
  • सभी राज्य टीकाकरण के मामले में अपनी प्रथामिकता खुद तय करें, यानी उपलब्ध टीकों के सही इस्तेमाल करने के लिए वह खुद प्रथामिकता तय करे। सरकार खुद टीकाकरण करे और इसे निजी क्षेत्र के भरोसे न छोड़ा जाए।
  • कोरोना से लड़ने में समाज के हर तबके का इस्तेमाल किया जाए। ज़मीनी स्तर के कार्यकर्ताओं और सिविल सोसाइटी की मदद ली जाए, वे स्थानीय स्तर पर बेहतर काम कर सकते हैं।
  • कोरोना से जुड़े आँकड़े एकत्रित करने और मैथेमैटिकल मॉडलिंग तैयार में पूरी पारदर्शिता बरती जाए। स्वास्थ्य सेवा से जुड़े लोगों को उम्र, लिंग, अस्पातल में भर्ती कराने से जुड़ी जानकारी, मौत की दर जैसी तमाम जानकारियाँ दी जाएं और यह बिल्कुल सही हों।
  • असंगठित क्षेत्र के जिन लोगों की आजीविका कोरोना की वजह से चली गई है, उन्हें सीधे नकद रकम देकर उनकी मदद की जाए। संगठित क्षेत्र के नियोक्ताओं को चाहिए कि वे इस दौरान किसी को नौकरी से न निकालें, जिन कर्मचारियों का कंट्रैक्ट ख़त्म हो गया हो, उन्हें भी नौकरी पर रहने दें। सरकार अर्थव्यवस्था सुधरने के बाद इन कंपनियो की मदद कर इसकी भरपाई करे। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें