loader

सुप्रीम कोर्ट की कमेटी ने सौंपी कृषि क़ानूनों पर रिपोर्ट

अब जबकि दिल्ली के पास चल रहे किसान आन्दोलन के चार महीने पूरे हो चुके हैं, कृषि क़ानूनों के अध्ययन करने के लिए सुप्रीम कोर्ट की बनाई कमेटी ने अपनी रिपोर्ट अदालत को सौप दी है।

एनडीटीवी ने कमेटी के सदस्य अनिल घनावत के हवाले से कहा है कि कमेटी ने 19 मार्च को बंद लिफाफे में अपनी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट के हवाले कर दी। 

कमेटी क्यों?

बता दें कि 12 जनवरी, 2020 को सुप्रीम कोर्ट ने एक अहम आदेश में तीनों कृषि क़ानूनों पर अगले आदेश तक के लिए रोक लगा दी थी। इसके साथ ही अदालत ने एक चार-सदस्यीय कमेटी के गठन का एलान किया। इस कमेटी को पहली बैठक से दो महीने में अपनी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को देनी थी।

क्या कहा था अदालत ने?

कोर्ट ने कहा कि यदि किसान समस्याओं का समाधान चाहते हैं तो उन्हें इस कमेटी के सामने आकर अपनी बात कहनी ही होगी। सर्वोच्च न्यायालय ने इसके साथ ही कड़ा रुख अख़्तियार करते हुए कहा कि उसे कमेटी गठित करने का अधिकार है और उसके तहत ही ऐसा कर रही है। 

लेकिन किसानों ने इस कमेटी को सिरे से खारिज कर दिया था। किसान संगठनों ने कहा था कि सुप्रीम कोर्ट की प्रस्तावित कमेटी के सभी सदस्य इन क़ानूनों के पक्षधर हैं, उन्होंने कई बार इन क़ानूनों का समर्थन किया है और इसलिए उनकी निष्पक्षता संदेह से परे नहीं है।

पंजाब किसान यूनियन के एक नेता ने एनडीटीवी से कहा, हम कमेटी को स्वीकार नहीं करेंगे, इसके सभी सदस्य सरकार के समर्थक हैं और कृषि क़ानूनों को उचित ठहराते रहे हैं।

कौन थे कमेटी में

सरकार की प्रस्तावित कमेटी के लिए सुप्रीम कोर्ट ने जिन लोगों के नाम की सिफ़ारिश की है वे हैं, भारतीय किसान यूनियन के भूपिंदर सिंह मान, शेतकरी संगठन के अनिल घनावत, प्रमोद कुमार जोशी और कृषि अर्थशास्त्री अशोक गुलाटी। 

शेतकरी संगठन के अनिल घनावत ने कहा था कि उनका संगठन जिन चीजों की माँग लंबे समय से करता रहा है, इन कृषि क़ानूनों में वह आंशिक रूप से पूरा होता है। इसमें सुधार करने की ज़रूरत है। 

उन्होंने ठेके पर खेती और दूसरे कृषि सुधारों का समर्थन करते हुए कहा कि सबसे पहले इन सुधारों की माँग बहुत पहले शेतकरी संगठन के शरद जोशी ने की थी। 

प्रस्तावित कमेटी के दूसरे सदस्य भूपिंदर सिंह मान भी कृषि कानूनों का समर्थन कर चुके हैं। कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ आन्दोलन चला रहे क्रांतिकारी किसान यूनियन के दर्शन पाल ने कहा, "मैं भूपिंदर सिंह मान को जानता हूँ, वे पंजाब से हैं और वह कृषि मंत्री से मिलकर कानून का समर्थन कर चुके हैं।" बाद में मान ने खुद को कमेटी से अलग कर लिया था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें