loader

भारत की विकास दर गिर कर 6.8% हो जाएगी, रेटिंग एजेंसी फ़िच का अनुमान

चँहुमुखी विकास के लम्बे-चौड़े दावे करने वाली नरेंद्र मोदी सरकार के लिए चुनाव के ठीक पहले बुरी ख़बर है। अंतरराष्ट्रीय रेटिंग एजेंसी फ़िच ने कहा है कि वित्तीय वर्ष 2019-2020 के दौरान भारत का सकल घरेलू उत्पाद 6.8 प्रतिशत की दर से बढ़ेगा। यानी, इसका विकास दर पहले के अनुमान से कम होगा। यह अनुमान ऐसे समय लगाया गया है जब मोदी सरकार ने विकास दर बढ़ा हुआ दिखाने के लिए इसके आधार वर्ष यानी बेस ईयर को ही बदल दिया था। इसके अलावा मोदी सरकार पर कई तरह के ज़रूरी आँकड़ों से छेड़छाड़ करने के आरोप भी लगे हैं। ताज़ा उदाहरण बेरोज़गारी के डाटा को पहले छुपाने और उसके बाद उससे छेड़छाड़ का है। ऐसे में फ़िच का एलान सरकार के लिए शुभ तो नहीं ही है। 
चालू वित्तीय वर्ष की तीसरी तिमाही के सरकारी आँकड़ों की घोषणा से ठीक पहले दुनिया की जानी मानी आर्थिक रेटिंग संस्था फ़िच रेटिंग्स ने अपने 'ग्लोबल इकनॉमिक आउटलुक' में भारत के बारे में कहा है कि वित्तीय वर्ष 2019-20 में हमारी विकास दर 6.8% ही रहेगी।

पहले अनुमान था कि विकास दर 7.1% रह सकती है। विश्व बैंक ने इसके बारे में 7.5%का अनुमान लगाया था, लेकिन ख़ुद भारत सरकार के स्टेटेस्टिक्स और प्रोग्राम इम्पलीमेंटेशन मंत्रालय ने जबसे 2018-19 की दूसरी तिमाही के नतीजे को 6.6% बताया, दुनियाँ चौंक पड़ी और सब अपने काग़ज़ दुरुस्त करने लगे। पहली तिमाही में यह दर 7% थी। 

भारत की विकास दर दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी आबादी वाले देश होने के कारण बड़ा आकार लेती जा रही है और कुछ ही सालों में यूरोप के उन देशों को पार कर जायेगी, जिनकी आबादी व अर्थव्यवस्था लगभग स्थिर है। हमारे राजनेता इसकी शेखी भी बघार लिया करते हैं कि हम छठवीं-सातवीं अर्थव्यवस्था हैं।
हालॉकि इधर हमारे जीडीपी के ऑकड़ों पर दुनिया में इस धंधे के विशेषज्ञों को संदेह होना शुरू हुआ है। चीन के बारे में तो पश्चिम की बाक़ायदा यह पुख़्ता धारणा है कि उनके आर्थिक ऑकड़े पैडेड यानी बढ़ा-चढ़ा कर पेश किए हुए होते हैं। एकाधिकारवादी देश होने के कारण वहाँ से सही आँकड़े निकालना किसी के लिये भी मुश्किल है। भारत में खुद सत्तारूढ़ दल के सांसद सुब्रह्मण्यण स्वामी कह चुके हैं कि हमारे विकास के ऑकड़े से भी छेड़छाड़ किए गए हैं। एनएसएसओ के बेरोज़गारी से संबंधित ऑकड़ों को मोदी सरकार ने छिपा ही लिया।
इस साल जीडीपी के 7% के आस पास रह जाने के अनुमानों के चलते सभी एजेंसियाँ वर्ष 2019-2020 के बारे में भी अपने पहले के आकलन में बदलाव कर रही हैं। विश्व बैंक ने 2020 की जीडीपी के लिए 7.5% की विकास दर का अनुमान लगाया था।
भारतीय रिज़र्व बैंक का अनुमान है कि वित्तीय वर्ष 2019- 2020 के दौरान सकल घरेलू उत्पाद में विकास की दर 7.4% रहेगी। लेकिन अब कोई भी अंतरराष्ट्रीय एजेंसी इसे 7% से ज्यादा मानने को तैयार नहीं है। नोमुरा नामक जापानी ब्रोकरेज एजेंसी इसे 7 फ़ीसदी पर ही रोक रही है, जबकि फ़िच रेटिंग्स का अनुमान 6.8%का है। 

2017-18 में हमारी विकास दर 7.2% थी। सरकार का अनुमान है कि इस साल  के अंत में हम यहाँ तक जा पहुँचेंगे। 

हमारी अर्थव्यवस्था में निर्माण, सर्विसेज़, रक्षा उत्पादन, पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन, मैन्युफ़ैक्चरिंग, बिजली वितरण, गैस, पानी वितरण आदि ही वे क्षेत्र हैं, जहाँ से 7 फ़ीसद या ज्यादा की विकास दर की उम्मीद है। कृषि में यह 2.7%, माइनिंग में 1.2% और ट्रांसपोर्ट व कम्युनिकेशन आदि में 6.8% तक दर्ज हो रही है। मैन्युफ़ैक्चरिंग सेक्टर से निराशाजनक प्रदर्शन की ख़बरों ने दुनिया को निराश किया है। इसकी वजह से निवेश दर बेहद कम हो रही है। निर्यात घटा हुआ है जबकि आयात बढ़ गया है। इससे अर्थव्यवस्था धीमी हो रही है। फ़िलहाल चुनाव का वक़्त है और दूसरे शोर इस सूचना को दबा ले जायेंगे, पर फिर भी इस चेतावनी को दर्ज किया जाना ज़रूरी है कि विकास का पहिया भँवर में है!

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
शीतल पी. सिंह
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें