loader

अर्थव्यवस्था को सहारा, म्युचुअल फंड कंपनियों को 50 हज़ार करोड़ देगा आरबीआई

यदि आपने म्युचुअल फंड में निवेश कर रखा है तो आपके लिए एक अच्छी ख़बर है। भारतीय रिज़र्व बैंक ने म्युचुअल फंड की कंपनियों को 50 हज़ार करोड़ रुपए देने का फ़ैसला किया है। यह पैसा उन कंपनियों का नकदी संकट दूर करने के लिए दिया जाएगा।

यह एलान ऐसे समय हुआ है, जब अमेरिकी म्युचुअल फंड फ्रैंकलिन टेम्पलटन ने भारत में चलने वाली अपनी कई स्कीमों को बंद कर दिया है। कंपनी ने नकदी संकट का हवाला देते हुए 23 अप्रैल से ये स्कीमें बंद कर दीं हैं। 

अर्थतंत्र से और खबरें

रिज़र्व बैंक के इस एलान को व्यापार जगत और ख़ास कर पूंजी बाज़ार का मनोबल बढ़ाने वाले कदम के रूप में देखा जा रहा है। समझा जाता है कि इससे उन म्युचुअल फंड कंपनियों को फ़ायदा होगा, जिन्होंने बॉन्ड वगैरह में अधिक पैसा लगा रखा है, उन्हें भुगतान करना पड़ा है और उनके पास नकद पैसे नहीं हैं। 

पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने आरबीआई के इस निर्णय का स्वागत किया है। 

शेयर बाज़ार ने रिज़र्व बैंक के इस फ़ैसले का स्वागत किया है। बंबई स्टॉक एक्सचेंज का संवेदनशील सूचकांक सेंसेक्स और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का सूचकांक निफ़्टी तेजी से ऊपर चढ़ा। 

याद दिला दें कि इसके पहले केंद्र सरकार ने कोरोना और लॉकडाउन को देखते हुए 1.70 लाख करोड़ रुपए के विशेष राहत पैकेज का एलान किया था। 

Satya Hindi Logo लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा! गोदी मीडिया के इस दौर में पत्रकारिता को राजनीति और कारपोरेट दबावों से मुक्त रखने के लिए 'सत्य हिन्दी' के साथ आइए। नीचे दी गयी कोई भी रक़म जो आप चुनना चाहें, उस पर क्लिक करें। यह पूरी तरह स्वैच्छिक है। आप द्वारा दी गयी राशि आपकी ओर से स्वैच्छिक सेवा शुल्क (Voluntary Service Fee) होगा, जिसकी जीएसटी रसीद हम आपको भेजेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें