loader

नागरिकता क़ानून: बीजेपी सांसद बोले - ‘अब युद्ध शुरू हो चुका है, किसी को नहीं छोड़ेंगे’

नागरिकता संशोधन क़ानून का संवैधानिक और लोकतांत्रिक ढंग से विरोध भी बीजेपी के नेताओं को बर्दाश्त नहीं हो पा रहा है। कुछ दिन पहले दिल्ली के लाजपत नगर में जब केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह इस क़ानून के समर्थन में रैली निकाल रहे थे तो दो महिलाओं को इस क़ानून के विरोध में बैनर लगाने पर रैली में मौजूद भीड़ की बर्बरता झेलनी पड़ी थी। विरोध करने वाली एक महिला सूर्या राजप्पन ने कहा था कि उनके अपार्टमेंट के नीचे बड़ी संख्या में लोग इकट्ठा हो गए थे और वे लोग 3-4 घंटे तक घर के अंदर ही फँसे रहे थे। विरोध करने के कारण इन महिलाओं को मकान मालिक ने भी घर से निकाल दिया है।

अब इस कड़ी में तेलंगाना के बीजेपी सांसद का बयान आया है। करीमनगर से बीजेपी सांसद बांडी संजय कुमार ने कहा, ‘देशद्रोहियों के लिए इस देश में कोई जगह नहीं है। अगर आप पाकिस्तान, बांग्लादेश या अफग़ानिस्तान जाना चाहते हैं तो हम तुम्हें विमान या बिना ब्रेक वाली बसों से भेज देंगे।’ बीजेपी सांसद ने आरोप लगाया कि देशद्रोहियों ने नागरिकता संशोधन क़ानून के समर्थन में निकाली गई रैली पर पथराव किया। 

बीजेपी सांसद ने तेलंगाना में सरकार चला रही तेलंगाना राष्ट्र समिति और एआईएमआईएम को ‘हिंदू विरोधी’ बताते हुए उन पर तीख़े जुबानी हमले किये।

सांसद ने कहा कि अगर बीजेपी के कार्यकर्ताओं पर पत्थर से हमला किया गया तो वे बमों और चाकुओं से इसका जवाब देंगे। सांसद ने बुधवार को वारंगल में नागरिकता संशोधन क़ानून के समर्थन में आयोजित एक रैली में मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए यह बात कही। 

ताज़ा ख़बरें
सांसद ने आगे कहा, ‘अगर तुम पत्थर फेंकोगे, हम लोग बम फेंकेंगे। अगर तुम डंडे चलाओगे, हम इसका जवाब चाकुओं से देंगे और अगर तुम बम फेंकोगे तो हम लांचर्स से इसका जवाब देंगे। अब युद्ध शुरू हो चुका है। हम किसी को नहीं छोड़ेंगे।’ 
बीजेपी सांसद ने कहा कि ओवैसी की पार्टी के हरे झंडों ने वारंगल का माहौल दूषित कर दिया है। उन्होंने कहा कि तेलंगाना में भगवा झंडे के अलावा किसी दूसरे झंडे के लिए जगह नहीं है।

बीजेपी सांसद ने आरोप लगाया कि कांग्रेसी, कम्युनिस्ट और सेक्युलर्स ने नागरिकता क़ानून को लेकर लोगों को गुमराह करने के लिए हाथ मिला लिया है। उन्होंने सवाल पूछा कि क्या तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव 2007 में हुए हैदराबाद बम धमाकों के अभियुक्तों को नागरिकता देना चाहते हैं। 

‘एक घंटे में सफाया कर देंगे’

नागरिकता संशोधन क़ानून को लेकर कुछ दिन पहले हरियाणा की कैथल सीट से बीजेपी के विधायक लीलाराम गुर्जर ने भी गुंडों जैसा बयान दिया था। लीलाराम गुर्जर ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा था कि यह गाँधी और नेहरू का हिन्दुस्तान नहीं है बल्कि नरेंद्र मोदी और अमित शाह का हिन्दुस्तान है। बीजेपी विधायक ने धमकाते हुए कहा था कि अगर इशारा हो गया तो एक घंटे में सफाया कर देंगे। 

देश से और ख़बरें

नागरिकता संशोधन क़ानून के विरोध में प्रदर्शन करने वालों पर दिल्ली हो या यूपी, पुलिस जमकर लाठियां बरसा रही है। यूपी में सैकड़ों बुद्धिजीवियों, सामाजिक संगठनों के कार्यकर्ताओं को जेलों में ठूंस दिया गया है और उन पर संगीन धाराओं में मुक़दमे लाद दिये गये हैं। बीजेपी नेताओं के बयानों का मतलब तो यही निकलता है कि वे इस क़ानून के विरोध में लोकतांत्रिक ढंग से उठने वाली आवाज़ों को कुचल देना चाहते हैं और ‘बदला’ लेने पर उतारू हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें