loader

स्वतंत्रता दिवस से पहले कश्मीर में आतंकी हमला, दो पुलिसकर्मी शहीद

स्वतंत्रता दिवस से एक दिन पहले आज शुक्रवार को जम्मू कश्मीर के श्रीनगर में आतंकवादियों ने हमला कर दिया। इसमें दो पुलिसकर्मी शहीद हो गए। एक पुलिसकर्मी घायल हुआ है। बताया जाता है कि 15 अगस्त के लिए सुरक्षा में इनको तैनात किया गया था। हमले के बाद इलाक़े की घेराबंद कर ली गई है और आतंकवादियों को ढूँढा जा रहा है। 

यह हमला श्रीनगर के बाहरी इलाक़े नौगाम बायपास के पास हुआ। कश्मीर पुलिस ने इसकी पुष्टि की है। इस मामले में कश्मीर ज़ोन ने ट्वीट कर इस घटना की जानकारी दी है। 

पुलिस के अनुसार, आतंकवादियों ने पुलिस दल पर तब अंधाधुंध गोलाबारी शुरू कर दी जब पुलिसकर्मी क्षेत्र में सुरक्षा की स्थिति पर नज़र रखे हुए थे। पुलिस ने कहा है कि इस हमले में तीन जवान घायल हो गए जिन्हें उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया। दो जवानों की मौत हो गई। तीसरे जवान का उपचार किया जा रहा है। 

राज्य में 15 अगस्त को लेकर विशेष सुरक्षा के इंतज़ाम किए गए हैं। आतंकियों की मौजूदगी को लेकर गुरुवार को भी सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया था। बता दें कि जम्मू कश्मीर राज्य के दो हिस्से होने पर केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद यह पहल स्वतंत्रता दिवस है। 

पिछले साल 5 अगस्त को जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 में फेरबदल किया गया था। इसके बाद राज्य को दो हिस्सों में बाँट दिया गया था- जम्मू-कश्मीर और लद्दाख। दोनों हिस्सों को केंद्र शासित प्रदेश बनाया गया। पाँच अगस्त के बाद से ही दोनों जगहों पर कई तरह की पाबंदियाँ लगी हैं। 5 अगस्त का ही वह दिन है जब राज्य में हज़ारों लोगों को या तो नज़रबंद कर लिया गया था या फिर गिरफ़्तार कर लिया गया था। 
ताज़ा ख़बरें
बड़ी संख्या में ऐसे गिरफ़्तार लोगों को राज्य से बाहर की जेलों में भेजा गया। इसी साल मार्च में राज्यसभा में एक सवाल का जवाब देते हुए गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने कहा था कि ऐसे 7,000 से अधिक लोगों को प्रिवेंटिव डिटेंशन यानी हिरासत में रखा गया था। हालाँकि बाद में धीरे-धीरे पाबंदियाँ हटाई गईं और कुछ लोगों को हिरासत से छोड़ा भी गया। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें