loader

ड्रग्स जाँच में अभिनेत्रियों के ही नाम क्यों? पहले तो अधिकतर नाम अभिनेता के आते थे!

सुशांत सिंह राजपूत मौत की जाँच से जुड़े ड्रग्स मामले में बॉलीवुड की कई बड़ी हस्तियों के नाम भी सामने आए हैं। ऐसा नहीं है कि अभिनेताओं या अभिनेत्रियों द्वारा नशा करने की बातें पहली बार सामने आ रही हैं। पहले भी ऐसे मामले आए हैं जिनमें कई हस्तियों के ड्रग्स और नशे की बुरी लत से जूझने की रिपोर्टें आई हैं। लेकिन हैरान करने वाली बात यह है कि पहले जहाँ अधिकतर अभिनेताओं के नाम आते रहे थे वहीं अब अधिकतर अभिनेत्रियों के नाम सामने आ रहे हैं। पहले के मामलों ने ऐसा तूल नहीं पकड़ा था लेकिन अब तूल पकड़ रहा है। तो सवाल है कि ताज़ा मामले में सिर्फ़ अभिनेत्रियों के ही नाम सामने क्यों आ रहे हैं और यह इतना तूल क्यों पकड़ रहा है?

अब तक रिया चक्रवर्ती और उनके भाई शौविक चक्रवर्ती के अलावा दीपिका पादुकोण, श्रद्धा कपूर, सारा अली ख़ान और रकुल प्रीत सिंह का नाम आ चुका है और इनको एनसीबी ने तलब किया है। इसके अलावा फैशन डिज़ाइनर सिमोन खंबाटा और दीपिका पादुकोण की मैनेजर करिश्मा प्रकाश का नाम आया। ये नाम तब सामने आए जब रिया चक्रवर्ती के पुराने वाट्सऐप मैसेज सामने आए। कहा गया कि उसमें कथित तौर पर दीपिका और उनकी मैनेजर करिश्मा का नाम था। दीया मिर्ज़ा का भी नाम सामने आ रहा है। इस मामले में क्वान टैलेंट मैनेजमेंट एजेंसी के सीईओ ध्रुव चितगोपेकर को भी एनसीबी ने तलब किया है। इन सभी लोगों से पूछताछ की जाएगी।

why ncb summoned actresses only in drugs probe in bollywood - Satya Hindi

सलमान ख़ान की सफ़ाई क्यों आई?

अब सलमान ख़ान का नाम उछाला जा रहा है। दरअसल, उनका नाम सीधे तौर पर ड्रग्स से जुड़ाव को लेकर नहीं है। उनके नाम को उस क्वान टैलेंट मैनेजमेंट एजेंसी से जोड़ा जा रहा है जिसके सीईओ ध्रुव चितगोपेकर को एनसीबी ने नोटिस जारी किया है। इस मामले में सलमान ख़ान की लीगल टीम ने एक बयान जारी किया है। लीगल टीम ने कहा, ‘मीडिया का एक हिस्‍सा ग़लत तरीक़े से रिपोर्ट कर रहा है कि हमारे क्लाइंट सलमान ख़ान की क्वान (KWAN) टैलेंट मैनेजमेंट एजेंसी प्राइवेट लिमिटेड में बहुमत हिस्सेदारी है। यह स्पष्ट किया जाता है कि सलमान ख़ान की कोई प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से KWAN या इसके किसी समूह में कोई हिस्सेदारी नहीं है। यह अनुरोध किया जाता है कि मीडिया हमारे क्लाइंट के बारे में झूठी ख़बरें प्रकाशित करने से परहेज करें।’ बता दें कि मैनेजमेंट कंपनी क्वान के साथ जया साहा और दिशा सालियान भी जुड़ी रही थीं और इसी कंपनी के साथ दीपिका पादुकोण की मैनेजर करिश्मा प्रकाश भी जुड़ी थीं। रिपोर्ट है कि अब एनसीबी इस बात पर जाँच कर रही है कि क्वान में किस-किस का पैसा लगा हुआ है।

करण जौहर की चर्चा क्यों?

बहरहाल, इन दिनों करण जौहर का एक वीडियो सोशल मीडिया पर काफ़ी शेयर किया जा रहा है। यह वीडियो साल 2019 में प्रोड्यूसर करण जौहर के घर पर हुई एक पार्टी का है। उस वीडियो को ख़ुद करण जौहर ने पिछले साल इंस्टाग्राम पर शेयर किया था। इस वीडियो में कई स्टार्स नज़र आ रहे थे, जिसमें दीपिका पादुकोण, वरुण धवन, विक्की कौशल, अर्जुन कपूर, मलाइका अरोड़ा, अयान मुखर्जी, रणबीर कपूर आदि शामिल थे। इस वीडियो के सामने आने के बाद सभी स्टार्स पर ड्रग्स लेने के आरोप लगे थे, लेकिन कुछ भी साबित नहीं हुआ था। विवाद को बढ़ता देख करण जौहर ने कहा था कि अगर मेरी पार्टी में ड्रग्स चल रही होती तो मैं वीडियो बनाकर क्यों शेयर करता।

ताज़ा ख़बरें

कंगना रनौत को एनसीबी ने क्यों नहीं भेजा समन?

इन दिनों कंगना का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें अभिनेत्री यह कहते हुए नज़र आ रही हैं कि वो ड्रग एडिक्ट थीं। इसी पर अभिनेत्री और कांग्रेस नेता नगमा ने एक ट्वीट किया और कहा, ‘एनसीबी ने कंगना रनौत को समन क्यों नहीं भेजा? जबकि कंगना ने ख़ुद स्वीकार किया है कि वो ड्रग्स लेती थीं। एजेंसी वाट्सऐप चैट के आधार पर बाक़ी अभिनेत्रियों को समन भेज सकती है। एजेंसी मीडिया के साथ जाँच को साझा कर बॉलीवुड की अभिनेत्रियों की छवि के साथ खिलवाड़ कर रही है।" इसके साथ ही नगमा ने ये ट्वीट करते हुए 2 तसवीरें भी साझा कीं जिसमें कंगना के नाम के आगे लिखा था, पहले सुशांत के लिए जस्टिस माँग रही थीं, अब एक्ट्रेस बॉलीवुड के ख़िलाफ़ पॉलिटिकल एजेंडा चला रही हैं, वहीं आईपीएस गुप्तेश्वर पांडेय पहले सुशांत के लिए न्याय माँग रहे थे और अब चुनाव लड़ने की तैयारी में हैं। इसके अलावा दूसरी तसवीर में लिखा है कि डायरेक्टर अनुराग कश्यप ने सरकार के ख़िलाफ़ बोला तो उनपर यौन उत्पीड़न का आरोप लगा, दीपिका पादुकोण जेएनयू के छात्रों के समर्थन में आईं तो उनका नाम ड्रग्स मामले में आ गया, एक्ट्रेस दीया मिर्ज़ा ने सरकार के ख़िलाफ़ बोला तो उनका भी नाम लिया जा रहा है और आगे लाइन में स्वरा भास्कर, अनुभव सिन्हा और ऋचा चड्ढा हैं।

why ncb summoned actresses only in drugs probe in bollywood - Satya Hindi
देश से और ख़बरें

पहले ड्रग्स मामले में फँसे थे ये सितारे-

संजय दत्त

ड्रग्स मामले में सबसे पहला और जाना माना नाम अभिनेता संजय दत्त का आता है। एक वक़्त था जब संजू बाबा को नशे की बुरी लत लगी थी और उन्हें इसके लिए जेल भी जाना पड़ा था। इस बात को कई बार संजय दत्त ने इंटरव्यू में भी बताया है और उनकी बायोपिक फ़िल्म संजू में भी इसे दिखाया गया है। संजय दत्त लड़कियों से बात नहीं कर पाते थे और किसी ने कहा कि हिम्मत के लिए ड्रग्स लो। उन्होंने ड्रग्स लेना शुरू कर दिया। आलम यह हुआ कि उन्हें नशे की बुरी लत लग गई थी और इसका खामियाजा दिवंगत एक्टर सुनील दत्त को भुगतना पड़ा था। उस वक़्त नरगिस अमेरिका में कैंसर का इलाज़ करवा रही थीं और उसी दौरान संजय दत्त नशे की जकड़ में आ चुके थे। हाल यह था कि जब भी वह अपनी माँ से मिलने जाते थे तो 1 किलो कोकीन अपने जूतों में छुपाकर ले जाते थे, तब ज़्यादा चैकिंग नहीं होती थी। 1982 में उनके पास से कोकीन पकड़ी गई थी और उन्हें 17 महीने की सज़ा मिली थी। हालाँकि वो 5 महीनों में ही छूट गए और काफ़ी समय उन्हें एक विदेशी नशा मुक्ति केन्द्र में बिताना पड़ा था। इसके बाद संजय दत्त ने लोगों को नशे की लत से दूर रहने के लिए जागरूक भी करना शुरू किया था।

why ncb summoned actresses only in drugs probe in bollywood - Satya Hindi

प्रतीक बब्बर

अपने ज़माने की मशहूर अभिनेत्री रहीं और अपनी माँ स्मिता पाटिल का निधन उनके बेटे और अभिनेता प्रतीब बब्बर के लिए काफ़ी तनाव भरा था। उसके बाद से ही प्रतीक को नशे की बुरी लत लग गई। रिपोर्टों उन्होंने 13 साल की उम्र में पहली बार ड्रग्स का सेवन किया था और उसके बाद हर तरीक़े के नशीले पदार्थों का उन्होंने सेवन किया। प्रतीक बब्बर की नशे की बुरी लत से उनके पिता और परिवार परेशान हो चुका था। इसके बाद उन्हें नशा मुक्ति केंद्र भेजा गया। प्रतीब बब्बर ने अपनी पूरी कहानी एक कॉलम में लिखकर साझा की थी।

why ncb summoned actresses only in drugs probe in bollywood - Satya Hindi

महेश भट्ट

डायरेक्टर महेश भट्ट फ़िल्म इंडस्ट्री का एक जाना माना नाम है और सुशांत सिंह राजपूत केस में भी उनका नाम कई बार सामने आ चुका है लेकिन इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता कि महेश भट्ट भी नशे का शिकार रहे हैं। एक इंटरव्यू में महेश भट्ट ने कहा था कि वो बहुत बुरे तरीक़े से नशे का शिकार थे और लत से छुटकारा पाने के लिए ओशो रजनीश के आश्रम में जाना पड़ गया था। 

why ncb summoned actresses only in drugs probe in bollywood - Satya Hindi

फरदीन ख़ान

अभिनेता फरदीन ख़ान उस वक़्त ड्रग्स मामले में चर्चा में आ गये थे जब उन्होंने 1 ग्राम कोकीन खरीदने की बात कबूल ली थी। साल 2001 में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के इंटेलिजेंस अधिकारी को यह सूचना मिली थी कि एक ड्रग पैडलर जुहू में किसी को कोकीन बेचने आ रहा है। ड्रग पैडलर कोकीन लेकर पहुँचा और वहाँ मौजूद ऑफिसर्स ये देखकर हैरान थे कि ड्रग खरीदने वाला और कोई नहीं बल्कि फरदीन ख़ान थे। ड्रग पैडलर के पास से 9 ग्राम कोकीन पकड़ी गई थी जबकि अभिनेता ने कहा था कि उन्हें सिर्फ़ 1 ग्राम कोकीन ही खरीदनी थी। ड्रग पैडलर को 5 साल की सज़ा हुई और अभिनेता को नशा मुक्ति कोर्स के लिए अस्पताल में भर्ती किया गया था।

why ncb summoned actresses only in drugs probe in bollywood - Satya Hindi
फ़िल्मी दुनिया की ग्लैमरस चकाचौंध के पीछे कई बड़े कारनामे छिपे होते है जिसमें से एक ड्रग्स का एंगल अब सामने आया है। कुछ लोग आरोप लगाते हैं कि अगर सही से जाँच हो तो आधा बॉलीवुड इस मामले में सलाखों के पीछे होगा। जबकि अभी जिस तरह से जाँच हो रही है उसमें सिर्फ़ अभिनेत्रियों के नाम ही सामने आ रहे हैं। इस केस में एनसीबी एक-एक करके सभी से पूछताछ करने जा रही है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
दीपाली श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें