loader

धर्मसंकट : हादसा होने पर बिना ड्राइवर की कार किसको बचाए?

बिना ड्राइवर की कार से अगर ऐक्सीडेंट होगा, तो कार किसे बचाएगी - कार के अन्दर बैठी सवारी को या सड़क पर जा रहे व्यक्ति को? यह सवाल बहुत टेढ़ा है, लेकिन फिर भी कार जिस सॉफ़्टवेयर से चलेगी, आख़िरकार उसके लॉजिक में इस सवाल का कोई साफ़-साफ़ जवाब तो भरना ही पड़ेगा।क्योंकि कम्प्यूटर विवेक से नहीं चलते, बल्कि वह तो अपने कम्यूटर प्रोग्राम के उस तर्क से काम करते हैं जो सॉफ़्टवेयर बनाते समय उसके डेटा बेस में भरा गया था।तो सवाल यह है कि मान लीजिए कि कार सड़क पर चल रही है, अचानक कोई सामने आ गया, ग़लत ढंग से सड़क पार कर रहा हो या कोई और वजह हो, अब कार क्या करेगी? कार का कम्प्यूटर प्रोग्राम यह भाँप लेता है कि दुर्घटना बस होने ही वाली है, लेकिन वह क्या करे? कार को किस दिशा में ले जाए? कार के सामने जो आदमी आ गया है, उसे बचाने के लिए कार को किसी और तरफ़ मोड़े, जहाँ उसकी टक्कर किसी और चीज़ से हो सकती है, किसी और कार से या किसी मकान से या पास से गुज़र रही किसी बाइक से वह टकरा सकती है, ऐसे में कार के अन्दर बैठे लोगों की जान पर बन सकती है। तो क्या कार सड़क पर अचानक सामने आ गएआदमी को बचाए या फिर अपनी सवारियों को बचाए और सामने आ गए आदमी को कुचलते हुए सीधे चली जाए?बिना ड्राइवर की कार बनाने वाली कम्पनियाँ इस और ऐसे कई सवालों से जूझ रही हैं। इसलिए वे अब इन सवालों पर लाखों लोगों से राय ले रही हैं। इसके लिए ऑनलाइन सर्वेक्षण किये जा रहे हैं और तरह-तरह की सम्भावित विकट स्थितियों को पेश कर लोगों से उनके जवाब पूछे जा रहे हैं।
दुर्घटना में यदि किसी का जीवन बचा सकने की सम्भावना हो तो बिना ड्राइवर वाली कार को क्या करना चाहिए? क्या उसे युवा लोगों को बचाना चाहिए या बूढ़ों को? क्या उसे तन्दुरुस्त आदमी को बचाना चाहिए या किसी विकलांग या कमज़ोर व्यक्ति को?
क्या हमेशा ही कार को यह देखना चाहिए कि वह कम लोगों के बजाय ज़्यादा लोगों की जान बचाने को प्राथमिकता दे? बहुत-से लोगों के जवाब इन कम्पनियों को मिल भी गए हैं। मोटे तौर पर तीन सिद्धांत उभर कर सामने आए हैं। एक यह कि जानवरों के बजाय मनुष्यों के जीवन को प्राथमिकता दी जाए। दूसरे यह कि दुर्घटना होने पर जिस उपाय से ज़्यादा लोगों की जान बचती हो, कार को वह उपाय अपनाना चाहिए। और तीसरा यह कि बच्चों को बचाने को प्राथमिकता देनी चाहिए।

इन सवालों पर लोगों की राय एक जैसी नहीं 

लेकिन दिक़्क़त यह है कि दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में इन सवालों पर लोगों की राय एक जैसी नहीं है। फ़्रान्स और फ़्रेंच प्रभावित इलाकों और लैटिन अमेरिकी देशों में महिलाओं को बचाने में प्राथमिकता देने पर ज़ोर है। साथ ही इन इलाक़ों में लोगों का यह भी कहना है कि कमज़ोर और हट्टे-कट्टे में से किसी एक को बचाने का विकल्प हो, तो हट्टे-कट्टे व्यक्ति को ही बचाया जाना चाहिए। इन सवालों पर 'मॉरल मशीन' नाम की प्रश्नावली 2016 में दस भाषाओं में ऑनलाइन जारी की गई थी। अठारह महीनों में मिले लाखों जवाबों का अध्ययन कर अब अन्तिम निष्कर्ष निकाले जा रहे हैं। बिना ड्राइवर की कार सड़क पर उतरे, इसके पहले इन सवालों के सर्वसम्मत जवाब पाना ज़रूरी है।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जानो नयी बात से और खबरें

ख़ास ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें