loader

खुदरा के बाद अब थोक महंगाई दर 16 साल के रिकॉर्ड स्तर पर

एक दिन पहले ही खुदरा महंगाई दर बढ़ने की ख़बर आई थी और अब थोक महंगाई दर बढ़ी है। नवंबर महीने में यह थोक महंगाई दर इतनी ज़्यादा रही कि यह 16 सालों में सबसे ज़्यादा है। मंगलवार को सरकार ने यह आँकड़ा जारी किया है। खाने के तेल और डीजल-पेट्रोल के महंगे होने के बीच अब थोक महंगाई की ख़बर चिंता पैदा करने वाली है। यह आम आदमी के लिए तो है ही और सरकार के लिए भी। सरकार के लिए इसलिए कि अगले कुछ महीनों में ही पाँच राज्यों में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। विपक्षी दल कांग्रेस ने महंगाई को मुद्दा बनाना शुरू कर दिया है। जयपुर में कांग्रेस ने 'महंगाई हटाओ महारैली' कर अपनी चुनावी रणनीति साफ़ कर दी है।

ताज़ा ख़बरें

थोक महंगाई अक्टूबर में 12.54 फ़ीसदी थी जो नवंबर में बढ़कर 14.23 प्रतिशत हो गई। इस साल अप्रैल से शुरू होकर लगातार आठ महीने से थोक मूल्य सूचकांक मुद्रास्फीति यानी महंगाई दहाई अंक में बनी हुई है। 

वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय ने एक बयान में कहा है कि मुद्रास्फीति की उच्च दर मुख्य रूप से खनिज तेलों, बुनियादी धातुओं, कच्चे पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस, रसायन उत्पादों और खाद्य पदार्थों की क़ीमतों में वृद्धि के कारण है।

ईंधन और बिजली की कीमतें 39.81 प्रतिशत बढ़ीं जबकि अक्टूबर महीने में यह 37.18 प्रतिशत बढ़ी थीं। विनिर्मित उत्पाद की कीमतों में 11.92 प्रतिशत की वृद्धि हुई, जबकि पिछले महीने में यह 12.04 प्रतिशत थी।

आर्थिक विश्लेषक इन उत्पादों के महंगे होने का कारण कोरोना बाद के हालात को बताते हैं। 
दरअसल, हुआ यह है कि पिछले साल कोरोना के कारण तगड़े झटके और लॉकडाउन के बाद से दुनिया भर में कारोबार और बाक़ी कामकाज पहले धीरे धीरे और अब तेज़ी से वापस पटरी पर लौटता दिख रहा है।

इसी वजह से कोयले, तेल और गैस की मांग भी बढ़ रही है। दूसरी तरफ़ सप्लाई लाइन उतनी तेजी से पटरी पर लौटी नहीं है। कच्चा माल और तैयार माल फैक्टरियों तक और बाज़ार तक पहुँचने में जैसी बाधाएँ आ रही हैं वैसी ही मुश्किलें तेल और गैस के मामले में भी हैं। 

अर्थतंत्र से और ख़बरें
बता दें कि एक दिन पहले यानी सोमवार को खुदरा महंगाई दर के आँकड़े जारी किए गए थे। अक्टूबर महीने की तुलना में खुदरा महंगाई की दर बढ़ी है। नवंबर में खुदरा महंगाई दर बढ़कर 4.91 फीसदी हो गई है जबकि यह अक्टूबर में 4.48 फीसदी थी। सितंबर महीने में महंगाई दर 4.35 फ़ीसदी थी। इन आँकड़ों से साफ़ है कि महीने-दर-महीने खुदरा महंगाई दर बढ़ी है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें