loader
सुदीन धवलीकर

गोवा में बीजेपी ने जिसे 'अपवित्र' कहा था, उसी पार्टी के विधायक को मंत्री बनाया

बीजेपी विधायकों की तमाम आपत्तियों के बावजूद गोवा में महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी) के विधायक को मंत्री पद मिल गया। बीजेपी ने गोवा विधानसभा चुनाव के दौरान एमजीपी को अपवित्र बताया था। दरअसल, एमजीपी ने चुनाव पूर्व गठबंधन में अपने साथ टीएमसी को लिया था। लेकिन चुनाव नतीजे आते ही एमजीपी ने पाला बदला और बीजेपी को बिना किसी शर्त के समर्थन दे दिया। बीजेपी ने भी बदले में उसके विधायक को मंत्री बनाकर उस समर्थन का फल दे दिया। गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत के मंत्रिमंडल में शनिवार को तीन विधायकों ने मंत्री पद की शपथ ली। राज्यपाल पी एस श्रीधरन पिल्लई ने बीजेपी विधायक नीलकंठ हलारंकर, सुभाषफल देसाई और एमजीपी के वरिष्ठ विधायक रामकृष्ण उर्फ ​​सुदीन धवलीकर को शपथ दिलाई।
ताजा ख़बरें
इससे पहले पीएम मोदी की मौजूदगी में 28 मार्च को आयोजित समारोह में सावंत और आठ अन्य मंत्रियों ने शपथ ली थी। अब 12 दिनों बाद तीन मंत्रियों को शामिल किया गया। नए मंत्रियों को अभी तक उनके विभाग नहीं सौंपे गए हैं। सावंत कैबिनेट में कोई भी महिला मंत्री नहीं है। एमजीपी नेता धवलीकर को मंत्री बनाने का 20 बीजेपी विधायकों में से अधिकांश ने विरोध किया था। एमजीपी ने टीएमसी के साथ चुनाव पूर्व गठबंधन में चुनाव लड़ा था। तब बीजेपी ने गठबंधन को 'अपवित्र' करार दिया था। बीजेपी ने विधानसभा की 40 में से 20 सीटें जीतीं थी। उसे बहुमत से पांच सीटें कम मिलीं।
बीजेपी ने एमजीपी और तीन निर्दलीय विधायकों के समर्थन से सरकार बनाई। यही वजह है कि बीजेपी ने धवलीकर को मंत्रिमंडल में शामिल करने का फैसला किया। सुभाषफाल देसाई, जिन्हें पहले विधानसभा के उपाध्यक्ष के रूप में चुना गया था, ने शपथ ग्रहण समारोह से पहले शनिवार सुबह पद से इस्तीफा दिया। वो सावंत के करीबी माने जाते हैं। तिविम से तीन बार के विधायक हलारंकर, उन दस कांग्रेस विधायकों में शामिल थे, जिन्होंने 2019 में पार्टी को छोड़कर बीजेपी को समर्थन दिया था।

देश से और खबरें
एमजीपी पहले पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार का हिस्सा थी। पर्रिकर की मृत्यु के बाद सावंत सरकार का समर्थन करने के बाद धवलीकर को उपमुख्यमंत्री बनाया गया था। हालाँकि, 2019 में उनकी पार्टी के दो सहयोगियों और कांग्रेस से दस के बीजेपी में शामिल होने के बाद, बीजेपी को विधानसभा में पूर्ण बहुमत मिला लेकिन धवलीकर को सरकार से हटा दिया गया था।

एमजीपी का समर्थन 2024 में लोकसभा चुनाव में बीजेपी के लिए महत्वपूर्ण होगा। शपथ ग्रहण समारोह से पहले, अटकलें लगाई जा रही थीं कि सरकार बनाने के लिए बीजेपी का समर्थन करने वाले तीन निर्दलीय विधायकों में से एक को मंत्रिमंडल में शामिल किया जाएगा।

 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें