loader

क्या देशद्रोही बताने की कोशिश के कारण शाह फैसल ने राजनीति छोड़ी?

देश की प्रतिष्ठित भारतीय प्रशासनिक सेवा यानी आईएएस को छोड़कर राजनेता बने शाह फैसल ने अब राजनीति भी छोड़ दी है। उन्होंने ऐसा फ़ैसला क्यों लिया? क्या जम्मू कश्मीर की मौजूदा परिस्थितियों में वह राजनीति करने में सक्षम नहीं थे या फिर उन्हें राजनीति करने की कोई क़ीमत चुकानी पड़ी है? आख़िर उन्हें राजनीति रास क्यों नहीं आई?

इसका जवाब भी शाह फैसल ने दिया है। वह सिलसिलेवार ढंग से इसके पीछे के कारणों को रखते हैं। वह कहते हैं कि उन्होंने महसूस किया कि राजनीति में जनता को सच्चाई बताना वास्तव में कठिन था। उन्होंने कहा कि वह कश्मीरियों की ऐसी उम्मीदों को नहीं बढ़ाना चाहते हैं जो पूरी ही नहीं की जा सकें। उन्होंने कहा कि वह लोगों को ऐसे सपने नहीं दिखाना चाहते थे जब उनके पास इसे बदलने की कोई ताक़त नहीं थी।

ताज़ा ख़बरें

पूर्व आईएएस अधिकारी शाह फैसल ने 2019 के मार्च महीने में राजनीतिक पार्टी बनाने की घोषणा की थी। उन्होंने कश्मीर में लगातार हो रही हत्याओं और भारतीय मुसलमानों के हाशिये पर होने का आरोप लगाते हुए पिछले साल जनवरी में ही पद से इस्तीफ़ा दे दिया था। उन्होंने पार्टी का नाम जम्मू एंड कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट रखा। पिछले साल 5 अगस्त को जब जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 में फेरबदल का फ़ैसला हुआ था तब बाक़ी नेताओं के साथ शाह फैसल को भी हिरासत में रखा गया था। कुछ वक़्त पहले ही उन्हें छोड़ा गया है।

राजनीति छोड़ने की घोषणा के बाद 'द इंडियन एक्सप्रेस' को दिए इंटरव्यू में फैसल ने कहा कि हिरासत उनके लिए 'काफ़ी सीख देने वाला चरण' साबित हुआ। उन्होंने कहा, 'मुझे एहसास हुआ कि आख़िरकार आप बिल्कुल अकेले होते हैं। यह आपका परिवार है जो सबसे अधिक कष्ट सहता है। विडंबना यह है कि जिनके लिए आप खड़े प्रतीत होते हैं, वे आपके दुख से एक दुखद आनंद की अनुभूति कर रहे होते हैं। हिरासत ने मेरे मन में यह बात साफ़ कर दी कि मैं कहीं और से जुड़ा हूँ। मैं उन लोगों के लिए अपने जीवन को ख़राब नहीं कर सकता, जो मेरे लिए आवाज़ तक नहीं निकालते।'

बता दें कि कुछ ऐसी ही पीड़ा जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने भी व्यक्त की थी। उन्होंने कहा था कि यह शायद पहली बार था राजनीतिक रूप से मुझे लगा कि हम बिल्कुल अकेले हैं।

अरविंद केजरीवाल, चंद्रबाबू नायडू जैसे नेताओं का नाम लेकर उमर अब्दुल्ला ने कहा था, ‘जब उन लोगों को ख़ुद के लिए ज़रूरी था तो वे हमारा समर्थन पाने पर ख़ुश थे, लेकिन वे हमारी तकलीफों में शामिल नहीं हुए। ईमानदारी से, अब मैं उनमें से किसी के लिए खड़ा नहीं होऊँगा। उनमें से एक के लिए भी नहीं। मैं उनमें से किसी के लिए प्रचार नहीं करूँगा, मैं उनमें से किसी का भी समर्थन नहीं करूँगा और ख़ुदा न करे किसी को भी जेल हुई तो मैं उनके लिए एक शब्द भी नहीं बोलूँगा, क्योंकि वे तब नहीं बोले जब यहाँ के लोग पीड़ित थे।’

जम्मू-कश्मीर से और ख़बरें

इस इंटरव्यू में शाह फैसल ने कहा कि एक धारणा बनाई गई थी कि वह एक राष्ट्र-विरोधी हैं। उन्होंने कहा, 'पिछले एक साल में मेरे कुछ विवादित बयानों के कारण, एक धारणा बनी थी कि मैं एक राष्ट्र-विरोधी हूँ…। मेरे कुछ बयानों ने ऐसे बहुत से लोगों को निराश कर दिया, जिनका मेरे प्रति स्नेह था। मैं उसे पहले की तरह करना चाहता हूँ।'

इस सवाल पर कि क्या वह सरकारी सेवा में लौटने पर विचार करेंगे, इस पर सीधे जवाब नहीं देते हुए फैसल ने कहा कि उनके आगे जीवन पड़ा है और वह आगे बढ़ना चाहते हैं और कुछ करना चाहते हैं। बता दें कि आईएएस सेवा से दिया गया उनका इस्तीफ़ा अब तक स्वीकार नहीं किया गया है। वह पहले ऐसे कश्मीरी हैं जिन्होंने 2009 में सिविल सेवा परीक्षा में टॉप किया। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें