loader

चीनी कंपनी के ठिकानों पर छापे, एक हज़ार करोड़ के घपले का आरोप

ऐसे समय जब चीनी उत्पादों के बहिष्कार की मांग पूरे देश में हो रही है और चीनी कंपनियों के लिए काम करना मुश्किल होता जा रहा है, आयकर विभाग के अफ़सरों ने एक चीन कंपनी के ठिकानों पर छापे मारे हैं। एक चीनी आनुषांगिक कंपनी पर 1,000 करोड़ रुपए के मनी-लॉन्ड्रिंग का आरोप लगाया गया है। उसके एक चीनी अधिकारी के यहां भी छापे मारे गए हैं।

24 जगहों पर छापे

एनडीटीवी की एक ख़बर के अनुसार, सेंट्रल बोर्ड ऑफ़ डाइरेक्ट टैक्सेज़ के लोगों ने दिल्ली, ग़ाज़ियाबाद और गुड़गाँव  में लगभग दो दर्जन जगहों पर छापे मारे। सीबीडीटी के एक अफ़सर ने एनडीटीवी से कहा, ‘एक चीनी आनुषंगिक कंपनी ने फ़र्जी कंपनियां खोल कर सेल्स ऑफ़िस खोलने के नाम पर 100 करोड़ रुपए से ज़्यादा के क़र्ज़ कई बैंकों से ले लिए।’ 
अर्थतंत्र से और खबरें
सीबीडीटी का यह भी कहना है कि कुछ चीनी नागरिक और उनके कुछ भारतीय सहयोगियों ने बड़े पैमाने पर हवाला कारोबार किया और मनी-लॉन्ड्रिंग की। 

हिरासत में चीनी नागरिक

पुलिस ने उस चीनी नागरिक को हिरासत में ले लिया है। उसने खुद को भारतीय बताया था और भारतीय पासपोर्ट में स्वयं को मणिपुर का रहने वाला बताया था। पर उसका वह पासपोर्ट जाली पाया गया। 
इसकी पूरी संभावना है कि उस चीनी नागरिक को औपचारिक रूप से गिरफ़्तार कर लिया जाए, आगे की जाँच और पूछताछ प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी करे। 
सीबीडीटी ने एक बयान में कहा है कि कुछ चीनी नागरिकों और उनके भारतीय सहयोगियों ने अलग अलग लोगों के नाम से 40 बैंक खाते खुलवाए और कुल मिला कर 1,000 करोड़ रुपए के क़र्ज़ भारतीय बैंकों से उठा लिए।
अभी यह पता नहीं चल सका है कि इसके पीछे सिर्फ उस चीनी नागरिक का हाथ है या चीन के दूसरे लोग, सरकारी एजन्सी या कॉरपोरेट जगत के बड़े लोग भी उसके पीछे हैं।
यह विवाद ऐसे समय खड़ा हुआ है जब चीनी कंपनियों के ख़िलाफ़ देश में माहौल बना हुआ है। चीन के 59 ऐप्स को प्रतिबंधित कर दिया गया है, चीनी कंपनियों को काम करने में दिक्कत हो रही है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें