loader

'टाइम्स नाउ' सर्वे : पुडुचेरी में बन सकती है एनडीए की सरकार

भारतीय जनता पार्टी की अगुवाई वाला नेशनल डेमोक्रेटिक अलायंस यानी एनडीए पुडुचेरी में सरकार बना सकता है। टेलीविज़न चैनल 'टाइम्स नाउ' - सी वोटर ने एक सर्वे में यह पाया है। 

'टाइम्स नाउ' ने कहा है कि पुडुचेरी विधानसभा की 30 में से 18 सीटों पर एनडीए जीत हासिल कर सकता है। वहाँ चुनाव 6 अप्रैल को होगा। बता दें कि पुडुचेरी में कांग्रेस की सरकार थी और वी. नारायणसामी इसके मुख्यमंत्री थे। लेकिन कुछ कांग्रेस विधायकों के पाला बदल कर बीजेपी में जाने से उनकी सरकार अल्पमत में आ गई और उन्होंने इस्तीफ़ा दे दिया। 

ख़ास ख़बरें

यूपीए को 12 सीटें!

'टाइम्स नाउ'- सी वोटर सर्वेक्षण में यह पाया गया है कि एनडीए को 16 से 20 सीटें हासिल हो सकती हैं। पिछली बार यानी 2016 के पुडुचेरी विधानसभा चुनाव में एनडीए को 12 सीटें मिली थीं। 

लेकिन इस बार कांग्रेस की अगुआई वाले युनाइटेड प्रोग्रेसिव अलायंस यानी यूपीए को 12 सीटें मिल सकती हैं। सर्वेक्षण में पाया गया है कि उसे 10 से 14 सीटों पर जीत हासिल हो सकती है। 

अन्य उम्मीदवार को एक सीट मिल सकती है। 

वोटों की गिनती 2 मई को होगी। 

times now survey : NDA likely to win pudducherry assembly polls2 - Satya Hindi

एनडीए में कलह

साल 2016 के पुडुचेरी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस द्रविड़ मुनेत्र कषगम यानी डीएमके के साथ थी और उन दोनों को 17 सीटें मिली थीं। 

पर्यवेक्षकों का कहना है कि इस बार एनडीए के जीतने के आसार तो हैं, पर उसका रास्ता बहुत आसान भी नहीं होगा। गृह मंत्री अमित शाह ने एलान कर दिया कि अगला मुख्यमंत्री बीजेपी का होगा। इससे सहयोगी दल एआईएनआर कांग्रेस के अध्यक्ष एन. रंगास्वामी नाराज़ हो गए क्योंकि अपनी पार्टी का मुख्यमंत्री चाहते हैं। 

वोट शेयर

'टाइम्स नाउ'- सी वोटर सर्वेक्षण में पाया गया है कि एनडीए को 45.8 प्रतिशत वोट मिल सकता है। यह पिछली बार के वोट शेयर से 14 प्रतिशत ज़्यादा होगा। साल 2016 में बीजेपी की अगुआई वाले इस गठजोड़ को 30.5 प्रतिशत वोट मिले थे। 

दूसरी ओर, कांग्रेस की अगुआई वाले गठजोड़ यूपीए का वोट शेयर 1.9 प्रतिशत गिर कर 39.5 प्रतिशत से 37.6 प्रतिशत तक पहुँच सकता है। 

कौन बनेगा मुख्यमंत्री?

सर्वे के अनुसार, रंगास्वामी मुख्यमंत्री के रूप में पहली पसंद बन कर उभरे हैं। कांग्रेस के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री नारायणसामी इस मामले में दूसरे नंबर पर हैं। 

जिन लोगों ने सर्वेक्षण में भाग लिया, उनमें से 45.53 प्रतिशत ने कहा कि वे राज्य सरकार के कामकाज से 'बिल्कुल संतुष्ट नहीं हैं।' सिर्फ 34.92 प्रतिशत लोगो ने कहा कि वे कामकाज से 'पूरी तरह संतुष्ट हैं'। सर्वे में 15.96 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वे सरकार के कामकाज से 'कुछ हद तक संतुष्ट हैं'।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें