loader

कोवैक्सीन को आख़िरकार डब्ल्यूएचओ से मिली मंजूरी

भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्ल्यूएचओ से मान्यता मिल गई है। डब्ल्यूएचओ ने बुधवार को कोवैक्सीन को आपातकालीन उपयोग सूची यानी ईयूएल के लिए मंजूरी दे दी। 

डब्ल्यूएचओ ने इसकी पुष्टि कर दी है। इसने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया है, 'डब्ल्यूएचओ ने कोवैक्सीन (भारत बायोटेक द्वारा विकसित) को आपातकालीन उपयोग सूची (ईयूएल) प्रदान की है। यह कोविड की रोकथाम के लिए डब्ल्यूएचओ द्वारा मान्य टीकों के बढ़ते पोर्टफोलियो में जुड़ गयी है।'

इससे पहले डब्ल्यूएचओ ने फाइजर-बायोएनटेक, जॉनसन एंड जॉनसन, मॉडर्ना, सिनोफार्म और ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका के कोविड टीकों को ही आपातकालीन उपयोग के लिए मंजूरी दी थी।

कोवैक्सीन उन छह टीकों में से एक है जिन्हें भारत में आपातकालीन इस्तेमाल के लिए मंजूरी मिली हुई है। कोवैक्सीन का इस्तेमाल राष्ट्रव्यापी टीकाकरण कार्यक्रम में कोविशील्ड और स्पुतनिक वी के साथ किया जा रहा है। भारत में कोवैक्सीन का इस्तेमाल इस साल की शुरुआत से ही किया जा रहा है।

डब्ल्यूएचओ से अब इसे मंजूरी मिलने के बाद दुनिया भर के कई देशों में इस वैक्सीन को मान्य माना जा सकता है और इस कारण लाखों भारतीयों- छात्र, कामकाजी पेशेवर और अन्य लोगों- को विदेश की यात्रा में सहूलियत होगी। ऐसे लोगों को अब क्वारंटीन जैसे नियमों से छूट मिल सकेगी। ऐसे लोग इस ख़बर का बेसब्री से इंतज़ार कर रहे थे कि कोवैक्सीन अन्य देशों द्वारा स्वीकार किया जाए।

क़रीब एक हफ़्ते पहले ही डब्ल्यूएचओ ने कहा था कि आपातकालीन उपयोग के लिए कोवैक्सीन की सिफारिश करने से पहले कंपनी से टीके के बारे में अतिरिक्त स्पष्टीकरण की ज़रूरत है। इसने कहा था कि इसके बाद टीके के जोखिम और फायदे का आख़िरी मूल्यांकन किया जाएगा। डब्ल्यूएचओ की ओर से पिछले हफ्ते ही यह साफ़ कर दिया गया था कि तकनीकी सलाह समूह 3 नवंबर को इसका आख़िरी मूल्यांकन करेगा।

ताज़ा ख़बरें
इससे पहले उम्मीद जताई जा रही थी कि अक्टूबर महीना ख़त्म होने से पहले कोवैक्सीन को डब्ल्यूएचओ की आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी वाली सूची यानी ईयूएल में शामिल कर लिया जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। नयी अड़चन इसलिए आई थी कि डब्ल्यूएचओ को कई सवालों के जवाब चाहिए थे। 
डबल्यूएचओ की ईयूएल के बिना कोवैक्सीन को दुनिया भर के अधिकांश देशों में स्वीकृत वैक्सीन नहीं माना जा रहा था। अब दूसरे देश भी जल्द ही कोवैक्सीन को भी मंजूरी दे सकते हैं।

इससे पहले सितंबर महीने भी डब्ल्यूएचओ ने कोवैक्सीन बनाने वाली कंपनी भारत बायोटेक को कई सवाल भेजे थे। हालाँकि कंपनी यह दावा करती रही थी कि उसने मंजूरी के लिए सभी ज़रूरी आँकड़े जमा कर दिए हैं। 

भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसका संकेत दिया था कि जल्द ही डब्ल्यूएचओ से मंजूरी मिल जाएगी। इससे पहले सितंबर महीने में ही वैक्सीन पर राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह के अध्यक्ष डॉ. वीके पॉल ने भी कहा था कि कोवैक्सीन के लिए डब्ल्यूएचओ की मंजूरी इस महीने के अंत से पहले आने की संभावना है। 

देश से और ख़बरें

बता दें कि डब्ल्यूएचओ ने 18 अक्टूबर को एक ट्वीट में कहा था, 'हम जानते हैं कि बहुत से लोग कोवैक्सीन के आपातकालीन उपयोग सूची में शामिल होने के लिए डब्ल्यूएचओ की सिफारिश की प्रतीक्षा कर रहे हैं, लेकिन हम जैसे-तैसे काम नहीं कर सकते हैं। आपातकालीन उपयोग के लिए किसी उत्पाद की सिफारिश करने से पहले हमें इसका अच्छी तरह से मूल्यांकन कर यह सुनिश्चित करना होता है कि यह सुरक्षित और प्रभावी है।'

who approves bharat biotech covaxin as it is in eul  - Satya Hindi

जून महीने में भारत बायोटेक ने कहा था कि कोवैक्सीन तीसरे चरण के ट्रायल में 77.8 फ़ीसदी प्रभावी रही थी। उसने कहा था कि यह ट्रायल 25 हज़ार 800 प्रतिभागियों पर किया गया था। 

अब से पहले तक कोविशील्ड डब्ल्यूएचओ की सूची में एकमात्र भारत निर्मित वैक्सीन है। इसे भी ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राज़ेनेका ने विकसित किया है, लेकिन पुणे में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा निर्मित किया जा रहा है। डब्ल्यूएचओ ने पहले कोविशील्ड के अलावा फाइजर-बायोएनटेक, जॉनसन एंड जॉनसन, मॉडर्ना और सिनोफार्म द्वारा निर्मित टीकों को भी मंजूरी दी थी। अब पूरी तरह स्वदेशी कोवैक्सीन भी डब्ल्यूएचओ द्वारा मंजूर हो गई है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें