loader

दूध की कीमतों में उबाल, खाद्य वस्तुओं की कीमतें बढ़ने का सबूत!

पूरे देश में प्याज तो कड़वा था ही, अब दूध की कीमतों में भी उबाल आ गया है, जिससे आम लोगों की जेब पर काफी दबाव बढ़ा है। ‘अमूल’ और ‘मदर डेरी’ ब्रांड की दूध सहकारी संस्थाओं ने पैकेज्ड दूध की कीमत प्रति लीटर 3 रुपए बढ़ा दी है। यह बढ़ोतरी ऐसे समय हुई है जब पहले से ही देश की अर्थव्यवस्था के ख़राब होने और उत्पादन कम होने की ख़बरे चल रही थीं। 
गुजरात को-ऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फ़ेडरेशन (जीसीएमएमएफ़) ‘अमूल’ ब्रांड के दूध की आपूर्ति करता है जबकि नैशनल डेरी डेवलपममेंट बोर्ड (एनडीडीबी) ‘मदर डेरी’ ब्रांड के दूध की सप्लाई के व्यवसाय में है। इन दोनों ने ही प्लास्टिक की थैली में पैकेज किए हुए टोन्ड दूध की कीमत प्रति लीटर 3 रुपए कर दी है। अब टोन्ड दूध बाज़ार में 48 रुपए प्रति लीटर बिक रहा है। 

अर्थतंत्र से और खबरें

बढ़ी कीमतें नहीं गिरेंगी

पर्यवेक्षकों का कहना है कि दूध की कीमत में बढ़ोतरी इसलिए भी महत्वपूर्ण है कि इससे यह संकेत मिल रहा है कि खाद्य उत्पादों की कीमतें एक बार फिर बढ़ने लगी हैं, जो तरन्त नहीं रुकेंगी। प्याज और दूध में यहीं अंतर है।
प्याज की कीमत नई फसल के आते ही गिर जाएगी और स्थिति सामान्य होने लगेगी। पर दूध की कीमत एक बार बढ़ी है तो यह कम नहीं होगी। यह कीमत पहले स्थिर रहेगी और उसके बाद बढ़ भी सकती है।

पहले भी बढ़ी थीं दूध की कीमतें

अगर इसे राजनीतिक रूप से देखा जाए तो यह नहीं कह सकते कि इस सरकार में दूध की कीमतें बहुत बढ़ी हैं। पिछली सरकार में भी दूध की कीमतें बढ़ी थीं और वह बढ़ोतरी इससे कम नहीं थी। इसे इससे समझा जा सकता है कि कांग्रेस की अगुआई वाली यूपीए सरकार के दौरान फरवरी 2010 में टोन्ड दूध की कीमत 24 प्रति लीटर थी, जो फरवरी 2014 में 36 रुपए प्रति लीटर थी। उस समय से अब तक 46 रुपए प्रति लीटर हो गई है। इसी तरह फुल क्रीम दूध की कीमत 2010 में 30 रुपए थी जो बढ़ कर 2014 में 46 रुपए और अब 56 रुपए प्रति लीटर हो गई। 
दूध की बढ़ी कीमतों को उपभोक्ता खाद्य महंगाई दर से जोड़ कर देखा जा रहा है, जो नवंबर में 10.01 पर पहुँच गई। साल 2013 के बाद पहली बार हुआ है कि खाद्य वस्तुओं की महंगाई दर दहाई अंक में है।

किसानों को मिले अधिक पैसे

दूध की कीमतें बढ़ने की एक बड़ी वजह यह है कि गुजरात को-ऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फ़ेडरेशन को साल 2018-19 में पहले की तुलना में तकरीबन 5-6 प्रतिशत कम दूध मिला। यह स्थिति उस समय हुई है जब जीसीएमएमएफ़ ने प्रति किलो वसा की कीमतों में 100 रुपए से 110 रुपए तक की वृद्धि की है। उसने 30 लाख दूध उत्पादकों को यह बढ़ी हुई कीमत दी है, पर उसकी दूध उगाही पहले से कम हुई है। 

महंगाई की मार किसानोें पर भी

एक दूसरी चिलचस्प बात समय भी है, जब दूध की क़िल्लत हुई है और कीमतें बढ़ी हैं। अप्रैल से अक्टूबर तक के समय को दूध के लिए बेहतर माना जाता है, जिस समय दूध का उत्पादन ज़्यादा होता है यानी गाय-भैंस अधिक दूध देती हैं। इसकी वजह यह है कि उस समय चारा आसानी से उपलब्ध होता है और तापमान व आर्द्रता भी कम रहती है। लेकिन इस बार लगभग उसी समय ज़ोरदार बारिश होने से चारागाह लंबे समय तक पानी में डूबे रहे, जिससे चारा की कमी हो गई।
हालांकि किसानों ने चारा की कीमत अधिक चुकाई, खल्ली, चोकर और भूसे की कीमत भी बढ़ गई। इसके बावजूद चारा पूरा नहीं मिलने से दूध कम हुआ।
दूध की कीमतें बढ़ना केंद्र सरकार के लिए चिंता की बात है। मामला सिर्फ़ दूध तक सीमित नहीं है, प्याज का भी मामला नहीं है। मामला यह है कि लोगों में यह संदेश जा रहा है कि एक ओर देश में आर्थिक मंदी है, आमदनी कम हो रही है तो दूसरी ओर महंगाई बढ़ रही है। लोग अपने आप को दो पाटों के बीच फँसा हुआ पा रहे हैं। 

केंद्र सरकार के मंत्री भले ही कहें कि एक फ़िल्म की कमाई  100 करोड़ रुपए होने से सफ़ है कि मंदी नहीं है, या दूसरे मंत्री कहें कि ट्रेन में भीड़ है तो कैसे कह रहे हैं कि मंदी चल रही है, पर सच यह है कि  लोगों को ऐसा लग रहा है कि आर्थिक स्थिति ख़राब है। भले ही प्रधानमंत्री अर्थव्यवस्था पर सवाल उठाने वालों को ‘प्रोफ़ेशनल पेसीमिस्ट’ क़रार दें और कहें , कि ‘सब चंगा सी’ दूध और प्याज की कीमतें बता रही हैं कि सबकुछ चंगा नहीं है।  

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें