loader

पहले बताया उमर-मुफ़्ती को खलनायक, अब उन्हीं से बातचीत?

लगता है कि अब केंद्र सरकार भी इस बात को समझ रही है कि जम्मू-कश्मीर में हालात को पटरी पर लाने के लिए उसे बातचीत के रास्ते पर आना ही होगा। इसलिए वह जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्रियों उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ़्ती से बातचीत करने की कोशिश कर रही है। अंग्रेजी अख़बार ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के मुताबिक़, केंद्र सरकार ने उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ़्ती से बातचीत करने की कोशिश की है। ऐसा करके वह यह संदेश देना चाहती है कि वह घाटी में हालात सामान्य करने को लेकर गंभीर है। 

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाये जाने से पहले से ही (4 अगस्त को) केंद्र सरकार ने उमर और महबूबा को हिरासत में ले लिया था। उमर को हरि निवास पैलेस में रखा गया है जबकि महबूबा को श्रीनगर के चश्माशाही के वन विभाग में रखा गया है। अख़बार के मुताबिक़, नाम ना उजागर करने की शर्त पर एक सूत्र ने बताया कि जाँच एजेंसियों के कुछ अधिकारी इन नेताओं के साथ बातचीत कर रहे हैं। उनका कहना है कि राज्य में हमेशा के लिए राजनीतिक बंदी नहीं की जा सकती।
ताज़ा ख़बरें
ख़बर के मुताबिक़, सरकार की चिंता बस यही है कि प्रतिबंधों को ख़त्म कर दिये जाने के बाद उमर और महबूबा घाटी के लोगों को क्या राजनीतिक संदेश देंगे। इसलिए सरकार इस बारे में पूरी सावधानी रख रही है। 
अब सवाल यह खड़ा होता है कि उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ़्ती से केंद्र सरकार किस मुँह से बातचीत करेगी। क्योंकि अनुच्छेद 370 को हटाये जाने के बाद से ही बीजेपी का शीर्ष नेतृत्व देश भर में घूम-घूमकर, रैलियों, सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों से कह रहा है कि अब्दुल्ला परिवार और मुफ़्ती परिवार ने जम्मू-कश्मीर को लूटा है और अनुच्छेद 370 के हटने से इन्हें लूट का मौक़ा नहीं मिल पायेगा,  इसीलिए ही ये लोग अनुच्छेद 370 को हटाये जाने से सबसे ज़्यादा परेशान हैं।
इतना ही नहीं, बीजेपी अब्दुल्ला और मुफ़्ती परिवारों के साथ सरकार भी बना चुकी है। उमर अब्दुल्ला अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में विदेश राज्य मंत्री रह चुके हैं और महबूबा मुफ़्ती ने बीजेपी के साथ मिलकर राज्य में 40 महीने तक सरकार चलाई थी।
बीजेपी ने पहले इन दोनों परिवारों के नेताओं को कश्मीरियों और देशभर की नज़र में खलनायक बनाने की भरपूर कोशिश की और अब जब अनुच्छेद 370 को हटाये जाने के तीन हफ़्ते बाद भी कश्मीर में हालात सामान्य नहीं हुए हैं तो उसे यह समझ आ गया है कि राज्य के इन प्रमुख नेताओं से बात किये बिना वह स्थिति को नहीं सभाल सकती है। क्योंकि घाटी में अब तक हालात सामान्य नहीं हो सके हैं।
जम्मू-कश्मीर से और ख़बरें
अंग्रेजी अख़बार ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ में छपी ख़बर के मुताबिक़, राज्य के लोगों में अनुच्छेद 370 को हटाये जाने को लेकर बहुत ग़ुस्सा है और प्रतिबंधों में ढील दिये जाने के बाद भी लोग घाटी में दुकान खोल रहे हैं और सड़कों से वाहन भी ग़ायब हैं। ख़बर के मुताबिक़, पूरी कश्मीर घाटी में सन्नाटे का माहौल है और ऐसा तब है जब किसी भी अलगाववादी संगठन की ओर से बंद नहीं बुलाया गया है। ख़बर में कश्मीर के कई लोगों के हवाले से कहा गया है कि यह बंद उनके यानी स्थानीय लोगों के द्वारा बुलाया गया है और वे इसे लंबा खींचना चाहते हैं ताकि वे कश्मीर के हालात के बारे में दुनिया को बता सकें। बता दें कि अनुच्छेद 370 को हटाये जाने से पहले सरकार ने घाटी में बड़ी संख्या में जवानों की तैनाती कर दी थी क्योंकि सरकार को यह डर था कि उसके इस क़दम से कश्मीर में बड़े पैमाने पर प्रदर्शन हो सकते हैं। 
संबंधित ख़बरें
इसके अलावा केंद्र सरकार राज्य में हालात सामान्य होने के भले ही लाखों दावे करे लेकिन वह राज्य की वास्तविक हालत को सामने नहीं आने देना चाहती है, वरना राज्यपाल सत्यपाल मलिक के कश्मीर दौरे को स्वीकारने के बाद भी आख़िर क्यों जम्मू-कश्मीर प्रशासन कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी और अन्य विपक्षी नेताओं को राज्य में नहीं आने दे रहा है। 
यानी सचमुच हालात ख़राब हैं और अब सरकार को लगता है कि उसे अब्दुल्ला और मुफ़्ती परिवारों के साथ बातचीत करनी चाहिए लेकिन क्या उन्हें देश भर में और उनके ही राज्य में बदनाम करने के बाद वे लोग सरकार पर भरोसा कर पाएँगे या बातचीत के लिए आगे आ पाएँगे और क्या जिस तरह की नाराज़गी कश्मीर में केंद्र सरकार के फ़ैसले के ख़िलाफ़ है, क्या वह उनकी नाराज़गी को दूर कर पाएगी, इसके लिए हमें इंतजार करना होगा। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें