loader

कोरोना मरीज़ के अंतिम संस्कार में परिवार पर हमला, आधे जले शव छोड़कर भागे

कोरोना मरीज़ के अंतिम संस्कार के दौरान उस परिवार पर स्थानीय लोगों ने हमला कर दिया और उन्हें अपनी जान बचाने के लिए आधे जले शव को छोड़कर भागना पड़ा। हालाँकि प्रशासन के दखल के बाद दूसरी जगह पर अंतिम संस्कार किया जा सका। 

मामला मंगलवार को जम्मू क्षेत्र में हुआ। डोडा ज़िले के 72 वर्षीय व्यक्ति की कोरोना वायरस से मौत हो गई थी। परिवार के लोगों का कहना है कि अंतिम संस्कार प्रोटोकॉल के तहत ही किया जा रहा था और प्रशासन की भी अनुमति थी। लेकिन इसी बीच लोगों ने उन पर हमला कर दिया। 

ताज़ा ख़बरें

दरअसल, कोरोना वायरस को लेकर लोगों के बीच ऐसा खौफ़ है कि कई जगहों पर ऐसी शिकायतें आ रही हैं कि दाह संस्कार करने या दफनाने में लोगों को दिक्कतें आ रही हैं। लोगों में यह डर है कि कोरोना से मौत होने वाले का आस पास अंतिम संस्कार करने पर संक्रमण फैलने का ख़तरा रहता है। इसी डर के कारण कई जगहों पर कोरोना से मौत होने पर अंतिम संस्कार में अपने परिजन तक शामिल नहीं हो पा रहे हैं। मुंबई में एक मामला आया था जिसमें एक व्यक्ति को दफनाने नहीं दिया गया तो उसका दाह संस्कार करना पड़ा था। इसी बीच जम्मू में एक अंतिम संस्कार में बाधा डाले जाने की रिपोर्ट आई है।

'एनडीटीवी' की रिपोर्ट के अनुसार मृतक के बेटे ने कहा, 'हमने एक राजस्व अधिकारी और एक मेडिकल टीम के साथ अंतिम संस्कार निर्धारित किया था, और डोमना क्षेत्र में एक श्मशान घाट पर चिता को जलाया था। तभी स्थानीय लोगों का एक बड़ा समूह घटनास्थल पर आया और अंतिम संस्कार को बाधित किया।'

जम्मू-कश्मीर से और ख़बरें

उन्होंने कहा कि अंतिम संस्कार में उनकी पत्नी और दो बेटे सहित सिर्फ़ नज़दीकी रिश्तेदार शामिल थे। उन्होंने कहा कि शव आधा जला ही था कि उन्हें ख़ुद को बचाने के लिए एंबुलेंस से भागना पड़ा। भीड़ ने पत्थर फेंकने शुरू कर दिए थे। 

मृतक के बेटे ने कहा, 'हमने अंतिम संस्कार के लिए शव को अपने गृह ज़िले में ले जाने के लिए सरकार से अनुमति माँगी थी, हमें बताया गया कि सभी ज़रूरी व्यवस्थाएँ कर दी गई थीं, और हमें दाह संस्कार के दौरान किसी भी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा।' उन्होंने आरोप लगाया कि वहाँ मौजूद सुरक्षा कर्मी हमले के दौरान कुछ नहीं कर पाए। 

बाद में शव को शहर के भागवती नगर क्षेत्र में ले जाया गया जहाँ कड़ी सुरक्षा में अंतिम संस्कार किया गया। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें