loader

भारत-चीन बातचीत जारी, पर पैंगोंग त्सो, डेपसांग से पीछे हटेगी चीनी सेना?

वास्तविक नियंत्रण रेखा के पार चुशुल स्थित चीनी चौकी पर भारतीय और चीनी सेना में कमांडर स्तर की बातचीत शुरू हो चुकी है। पर महत्वपूर्ण सवाल यह है कि क्या पीपल्स लिबरेशन आर्मी पैंगोंग त्सो झील के किनारे और डेपसांग के इलाक़ों को खाली कर देगा। 
यह सवाल अहम इसलिए भी है कि चीनी सेना अब तक इस मुद्दे पर कोई बात करने को ही तैयार नहीं थी। मंगलवार की यह बातचीत बेहद पेचीदी और कठिन होगी, इसलिए समझा जाता है कि एक ही दिन में कोई समाधान नहीं निकलेगा और शायद इसके बाद भी कई दौर की बातचीत हो।
देश से और खबरें
उत्तरी कमान के 16वीं कोर के कमांडर लेफ़्टीनेंट जनरल हरिंदर सिंह चुशुल स्थित चीनी चौकी दिन के करीब 11.30 पहुँचे। पीएलए के दक्षिण शिनजियांग सैन्य ज़िले के कमांडर मेजर जनरल लिउ लिन ने उनका स्वागत किया। शुरुआती औपचारिकताओं के बाद आगे की बातचीत शुरू हो चुकी है। समझा जाता है कि बातचीत का यह दौर शाम तक चलेगा।

केंद्र में है पैंगोंग त्सो

यह बातचीत पैंगोंग त्सो और डेपसांग के इलाक़े खाली करने को लेकर हो रही है। यह दोनों ही सेनाओं के लिए अहम है, पर भारत के लिए अधिक महत्वपूर्ण इसलिए है कि चीनी सेना ने पैंगोंग त्सो के फ़िंगर 4 से फिंगर 8 तक के इलाक़े पर कब्जा कर लिया है। उसने फिंगर 4 से आगे का रास्ता काट दिया है और भारत के सैनिक फिंगर 4 से आग नहीं जा सकते, वे उसके आगे गश्त नहीं लगा सकते।
मौजूदा संकट शुरू होने के पहले  भारत के सैनिक फिंगर 4 से फिंगर 8 तक की गश्त लगाया करते थे। चीन के सैनिक भी इस इलाके की गश्त किया करते थे और दोनों को एक दूसरे की जानकारी होती थी। लेकिन इस बार चीनी सेना चुपके से आई और गश्त लगाने के बाद नहीं लौटी, वह वहीं जम कर बैठ गई और संगर (पत्थर की दीवाल) जैसी संरचनाएं बना लीं।

पूरा तैयार है चीन

पैंगोंग त्सो झील के किनारे-किनारे पहाड़ियाँ हैं, ऊँची चोटियां है और ऊपर से देखने पर वे हाथ की अंगुलियों की तरह दिखती हैं। इसलिए इसका नाम 8 फिंगर्स है। पीपल्स लिबरेशन आर्मी ने फिंगर 4 से फिंगर 8 के बीच ऊँची चोटियों पर कब्जा कर लिया है, वहाँ अपना कैंप या बेस बना लिया है। वहाँ चीनी सैनिक बड़ी तादाद में मौजूद हैं, उनके साजो सामान हैं। 
चीन का जमावड़ा इतना मजबूत है कि वह छोटी अवधि की लड़ाई लड़ सकता है। आर्टिलरी यानी तोपखाने की मदद भी चीनी सैनिकों को मिल सकती है क्योंकि चीनी सेना का जमावड़ा वहाँ से बहुत दूर नहीं है, जो उनके इलाक़े में ही है।

डोभाल-वांग यी बात

भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल और चीनी विदेश मंत्री वांग यी के बीच पिछले हफ़्ते हुई बातचीत में यह तय हुआ था कि दोनों सेनाएं दूसरे इलाक़ों से भी पीछे हटें और इसके लिए उनके कमांडर फिर बात करें। मंगलवार की बात इस परिप्रेक्ष्य में ही रही है।
सबसे बड़ा सवाल यह है कि क्या चीन पैंगोंग त्सो और डेपसांग से अपने सैनिक वापस बुला लेगा? 
पर्यवेक्षकों का कहना है कि चीनी सैनिकों के लौटने की संभावना फिलहाल बेहद कम है और इन इलाकों को चीनियों के हाथ से लेना भारत के लिए बहुत मुश्किल काम होगा।
इसकी सबसे बड़ी वजह यह है कि इस इलाक़े के लेकर दोनों देशों के बीच पहले भी विवाद रहा है। चीनी सैनिक इन जगहों की गश्त पहले भी करते थे। उनका दावा है कि यह पूरा इलाक़ा ही उनका है।

ज़मीनी हक़ीक़त

ज़मीनी हक़ीक़त यह है कि पैंगोंग त्सो के किनारे भारत का अंतिम सैनिक बेस फिंगर फोर के पास है, जो इंडो टिबेटन बॉर्डर पुलिस (आईटीबीपी) की चौकी है। भारत का कहना है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा इसके भी आगे यानी फिंगर 6 से गुजरती है यानी वहाँ तक भारतीय इलाक़ा है। चीन का कहना है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा फिंगर फोर के भी पहले यानी फिंगर टू से गुजरती है। भारत के पास अपना दावा साबित करने के लिए पुराने नक्शे और फोटोग्राफ़्स हैं तो चीन के पास भी हैं।
दूसरा कारण रणनीतिक है। चीन ने एक बार जब ऊँची चोटियों पर कब्जा कर लिया है जहाँ से वह नीचे बड़े आराम से निगरानी रख सकता है तो उससे यह उम्मीद करना अव्यावहारिक होगा कि वह वहां से हट जाए।
Will chinese army withdraw from pangong tso and depsang? - Satya Hindi
डेपसांग में पोस्टर के साथ चीनी सैनिक 2013 में।

डेपसांग का बुरा हाल

डेपसांग की स्थिति और बुरी है। वहाँ पहले भी चीनी सेना घुसपैठ कर चुकी है। पीएलए के एक पूरे प्लाटून ने 15 अप्रैल 2013 को डेपसांग तक पहुँच कर भारतीय सेना को चौंका दिया था। चीनी सेना ने दौलत बेग ओल्डी से सिर्फ 30 किलोमीटर दूर रुकी नला में अपना कैंप लगा दिया था। लंबी बातचीत के बाद 5 मई को चीनी सैनिक वहां से हटे थे।
भारत ने कहा था कि चीनी सेना उनके इलाक़े में 10 किलोमीटर अंदर तक आ गई थी। भारत और चीन के बीच 1993 और 1996 में जो दो क़रार हुए थे, उसके अनुसार एलएसी उस जगह से 19 किलोमीटर दूर है, जहाँ होने का दावा चीनी सेना करती है।

डेपसांग का रणनीतिक महत्व

डेपसांग का रणनीतिक महत्व यह है कि यह दौलत बेग ओल्डी के नज़दीक है, जहाँ भारतीय वायु सेना का एअर बेस है। यह एअर बेस इतना सक्षम है कि यहाँ सबसे बड़े परिवहन विमान हर्क्यूलस को उतारा जा चुका है।
लेकिन डेपसांग का इलाक़ा अक्साई चिन के भी नज़दीक है, जिस पर चीन का कब्जा है। यहाँ भारतीय सेना की मौजूदगी चीन के लिए दिक्क़त पैदा कर सकती है, क्योंकि अक्साई चिन से हाईवे गुजरता है जो तिब्बत को शिनजियांग से जोड़ता है। इसके अलावा यहां से कराकोरम दर्रा नज़दीक है और उसी दर्रे से कराकोरम हाईवे गुजरता है जो पाकिस्तान को शिनजियांग से जोड़ता है। यही हाईवे आगे चल कर चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे से मिलता है। यह आर्थिक गलियारा पाकिस्तानी प्रांत बलोचिस्तान के ग्वादर बंदरगाह तक पहुँचता है।
डेपसांग और पैंगोंग त्सो पर बातचीत इसलिए ही पेचीदी और अहम है। यह भारत और चीन दोनों के लिए महत्वपूर्ण है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
प्रमोद मल्लिक
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें