loader

1400 अंक गिरा सेंसेक्स, शेयर बाज़ार में डूबे 6 लाख करोड़ रुपये

शेयर बाज़ार शुक्रवार को औंधे मुँह गिरा। हफ़्ते के आख़िरी क़ारोबार में सेंसेक्स में 1,448.37 अंकों यानी 3.64 फ़ीसदी की गिरावट आई और यह 38,297.29 पर बंद हुआ। इससे क़रीब शेयर बाज़ार को छह लाख करोड़ का नुक़सान हुआ है।

सेंसेक्स में गिरावट का दौर शेयर बाज़ार खुलने के साथ ही शुरू हो गया था। इसमें कुछ मिनटों के अंदर ही 1000 अंकों की गिरावट आ गई थी। निफ़्टी में भी ज़बरदस्त गिरावट आई। शुरुआती पाँच मिनट के क़ारोबार में क़रीब 4 लाख करोड़ रुपये का नुक़सान हो गया था। सुबह साढ़े दस बजे तक सेंसेक्स में 1,131.64 अंकों यानी 2.85 फ़ीसदी की गिरावट आई थी।

ताज़ा ख़बरें

शेयर बाज़ार के लिए यह सप्ताह का आख़िरी दिन था। वैश्विक स्तर पर शेयर बाज़ार में बिकवाली का दौर रहा और पूरे बाज़ार पर ऐसी मायूसी छाई कि इसने साल 2008 की मंदी के बाद सबसे बड़ी साप्ताहिक गिरावट की स्थिति में पहुँचा दिया। 

पिछले पाँच दिनों में सेंसेक्स में क़रीब 2000 अंकों की गिरावट आई है। बीते पाँच सत्रों की गिरावट में घरेलू शेयर बाज़ार के निवेशक क़रील 12 लाख करोड़ रुपये की दौलत गँवा चुके हैं।

अर्थतंत्र से और ख़बरें
शेयर बाज़ार में इस गिरावट का कारण कोरोना वायरस के कारण फैला डर और अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में मायूसी है। दुनिया भर में कोरोना वायरस का कहर जारी है। इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टेड्रोस अधानोम घेब्रेयेसस ने कहा है कि जैसे यह वायरस विकसित देशों में फैलता जा रहा है यह महामारी का रूप ले सकता है। 24 घंटे में दस नये देशों में कोरोना वायरस से प्रभावित लोगों की पुष्टि हुई है। इससे प्रभावित देशों की संख्या 55 हो गई है। इस वायरस से अब तक 2800 से ज़्यादा मौतें हो गई हैं और 83000 से ज़्यादा लोगों में इस वायरस की पुष्टि हुई है। कोरोना वायरस ने क़ारोबारी जगत को भी झकझोर कर रख दिया है।
इन्हीं आशंकाओं के बीच अमेरिकी शेयर बाज़ारों में ज़बरदस्त बिकवाली दर्ज की गई। डाव जोन्स ने 4.42 फ़ीसदी तक का गोता लगाया, जबकि एसएंडपी 500 इंडेक्स में भी 4.42 फ़ीसदी और नेस्डेक कंपोजिट में 4.61 फ़ीसदी की गिरावट दर्ज की गई।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें