loader

पर्रिकर की टिप्पणी को ‘द हिन्दू’ ने क्यों नहीं छापा?

राहुल गाँधी की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद रफ़ाल विवाद ने एक रोचक मोड़ ले लिया है। समाचार एजेन्सी एएनआई ने अपने ट्विटर हैंडल पर रक्षा मंत्रालय की फ़ाइल का एक हिस्सा अपलोड किया है, जिसमें पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर की टिप्पणी नज़र आती है, जो उन्होंने रक्षा सचिव की टिप्पणी पर की थी। इस काग़ज से साफ़ है कि ‘द हिन्दू’ में छपी ख़बर में पर्रिकर की टिप्पणी का ज़िक्र नहीं है। इससे यह तो पता चलता है कि ‘द हिन्दू’ की ख़बर अधूरी है। एन. राम एक प्रतिष्ठित पत्रकार हैं, जिन्होंने बोफ़ोर्स तोप घोटाले पर काफ़ी सनसनीखेज जानकारियाँ लिखी हैं। एन. राम को वैसे इस सवाल का जवाब देना चाहिए कि उन्होंने पर्रिकर की टिप्पणी को अपनी ख़बर में जगह क्यों नहीं दी?

why did the hindu not include manohar parrikar note in his news on rafale? - Satya Hindi
हम आपको बता दें कि रक्षा सचिव ने फ़ाइल पर लिखा था, ‘आरएम (रक्षा मंत्री) कृपया इसे देखें। अच्छा हो कि प्रधानमंत्री कार्यालय इस तरह की बातचीत न करे क्योंकि इससे सौदा करने के मामले में हमारी स्थिति बहुत कमज़ोर हो जाती है।'

why did the hindu not include manohar parrikar note in his news on rafale? - Satya Hindi
फ़ाइल पर रक्षा सचिव ने अपनी टिप्पणी 1 दिसंबर 2015 को लिखी थी। तक़रीबन 40 दिनों के बाद यानी 11 जनवरी 2016 को रक्षा मंत्री मनोहर  पर्रिकर ने इस अपनी टिप्पणी दर्ज की। पर्रिकर ने लिखा, ‘शिखर बैठक के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय और फ़्रांस के राष्ट्रपति कार्यालय पूरे मामले की प्रगति पर लगातार नज़र बनाए हुए है।’ उन्होंने लिखा कि ‘पैरा 5 में ज़रूरत से अधिक प्रतिक्रिया व्यक्त की गई है। रक्षा सचिव प्रधानमंत्री के प्रमुख सचिव से बातचीत कर मामले को सुलझाएँ।’

why did the hindu not include manohar parrikar note in his news on rafale? - Satya Hindi
फ़ाइल के पैरा 5 में रक्षा उपसचिव ने यह लिखा था, ‘यह साफ़ है कि पीएमओ की समानान्तर बातचीत ने रक्षा मंत्रालय और भारत की तरफ से बात कर रही टीम की बातचीत को कमज़ोर किया है। हम प्रधानमंत्री कार्यालय को यह सलाह देते हैं कि जो लोग भारत की तरफ से बातचीत करने वाली टीम के सदस्य नहीं हैं, वे फ़्रांसीसी सरकार के अफ़सरों से समानान्तर बातचीत करने से बचें। अगर पीएमओ रक्षा मंत्रालय की ओर से बातचीत करने वाली टीम से संतुष्ट नहीं है तो प्रधानमंत्री कार्यालय ख़ुद बातचीत के लिए नई प्रक्रिया तय कर दे।’

why did the hindu not include manohar parrikar note in his news on rafale? - Satya Hindi
रक्षा मंत्रालय के इस नोट से साफ़ है कि उसके अफ़सर पीएमओ के सीधे बातचीत करने से संतुष्ट नहीं थे और उन्होंने यह भी कहा था कि अगर पीएमओ को उन पर भरोसा नहीं है, तो रक्षा मंत्रालय इस बातचीत से हट सकता है। रक्षा सचिव की टिप्पणी से साफ़ है कि रक्षा मंत्रालय इस मसले पर काफ़ी गंभीर था और वह चाहता था कि रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर इस मामले में दख़ल दें। 
मनोहर पर्रिकर ने इस मसले पर सीधे दख़ल देना उचित नहीं समझा या यह भी कहा जा सकता है कि उन्होंने पूरे मामले से किनारा करने की कोशिश की। इसके बजाय उन्होंने रक्षा सचिव को यह निर्देश दिया कि वह प्रधानमंत्री कार्यालय से अपने स्तर पर ही बातचीत कर मामले को सुलटा लें।
नरेंद्र मोदी न केवल देश के प्रधानमंत्री हैं, बल्कि इस वक़्त वह बीजेपी के सबसे बड़े नेता भी हैं। मोदी के बारे में यह मशहूर है कि वह इंदिरा गाँधी की तरह सारे मामले ख़ुद देखते हैं और उनके मंत्री महज़ कागज़ पर ही मंत्रालय के प्रमुख होते हैं। ऐसे में जब पीएमओ सीधे रक्षा मंत्रालय को बाईपास कर फ़्रांसीसी पक्ष से बातचीत कर रहा था, तो इसका मतलब साफ़ था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ख़ुद ऐसा चाहते थे और उनके कहने पर ही पीएमओ के संयुक्त सचिव जावेद अशरफ़ बात कर रहे थे। जैसे इंदिरा गाँधी के ज़माने में किसी मंत्री की यह हैसियत नहीं थी कि वह पीएमओ या प्रधानमंत्री के विवेक पर सवाल खड़े करे, वैसे ही मोदी सरकार में किसी मंत्री में इतनी हिम्मत नहीं है कि वह प्रधानमंत्री से अलग राय रखे और उनके उठाए कदम पर प्रश्न चिह्न लगाए। शायद यही कारण था कि मनोहर पर्रिकर ने रक्षा सचिव की चिंता को दरकिनार कर उन्हीं के ऊपर यह ज़िम्मेदारी डाल दी कि वह पीएमओ से बात कर इस मामले को सुलझाएँ। क़ायदे से रक्षा मंत्री के तौर पर पर्रिकर को ख़ुद प्रधानमंत्री मोदी से बात कर समाधान खोजना चाहिए था।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें