loader
फ़ाइल फ़ोटो

पाक की हरक़तों का मुंहतोड़ जवाब, गोलीबारी में 5 जवान शहीद 

दहशतगर्दी पर उतारू पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान अपनी नापाक हरक़तों से बाज़ नहीं आ रहा है। कई बार भारत के हाथों मुंह की खा चुका दुश्मन मुल्क़ लगातार सीजफायर का उल्लंघन कर रहा है। लेकिन भारतीय जवानों ने उसे मुहंतोड़ जवाब दिया है। शुक्रवार को हुई गोलीबारी में भारत के 5 जवान देश की रक्षा के लिए शहीद हो गए। इनमें एक कैप्टन भी शामिल हैं। 

जम्मू-कश्मीर के उत्तरी इलाक़ों में लाइन ऑफ़ कंट्रोल (एलओसी) पर पाकिस्तानी सेना ने शुक्रवार को सीमा पार से मोर्टार से गोले दागे। इसमें बारामुला जिले के नंबाला सेक्टर में भारत के जाबांज जवान शहीद हो गए। इसके अलावा बॉर्डर सिक्योरिटी फ़ोर्स का एक सब इंस्पेक्टर भी शहीद हो गया जबकि हाजी पीर सेक्टर में एक जवान घायल हो गया। 

अफ़सरों के मुताबिक़, बारामुला जिले के उरी इलाक़े के कमलकोट सेक्टर में दो भारतीय नागरिकों की मौत हो गई। भारत ने पाकिस्तान के दुस्साहस का जोरदार जवाब दिया और उसके कई सैनिकों को मार गिराया है। 

ताज़ा ख़बरें
पीटीआई के मुताबिक़, सेना के अफ़सरों ने कहा कि पाकिस्तानी सेना के 6-7 जवानों को मौत के घाट उतार दिया गया है और 10-12 जवान घायल हुए हैं। इसके अलावा पाकिस्तानी सेना के कई बंकर और लॉन्चपैड को भी भारतीय सेना ने तबाह कर दिया। भारतीय सेना ने इसके वीडियो भी जारी किए हैं। 

इन वीडियो में देखा जा सकता है कि भारत की एंटी टैंक मिसाइलों और रॉकेटों ने उड़ी, नौगांव, तंगधार, केरल और गुरेज सेक्टर में पाकिस्तान बंकरों को निशाना बनाया। इसके अलावा पाकिस्तान के आयुध और तेल डिपो की इमारतों को भी ध्वस्त किया गया है। 

पीटीआई के मुताबिक़, सेना ने कहा है कि उड़ी के अलावा बांदीपोरा के गुरेज सेक्टर और कुपवाड़ा के केरन सेक्टर में भी पाकिस्तान की ओर से सीज़फायर का उल्लंघन किया गया है। सेना के प्रवक्ता ने कहा है कि भारतीय जवानों ने एलओसी पर केरन सेक्टर से घुसपैठ की कोशिशों को विफल कर दिया।  

सेना के प्रवक्ता ने कहा कि पाकिस्तान की ओर से यह एक हफ़्ते में घुसपैठ की दूसरी कोशिश थी। इससे पहले 7-8 नवंबर को माछिल सेक्टर में घुसपैठ की कोशिश की गई थी लेकिन भारतीय जवानों ने उसे भी विफल कर दिया था। 

जम्मू-कश्मीर से और ख़बरें

दहशतगर्दी पर बेनक़ाब हुआ पाक

पुलवामा हमले में अपना हाथ होने के आरोपों से इनकार करता रहा पाकिस्तान कुछ दिन पहले अपने ही एक मंत्री के बयान के बाद बेनक़ाब हो गया था। इमरान ख़ान की हुकूमत के मंत्री फ़वाद चौधरी ने कहा था, ‘पुलवामा में जो हमारी क़ामयाबी है, वो इमरान ख़ान की क़यादत में इस कौम की क़ामयाबी है, उसके हिस्सेदार आप भी सब हैं, उसके हिस्सेदार हम भी सब हैं।’ 

पुलवामा हमले के बाद भारत ने कई बार कहा था कि इसमें पाकिस्तान का ही हाथ है, लेकिन वहां के वज़ीर-ए-आज़म इमरान ख़ान ने इसे ग़लत बताया था। लेकिन फ़वाद के बयान के बाद यह साफ हो गया था कि पाकिस्तान दहशतगर्दी को बढ़ावा देता है। 

फ़रवरी, 2019 में कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले में भारत के 40 से ज़्यादा जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद भारत ने पाकिस्तान में घुसकर सर्जिकल स्ट्राइक की थी और बालाकोट में चल रहे आतंकी शिविरों पर बम गिराए थे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें