loader

बजट 2019 की मुख्य बातें

  • पेट्रोल, डीज़ल पर एक रुपए प्रति लीटर का अतिरिक्त सेस लगेगा। 
  • आयकर की दरों में कोई बदलाव नहीं। सालाना दो करोड़ तक की आय पर कोई अतिरिक्त चार्ज नहीं, 2 से 5 करोड़ तक की आमदनी पर 3 प्रतिशत सरचार्ज,  5 करोड़ रुपये से अधिक की आमदनी पर 7 प्रतिशत सरचार्ज।
  • आयकर रिटर्न भरने के लिए पैन कार्ड की ज़रूरत नहीं। आधार कार्ड से भी भर सकते हैं रिटर्न। 
  • आवास कर्ज़ में 3.50 लाख रुपए तक ब्याज पर आयकर में छूट। 
  • स्टार्ट अप पर आयकर की जाँच नहीं। घर बेच कर स्टार्ट अप में निवेश करने पर टैक्स में छूट। एंजेल  टैक्स में बड़ी राहत
  • 400 करोड़ रुपए तक कारोबार करने वाली कंपनियों के लिए कारपोरेट टैक्स घट कर 25 प्रतिशत
  • इलेक्ट्रिक गाड़ियों पर जीएसटी 12 प्रतिशत से घटा कर 5 प्रतिशत कर दिया जाएगा। 
  • 5 साल में प्रत्यक्ष कर वसूली में 78 प्रतिशत की बढ़ोतरी
  • ढाँचागत सुविधाओं के विकास के लिए 100 करोड़ रुपये खर्च किए जाएँगे। 
  • 1, 2, 5, 10, 20  रुपये के नए सिक्के बाज़ार मे आएँगे। 
  • एअर इंडिया के विनिवेश की प्रक्रिया फिर शुरू की जाएगी। 
  • 4 लाख करोड़ रुपये के कर्ज़ की वसूली की गई, बैंकों के एनपीए में 1 लाख करोड़ रुपये की गिरावट आई। 
  • हर महिला के जन धन खाते में 5,000 रुपये का ओवरड्राफ्ट। महिलाओं को मुद्रा योजना के तहत 1 लाख रुपये तक का कर्ज़ मिल सकेगा। 
  • 1 करोड़ युवाओं को स्किल इंडिया के तहत प्रशिक्षण दिया जाएगा। कौशल विकास के लिए टॉप संस्थानों को 400 करोड़ रुपए दिए जाएँगे। ऑनलाइन कोर्स को बढ़ावा दिया ाजएगा।
  • छोटे शहरों को रेल लाइनों से जोड़ा जाएगा। रेलवे में निजी कंपनियों को प्रोत्साहित किया जाएगा। 
  • 'एक राष्ट्र कार्ड' परियोजना जल्द ही शुरू किया जाएगा। इसके तहत तमाम तरह के परिवहन का भुगतान एक कार्ड से किया जा सकेगा। 
  • हर पंचायत को इंटरनेट से जोड़ा जाएगा। हर साल 2 करोड़ लोगों को डिजिटली साक्षर बनाया जाएगा। 
  • सरकार गाँवों में हर घर तक पीने का पानी पहुँचाया जाएगा। 
  • कृषि क्षेत्र के विकास के लिए बड़ा निवेश किया जाएगा, डेरी को बढ़ावा दिया जाएगा, 10 हज़ार किसानोें का उत्पादक संघ बनेगा। 
  • साल 2022 तक हर किसी को  बिजली, गैस और घर मुहैया कराया जाएगा। 
  • मीडिया, नागरिक उड्डयन और एनीमेशन में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश को बढ़ावा देने पर विचार 
  • सरकार और अधिक प्रत्यक्ष विदेशी निवेश यानी एफ़डीआई लाने की कोशिश करेगी। 
  • किराए पर मकान देने को बढ़ावा दिया जाएगा। 
  • रेलवे में निजी भागीदारी बढ़ाई जाएगी। वहाँ पी-पी-पी यानी प्राइवेट पब्लिक पार्टनरशिप पर ज़ोर दिया जाएगा। 
  • जल मार्गों और बिजली से चलने वाली गाड़ियों को बढ़ावा दिया जाएगा।
  • चालू साल के अंत तक अर्थव्यवस्था 3 खरब डॉलर की हो जाएगी। 
  • बीते 5 साल में अर्थव्यवस्था में 1 खरब डॉलर जोड़े गए। 
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ख़ास ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें