loader
राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू

द्रौपदी मुर्मू से पीएम मोदी बात करना चाहते थे और फोन बार-बार कट रहा था!

द्रौपदी मुर्मू देश की 15वीं राष्ट्रपति बन चुकी हैं। सोमवार को राष्ट्रपति पद की शपथ लेते हुए उनका भाषण बताता है कि किन कठिन परिस्थितियों में उनकी जिन्दगी गुजरी। यह सच है। मुर्मू को जब एनडीए ने राष्ट्रपति पद का प्रत्याशी बनाने का फैसला किया तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पीएमओ से कहा कि फौरन मुर्मू से बात कराई जाए। मुर्मू ओडिशा के गांव में थीं, जहां भारत की दूरसंचार व्यवस्था का नेटवर्क फेल हो गया। आइए आपको बताते हैं वो दिलचस्प कहानी।
उनके लिए ओडिशा के मयूरभंज के एक सुदूर गांव से रायसीना हिल्स तक का सफर इतना आसान नहीं था। हालांकि, प्रधानमंत्री मोदी के लिए भी द्रौपदी मुर्मू को इस खुशखबरी को पहुंचाना इतना आसान नहीं था। इस खबर को बताने के लिए पीएम मोदी और पीएमओ को मेहनत करनी पड़ी थी। 
ताजा ख़बरें
पीएमओ के आधिकारिक सूत्रों ने जी न्यूज को बताया कि राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के चुनाव के लिए आयोजित एनडीए की बैठक में उनका नाम तय होने के बाद प्रधानमंत्री सबसे पहले द्रौपदी से फोन पर बात कर उन्हें बधाई देना चाहते थे। पीएमओ ने द्रौपदी से संपर्क करने की कोशिश शुरू की। सूत्रों ने बताया कि दस बार फोन पर द्रौपदी मुर्मू तक पहुंचने की कोशिश करने के बाद भी फोन लाइन नहीं लग पाई।

ओडिशा के दूरदराज के गांवों में कमजोर नेटवर्क सरकारी अधिकारियों के लिए नई बात नहीं है, लेकिन प्रधानमंत्री को यह सूचना देने में पीएमओ के अधिकारी खुद को बहुत असहज पा रहे थे।

पीएमओ के अधिकारियों ने द्रौपदी के गांव रैरंगपुर के एक स्थानीय बीजेपी नेता विकास चंद्र महतो के फोन नंबर को ट्रैक किया। विकास रैरंगपुर में दुकान चलाते हैं। जब पीएमओ का फोन आया तो विकास दुकान पर थे। फोन के दूसरी तरफ से एक हताश आवाज, 'मैडम मुर्मू से बात कराइए, जल्दी करिए, प्रधानमंत्री जी बात करना चाहते हैं।'
विकास फोन लेकर साइकिल से फौरन द्रौपदी के घर की ओर भागे। रास्ते में उनका फोन कनेक्शन दो बार कट गया। अंत में द्रौपदी के घर पहुंचकर पीएमओ की ओर से तीसरी बार फोन आया। बीजेपी नेता ने अपना मोबाइल फोन 'मैडम मुर्मू' के हाथ में थमा दिया।

चंद मिनटों में द्रौपदी ने खुद विकास को बताया कि उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी से बात की है। खुद प्रधानमंत्री ने उन्हें एनडीए खेमे का राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाने की खुशखबरी सुनाई है। मुर्मू के मुंह से यह खबर सुनकर विकास खुशी से रो पड़े। यह खबर बहुत जल्द गांव में फैल गई। पूरे गांव में खुशी का माहौल बन गया। दरअसल विकास कुछ समय तक मुर्मू के निजी सचिव के रूप में भी काम कर चुके हैं। वो जानते थे कि पीएमओ से फोन आने का क्या मतलब होता है।

देश से और खबरें

बाकी आदिवासी गांवों का क्या होगा

इसी कड़ी में एक और बात सामने आई है। द्रौपदी के राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनने के बाद उनके पैतृक गांव को बिजली मिल गई है। आजादी के 75 साल बाद उस गांव में रोशनी है और पंखा चल रहा है। यह सब गांव की लड़की द्रौपदी मुर्मू के सौजन्य से मुमकिन हुआ। कई लोगों को लगता है कि इस घटना के बाद राष्ट्रपति के गांव रैरंगपुर का मोबाइल कनेक्शन भी सुधर जाएगा। लेकिन अगर आदिवासी समाज का कोई प्रतिनिधि राष्ट्रपति की कुर्सी पर नहीं बैठता, तो क्या ओडिशा के इन दूरदराज के गांवों को सच में विकास का चेहरा दिखाई देता? सवाल बाकी है। 

सवाल यह भी बाकी है कि एक आदिवासी के राष्ट्रपति बनने से क्या देश के आदिवासियों को उनकी जमीन से बेदखल करने का अभियान बंद होगा, क्या उनकी छीनी गई जमीनें वापस मिलेंगी ? सवाल ये भी है कि आदिवासियों के लिए संघर्ष करने वाले तमाम एनजीओ को क्या सरकारी रोकटोक से आजादी मिल पाएगी?

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें