loader
कठुआ गैंगरेप व मर्डर मामले में मुख्य अभियुक्त सांझी राम।

कठुआ गैंगरेप: एसआईटी के 6 सदस्यों के ख़िलाफ़ होगी एफ़आईआर

जम्मू-कश्मीर की एक अदालत ने चर्चित कठुआ गैंगरेप व मर्डर केस मामले की जाँच करने वाले विशेष जाँच दल (एसआईटी) के छह सदस्यों के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज करने के आदेश दिए हैं। कठुआ में साल 2018 में एक नाबालिग लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार के बाद उसकी हत्या कर दी गई थी। 

अदालत ने यह आदेश तीन व्यक्तियों की एक याचिका पर दिया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि मामले के एक अभियुक्त विशाल जंगोत्रा ​​के ख़िलाफ़ झूठे सबूत देने के लिए पूछताछ के दौरान उनका उत्पीड़न किया गया था। बाद में विशाल जंगोत्रा को इस मामले से बरी कर दिया गया था। 

अपनी याचिका में कठुआ और सांबा के रहने वाले सचिन शर्मा, नीरज शर्मा और साहिल शर्मा ने इस बात का दावा किया है कि उनके द्वारा 24 सितंबर को जम्मू के पक्का डांगा पुलिस स्टेशन में इस संबंध में दी गई शिकायत पर पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की है। 

ताज़ा ख़बरें

अदालत ने यह आदेश तीन व्यक्तियों की एक याचिका पर दिया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि मामले के एक अभियुक्त विशाल जंगोत्रा ​​के ख़िलाफ़ झूठे सबूत देने के लिए पूछताछ के दौरान उनका उत्पीड़न किया गया था। बाद में विशाल जंगोत्रा को इस मामले से बरी कर दिया गया था। 

अपनी याचिका में कठुआ और सांबा के रहने वाले सचिन शर्मा, नीरज शर्मा और साहिल शर्मा ने इस बात का दावा किया है कि उनके द्वारा 24 सितंबर को जम्मू के पक्का डांगा पुलिस स्टेशन में इस संबंध में दी गई शिकायत पर पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की है। 

जम्मू-कश्मीर से और ख़बरें

मामले की सुनवाई करते हुए न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रेम सागर ने जम्मू के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) को निर्देश देते हुए कहा है कि इन लोगों के ख़िलाफ़ संज्ञेय अपराध का मामला बनता है।

अदालत ने एसएसपी रमेश कुमार जल्ला (सेवानिवृत्त), एएसपी नावीद पीरजादा, पुलिस उपाधीक्षक शतम्बरी शर्मा, डिप्टी एसपी नासिर हुसैन, उर्फ़ान वानी और केवल किशोर के ख़िलाफ़ प्राथमिकी दर्ज करने के आदेश दिए हैं। 

एसएसपी, जम्मू तेजिंदर सिंह ने अंग्रेजी अख़बार ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ से कहा कि उन्हें अभी तक अदालत के आदेश की कॉपी नहीं मिली है। कठुआ मामले की जाँच के लिए पीडीपी-बीजेपी की सरकार ने एसआईटी का गठन किया था। 

सम्बंधित खबरें

इस साल जून में कठुआ गैंगरेप व मर्डर मामले में पठानकोट की अदालत ने तीन दोषियों को उम्रक़ैद की सजा सुनाई थी जबकि तीन अन्य को 5-5 साल क़ैद की सजा सुनाई गई थी। इनमें सांझी राम, दीपक खजूरिया और प्रवेश कुमार को उम्रकैद जबकि तिलक राज, आनंद दत्ता और सुरेंद्र कुमार को 5-5 साल क़ैद की सजा सुनाई गई थी। 

जम्मू के कठुआ में 10 जनवरी 2018 को 8 साल की बच्ची लापता हो गई थी। सात दिन के बाद उसकी लाश क्षत-विक्षत हालत में मिली थी।

मामले में दाख़िल की गई 15 पन्नों की चार्जशीट के अनुसार, कठुआ जिले के रसाना गाँव में पिछले साल 10 जनवरी को आठ साल की एक बच्ची का अपहरण कर लिया गया था। उसके बाद गाँव के एक मंदिर में कथित तौर पर उसके साथ चार दिन तक रेप किया गया और फिर लाठी से पीट-पीट कर हत्या कर दी गई।

बच्ची के साथ बलात्कार और हत्या ने सांप्रदायिक तनाव पैदा कर दिया था। अदालत में अभियोजन पक्ष की दलील थी कि बच्ची का अपहरण और हत्या जम्मू क्षेत्र के रसाना नामक एक गाँव से बकरवाल समुदाय के सदस्यों को बाहर निकालने की साज़िश का हिस्सा थी।
मामले में ख़ासा बवाल तब हुआ था जब तत्कालीन पीडीपी-बीजेपी गठबंधन सरकार का हिस्सा रहे बीजेपी के दो मंत्रियों, चौधरी लाल सिंह और चंद्र प्रकाश गंगा ने अभियुक्तों के समर्थन में निकाली गई रैली में हिस्सा लिया था। बाद में यह मामला पीडीपी और बीजेपी के बीच विवाद का विषय बन गया था, जिसके बाद दोनों मंत्रियों को अपना पद छोड़ना पड़ा था।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें