loader

मुंबई में पेट्रोल 95 रुपये लीटर, फिर भी खामोशी क्यों!

देश की संसद और राजनीति आन्दोलनजीवी, परजीवी और क्रोनीजीवी जैसे शब्दों के तर्क-कुतर्क पर उलझी हुई है, जबकि आम आदमी महँगाई की मार से दोहरा होता जा रहा है। प्याज और सब्जी के आकाश छूते दाम, नए साल में 16 बार पेट्रोल - डीज़ल के भाव बढ़ गए, लेकिन इसकी चर्चा न संसद में है न ही अपने आप को मुख्यधारा का कहने वाले तथाकथित मीडिया के स्टूडियो में। 

ख़ास ख़बरें

अख़बारों के पन्नों पर भी आम आदमी की व्यथा को कोई जगह नहीं है।

अख़बारों के पन्नों पर भी आम आदमी की व्यथा को कोई जगह नहीं है। गैस सिलिंडर के भाव 10 या पाँच रुपये बढ़ जाने पर प्रधानमंत्री को घेरने, चूड़ियाँ भेजने वाले नेता तथा 10 रूपये का पेट्रोल खरीद कर गाड़ी जला देने के ट्वीट करने वाले नायक, महानायक सभी खामोश हैं।

अर्थव्यवस्था पर असर?

सरकारी कागजों में अर्थव्यवस्था के गुलाबी आँकड़े पेश करने वाले यह बताने से कन्नी काट रहे हैं कि महंगे ईंधन का अर्थव्यवस्था पर क्या असर पड़ेगा। 

चीन और पश्चिमी देशों से व्यावसायिक प्रतिस्पर्धा में पिछड़ने के लिए सस्ती श्रम शक्ति की वकालत करने वाले भी खामोश हैं कि महंगे ईंधन की वजह से वे उन देशों के मुक़ाबले बाज़ारू प्रतिस्पर्धा में कैसे टिक पाएंगे। कुल मिलाकर देश का आम आदमी परेशान है। 

शुक्रवार सुबह जो पेट्रोल डीजल के भावों में वृद्धि हुई है वह क्रमशः 29 व 35 पैसे की हुई है। नए साल यानी 2021 में यह 16 वीं बार वृद्धि हुई है। इन वृद्धि के कारण पेट्रोल और डीज़ल में क़रीब 4.23 रुपए तथा 4 रुपये की वृद्धि हो चुकी है। मुंबई में शुक्रवार को पेट्रोल का भाव 94.64 तथा डीजल का भाव 85.32 रुपये प्रति लीटर हो गया है। दिल्ली में यह भाव क्रमशः 88.14 तथा 78. 38 रुपये है। पेट्रोल- डीज़ल के भावों में वृद्धि का कारण अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में क्रूड ऑयल की क़ीमतों को बताया जाता है। 

petrol prices, diesel prices, crude oil prices up, no agitation against inflation - Satya Hindi

तेल का खेल

गुरुवार को कच्चे तेल का भाव 61.64 डॉलर प्रति बैरल था, जिसमें 0.33 डॉलर की वृद्धि हुई। पेट्रोल डीजल की कीमतों में वृद्धि को लेकर को ख़बरें मीडिया में सुर्खियाँ बनती थी, वह साल 2013-14 का समय हुआ करता था। उस दौर में कच्चे की कीमतें 100 डॉलर प्रति बैरल से ऊपर रहा करती थी। उस समय बीजेपी जो विपक्ष में थी, पेट्रोल की कीमतों को लेकर आंदोलन करती थी। 

पिछले 6 साल से बीजेपी सत्ता में है और पेट्रोल पर 23.78 तथा डीजल पर 28.37 रुपए प्रति लीटर की एक्साइज़ ड्यूटी में वृद्धि की है। यानी पेट्रोल की एक्साइज़ ड्यूटी में 258 प्रतिशत तथा डीजल के एक्साइज शुल्क में 820 फ़ीसदी की बढ़ोतरी कर दी है।

केंद्र सरकार ने पिछले 6 साल में पेट्रोल- डीजल पर लगने वाली एक्साइज़ ड्यूटी से क़रीब 20 लाख करोड़ कमाया है। कुछ समय पहले कांग्रेस पार्टी ने इस शुल्क को लेकर केंद्र सरकार पर आरोप भी लगाया था, लेकिन कोई आंदोलन खड़ा नहीं किया।

भारत में पेट्रोल और डीज़ल पर कर दुनिया के किसी भी देश के मुक़ाबले सर्वाधिक बताया जाता है। इटली में 64 फ़ीसदी, फ्रांस और जर्मनी में 63 तथा ब्रिटेन में करीब 53 फ़ीसदी कर ईंधन पर वसूला जाता है, लेकिन हमारे देश में यह इससे भी ज़्यादा है। हमारे देश में क़रीब 70 फ़ीसदी टैक्स देना पड़ता है।

पेट्रोल और डीज़ल पर शुल्क बढ़ाने का क्या असर पड़ता है, इसका अनुमान इसी से लगाया जा सकता है कि इन पर 1 रुपए प्रति लीटर शुल्क बढ़ाने पर सरकार को 13,000 से 14,000 करोड़ रुपए अतिरिक्त हर साल मिलता है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजय राय
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें