loader

यस बैंक से निकासी पर रोक से एक दिन पहले किसने निकाले 265 करोड़ रुपए?

क्या यह सिर्फ़ संयोग है कि यस बैंक से पैसे निकालने की अधिकतम सीमा 50 हज़ार रुपए हर महीने का एलान होने के ठीक एक दिन पहले किसी ने अपने खाते से 265 करोड़ रुपए एक बार में ही निकाल लिए?

क्या है मामला?

वडोदरा स्मार्ट सिटी डेवलपमेंट कंपनी ने यह काम किया। इसकी पुष्टि हो चुकी है। कंपनी के एक आला अफ़सर ने नाम न छापने की शर्त पर सत्य हिन्दी को बताया कि 29 फरवरी को कंपनी की बोर्ड मीटिंग हुई। उसमें यह फ़ैसला लिया गया कि यस बैंक से पूरे पैसे निकाल लिए जाएं।
अर्थतंत्र से और खबरें
उस अधिकारी ने यह भी कहा कि हमें पता था कि यस बैंक की स्थिति अच्छी नहीं है और इसके साथ कभी भी कुछ भी हो सकता है। इसके मद्देनज़र यह फैसला लिया गया और पूरी रकम यानी 265 करोड़ रुपए निकाल लिए गए।
उसके अगले ही दिन यस बैंक से पैसे निकालने पर रोक लग गई। उस आला अफ़सर ने कहा कि हम भाग्यशाली रहे, वर्ना हमारा भी पैसा फंसा रह सकता था। वडोदरा स्मार्ट सिटी डेवलपमेंट कंपनी ने पूरे पैसे बैंक ऑफ़ बड़ोदा में जमा करा दिए। 
यह कंपनी वडोदरा नगरपालिका की कंपनी है और पूरी तरह सरकारी नियंत्रण में है। उसे स्मार्ट सिटी परियोजना के लिए ये पैसे केंद्र सरकार से अनुदान के रूप में मिले थे।
इसी तरह आंध्र प्रदेश के तिरुमला तिरुपति देवस्थानम ट्रस्ट बोर्ड ने भी अपने पूरे पैसे यानी 1,300 करोड़ रुपए यस बैंक से एक दिन में ही निकाल लिए।
इसी तरह आंध्र प्रदेश के तिरुमला तिरुपति देवस्थानम ट्रस्ट बोर्ड ने भी अपने पूरे पैसे यानी 1,300 करोड़ रुपए यस बैंक से एक दिन में ही निकाल लिए।
जमाकर्ताओं के लिए चिंता का सबब यह है कि रिज़र्व बैंक ने यस बैंक से महीने भर में अधिकतम 50 हज़ार रुपए निकालने की सीमा तय कर दी है। यह सीमा 3 अप्रैल तक लागू रहेगी। केंद्रीय बैंक ने यह छूट ज़रूर दे रखी है कि मेडिकल इमर्जेंसी की स्थिति में  यस बैंक से अधिकतम 5 लाख रुपए निकाले जा सकते हैं। 
रिज़र्व बैंकं के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा है कि अधिकतम पैसे निकालने की सीमा तय करने का फ़ैसला सर्वोच्च स्तर पर लिया गया है। इसके साथ ही मुख्य आर्थिक सलाहकार कृष्णमूर्ति सुब्रमणियन ने कहा है कि सभी जमाकर्ताओं के पैसे सुरक्षित हैं और किसी को चिंता करने की कोई ज़रूरत नहीं है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें