loader
अयोध्या में बुधवार को गर्भ गृह का शिलान्यास करते सीएम योगी आदित्यनाथ

योगी की अयोध्या यात्रा क्या 2024 चुनाव से जुड़ी है?

आम चुनाव 2024 के मद्देनजर अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की तैयारियां तेजी से जारी हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का इसी के मद्देनजर बुधवार को अयोध्या में बहुत व्यस्त कार्यक्रम रहा। योगी के अयोध्या यात्रा के काफी निहितार्थ देखे जा रहे हैं। राम मंदिर निर्माण जब शुरू हुआ तो उस समय पीएम मोदी ने इसकी शुरुआत की थी। लेकिन उसके बाद मंदिर निर्माण से जुड़ी हर महत्वपूर्ण गतिविधि में योगी खुद मौजूद होते हैं। बुधवार को गर्भ गृह का पत्थर रखा जाना था। योगी खुद अयोध्या पहुंचे। 2024 में आम चुनाव है। इस चुनाव में राम मंदिर निर्माण एक मुद्दा हो सकता है। बुधवार को अयोध्या यात्रा के दौरान उन्होंने मंदिर बनाने वाली कमेटी से कहा कि निर्माण तेज गति से किया जाए।
योगी सरकार की पूरी कोशिश में है कि दिसम्बर 2023 तक कम से कम मंदिर का आधा काम निपटा दिया जाए, ताकि हिन्दू मतदाताओं के सामने कुछ तो पेश किया जा सके।
ताजा ख़बरें
इसी कड़ी में योगी ने बुधवार को राम मंदिर के गर्भगृह के पत्थर का शिलान्यास किया। उन्होंने पूजा भी की। योगी ने पूजा करते हुए कहा कि 500 साल की निरंतर साधना (प्रयास) आखिरकार सिद्धि में बदल गई है। राम मंदिर का पूजन अयोध्या में भगवान राम के भव्य मंदिर के तेजी से निर्माण के मार्ग में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है। यह न केवल एक 'राष्ट्रीय मंदिर' होगा, बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 'एक भारत श्रेष्ठ भारत' अभियान के तहत देश को एक सूत्र में बांधने की ताकत भी बनेगा। सीएम ने हनुमानगढ़ी का दौरा भी किया।

सीएम योगी ने कहा, आक्रमणकारियों ने अपने नापाक इरादों और दुर्भावनापूर्ण इरादे से भारतीयों के विश्वास पर हमला किया, हमारे देश के सपनों को चकनाचूर कर दिया, लेकिन आखिरकार, भारत विजयी हुआ। सत्यमेव जयते का महत्व एक बार फिर साबित हुआ है।

उन्होंने संतों और अयोध्या राम जन्मभूमि आंदोलन के पूर्व प्रभारी स्वर्गीय अशोक सिंघल के संघर्ष और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और उसके लाखों कार्यकर्ताओं के प्रयासों को भगवान राम मंदिर के भव्य निर्माण को साकार करने के लिए स्वीकार किया।

देश से और खबरें
सीएम ने कहा, अगर हम धर्म और सच्चाई के रास्ते पर चलेंगे तो हमें विजयी होने से कोई नहीं रोक सकता। अयोध्या में भव्य मंदिर का निर्माण कार्य चल रहा है। आज अयोध्या धाम में आने वाला कोई भी भक्त या पर्यटक मंदिर के भव्य रूप को देख कर धन्य महसूस करता है। मुख्यमंत्री ने कहा, प्रधानमंत्री ने जब भगवान राम के मंदिर का शिलान्यास किया था, तब भी मैंने कहा था कि 500 ​​साल में हमारी पीढ़ी सौभाग्यशाली है कि मंदिर बनते देखा।

बड़ी घोषणाइस मौके पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राम मंदिर क्षेत्र में शराब की सभी दुकानों के लाइसेंस रद्द कर दिए। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया है कि इस इलाके में शराब या कोई भी नशीला पदार्थ नहीं बिकने पाए। इस इलाके के साधु भी बहुत दिनों से शराब की बिक्री पर रोक लगाने की मांग कर रहे थे।

बीजेपी में अयोध्या के मुद्दे पर अब तक कई चुनाव जीते हैं। 2024 का आम चुनाव जीतने के लिए भी अब अयोध्या को ही मोहरा बनाया जा रहा है। मंदिर निर्माण का हिस्सा 2023 कर पूरा होने पर बीजेपी को बताने के लिए बहुत कुछ होगा। हालांकि 2024 का आम चुनाव बीजेपी पीएम मोदी के नेतृत्व में ही लड़ना पसंद करेगी लेकिन यदि संघ के निर्देश पर बीजेपी नेतृत्व परिवर्तन करती है तो योगी आदित्यनाथ एक प्रमुख दावेदार होकर उभरेंगे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें