loader

बजट 2021 : तीन राज्य 'सेस' के खिलाफ़, केंद्र की लूट बताया

तीन राज्य सरकारों ने बजट 2021 में लगाए गए कृषि अधिभार (एग्रीकल्चरल सेस) का विरोध करते हुए इसे संघीय ढाँचे के ख़िलाफ़ बताया है और कहा है कि इससे केंद्र-राज्य रिश्तों पर बुरा असर पड़ेगा। इन राज्यों का कहना है कि सेस की वजह से राज्यों की कमाई कम हो जाएगी और उनके आर्थिक हित प्रभावित होंगे। 

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट 2021 में कृषि अधिभार लगाया है, मसलन, पेट्रोल पर 4 रुपए और डीज़ल पर 2.50 रुपए प्रति लीटर सेस लगाया गया है।

ख़ास ख़बरें

राज्यों का विरोध

लेकिन सीतारमण ने यह भी कहा कि इससे इन उत्पादों की कीमत नहीं बढ़ेगी। इसका उपाय यह किया गया है कि इन पर लगने वाले उत्पाद कर व सीमा शुल्क में कटौती कर दी गई है। उत्पाद कर व सीमा शुल्क का एक हिस्सा राज्य को मिलता है। इसमें कटौती किए जाने से राज्यों को मिलने वाले पैसे में कमी हो जाएगी, जबकि वह पैसा सेस के रूप में केंद्र को ही मिलेगा। 
पश्चिम बंगाल, ओडिशा और छत्तीसगढ़ की सरकारों ने इसका विरोध किया है। ये तीनों ही ग़ैर-बीजेपी शासित राज्य हैं, पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस, ओडिशा में बीजू जनता दल और छत्तीसगढ़ में बीजेपी की सरकार है।

संघीय ढाँचे के ख़िलाफ़

अनुमान है कि वित्तीय वर्ष 2021-22 में केंद्रीय अधिभार के रूप में 30,000 करोड़ रुपए की उगाही की जा सकेगी। 15वें वित्त आयोग की सिफ़ारिशों के अनुसार यह पूरा पैसा केंद्र को मिलेगा। दूसरी ओर, केंद्र द्वारा वसूले गए करों का 41 प्रतिशत राज्यों के बीच बाँट जाता है। 

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने एक वीडियो मैसेज में कहा कि "सेस के जरिए कर वूसली का केंद्रीयकरण किया जा रहा है, इससे केंद्र-राज्य संबंध कमज़ोर होंगे।"

पश्चिम बंगाल के वित्त मंत्री अमित मित्रा ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को चिट्ठी लिख कर सेस का विरोध किया है। उन्होंने पत्रकारों से बात करते हुए कहा,

"केंद्र को सेस से हिस्सा राज्यों को नहीं देना होता है। जब मौजूदा सरकार 2014 में सत्ता में आई तो केंद्रीय सेस कुल राजस्व का 2.5 प्रतिशत था, यह बढ़ कर 16 प्रतिशत हो गया है।"


अमित मित्रा, वित्त मंत्री, पश्चिम बंगाल

'केंद्र की लूट'

उन्होंने यह भी कहा कि इससे केंद्र की मंशा साफ है, वह राज्यों को मिलने वाले पैसे से हिस्सा मार रही है। 

पश्चिम बंगाल के सत्तारूढ़ दल तृणमूल कांग्रेस के सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने इसे 'संघवाद की लूट' क़रार दिया। 

छत्तीसगढ़ के वाणिज्यिक कर मंत्री टी. सिंह देव ने केंद्रीय सेस का विरोध करते हुए कहा, 

"इससे राज्यों को नुक़सान होगा, उनका राजस्व कम होता जाएगा और राज्य राजस्व के अपने वाजिब हक़ से वंचित होते जाएंगे।"


टी. सिंह देव, वाणिज्यिक कर मंत्री, छत्तीसगढ़

उन्होंने इसके आगे कहा कि "यह राज्यों का हक़ मारने का तरीका है, केंद्र इस तरह की चालबाजी करता आया है।" 

छत्तीसगढ़ के वाणिज्यिक कर मंत्री ने कहा, "यह राज्यों के बजट को छोटा करने के समान है। पहले केंद्र ने दावा किया कि राज्यों को मिलने वाले पैसे को 32 प्रतिशत से बढ़ा कर 42 प्रतिशत कर दिया गया, पर ऐसा कभी नहीं हुआ। केंद्र ने राज्यों की कोई योजनाओं को बंद कर दिया।" 

कृषि अधिभार यानी एग्रीकल्चरल सेस कपास, सोना, सेब, शराब, तेल, कोयला, चना दाल, काबुली चना, दाल, पेट्रोल और डीज़ल पर लगाया गया है। यह सेस 1.5 प्रतिशत से 100 प्रतिशत तक लगाया गया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें