loader

'द लांसेट' : कोरोना टीके की दो खुराक़ों के बीच कम अंतर हो

दुनिया भर में मशहूर और ब्रिटेन से छपने वाली स्वास्थ्य पत्रिका  'द लांसेट' ने शोध में पाया है कि कोरोना टीका की दो खुराकों के बीच का अंतर कम होना चाहिए क्योंकि पहली खुराक़ के बाद इतनी एंटीबॉडी नहीं बनती है कि वह उस व्यक्ति को पूरी तरह इम्यून कर सके। भारत में पाए जाने वाले 'डेल्टा' किस्म के वायरस के साथ ख़ास कर महत्वपूर्ण है। 

यह भारत सरकार के उस फ़ैसले के ठीक उलट है, जिसमें दो कोरोना खुराकों के बीच का समय 6-8 हफ़्ते से बढ़ा कर 12-16 हफ़्ता कर दिया गया।

उस समय भी सरकार ने इसके लिए ठोस वैज्ञानिक आधार या किसी शोध का हवाला नहीं दिया था। यह कहा गया था कि कोरोना टीके की कमी के कारण सरकार ने यह फ़ैसला लिया है, हालांकि सरकार ने कोरोना वैक्सीन की कमी से इनकार किया था। 

यूसीएलएच इन्फेक्सश डिजीज़ की वरिष्ठ सलाहकार एमा वॉल ने  'द लांसेट' से कहा,

हमारे शोध के नतीजों से यह पता चलता है कि सबसे अच्छा यह है कि पहली खुराक़ के बाद जल्द से जल्द दूसरी खुराक़ दे दी जाए क्योंकि यह हो सकता है कि नए वैरिएंट के ख़िलाफ़ इम्यून पूरी तरह विकसित न हो।


एमा वॉल, वरिष्ठ सलाहकार, यूसीएलएच इन्फेक्सश डिजीज़

यह शोध ब्रिटिश सरकार के इस फ़ैसले के अनुकूल है कि कोरोना टीका के दो खु़राकों के बीच का समय कम किया जाए।

'द लांसेट' का यह शोध दरअसल भारत में प्रमुखता से पाए जाने वाले 'डेल्टा' वैरिएंट के वायरस पर फ़ाइजर बायो एन टेक के कोरोना टीका के प्रभाव से जुड़ा हुआ है। इसमें यह कहा गया कि फ़ाइजर के टीके की प्रभावकता 79 प्रतिशत है, लेकिन 'अल्फा' वैरिएंट के वायरस पर 50 प्रतिशत, 'बीटा' पर 25 प्रतिशत और डेल्टा पर 32 प्रतिशत प्रभावी है। 

'द लांसेट' की टीम ने ब्रिटेन स्थित फ्रांसिस क्रिक इंस्टीच्यूट के क्लिनिक में 250 कोरोना मरीजों पर यह शोध किया। 

ख़ास ख़बरें

क्या कहना है सरकराी पैनल का?

बता दें कि कोविशील्ड वैक्सीन की जो खुराकें शुरुआत में 4 हफ़्ते के अंतराल में लगाई जा रही थीं उसको 12-16 हफ़्ते बढ़ाने की सिफ़ारिश सरकारी पैनल ने की। क़रीब दो महीने में यह दूसरी बार है जब कोविशील्ड की खुराक के अंतराल को बढ़ाने की सिफ़ारिश की गई है।

शुरु में यह अंतराल 4-6 हफ़्ते का था। मार्च के दूसरे पखवाड़े में अंतराल को बढ़ाकर 6-8 सप्ताह किया गया था। और अब मई के मध्य में इस अंतराल को बढ़ाकर 12-16 हफ़्ते करने की सिफ़ारिश की गई है। 

The Lancet suggests less gap between corona vaccine doses - Satya Hindi

क्या कहा था सरकार ने?

कोरोना से संक्रमित मरीज़ों को ठीक होने के बाद अब तक दो हफ़्ते में वैक्सीन लगाई जा रही थी, लेकिन सरकार के विशेषज्ञों के पैनल ने इसे 3-9 महीने में लगाए जाने की सिफ़ारिश कर दी। यानी सिफारिश के अनुसार यदि कोई कोरोना संक्रमण से आज ठीक होता है तो उसे 3 महीने बाद और 9 महीने से पहले उसे टीके की पहली खुराक लगाई जा सकेगी। 

विशेषज्ञों के पैनल ने कहा है कि यह फ़ैसला पूरी तरह वैज्ञानिक तथ्यों के आधार पर लिया गया है। 

आम तौर पर जो शोध अब तक सामने आए हैं उनमें कहा गया है कि कोरोना संक्रमण से ठीक हुए लोगों में क़रीब तीन महीने तक वायरस के ख़िलाफ़ एंटीबॉडी प्रभावी होती है। शरीर में धीरे-धीरे यह एंटीबॉडी कमजोर पड़ने लगती है और वायरस के संपर्क में आने पर फिर से संक्रमित होने का ख़तरा बढ़ जाता है।

इन्हीं वजहों से दुनिया के अधिकतर देशों में सलाह दी जा रही है कि कोरोना से ठीक हुए लोगों को तीन महीने में वैक्सीन ले लेनी चाहिए।

कोरोना टीके की दो खुराक़ों के बीच कितना अंतर होना चाहिए, वरिष्ठ पत्रकार शैलेश का क्या कहना है? 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें