loader

कोरोना पर ड्यूटी लगी तो डॉक्टर पति-पत्नी का इस्तीफ़ा; सख़्त कार्रवाई की चेतावनी

कोरोना वायरस के लिए डॉक्टर पति-पत्नी को ड्यूटी लगाने पर झारखंड में अजीब मामला सामने आया है। कोरोना के डर से सरकारी अस्पताल में काम करने वाली दंपती ने इस्तीफ़ा दे दिया है। अब अस्पताल प्रशासन ने दोनों को चेतावनी भेजी है कि 24 घंटे में वे ड्यूटी ज्वाइन करें नहीं तो एफ़आईआर दर्ज करने जैसी सख़्त कार्रवाई होगी। यह अजीब मामला इसलिए है कि डॉक्टरों पर लोगों की जान बचाने की ज़िम्मेदारी होती है और इसी कारण उन्हें भगवान का दर्जा दिया जाता है। उनका समाज में विशेष सम्मान है। डॉक्टरों पर ऐसे ही भरोसे के कारण मरीज अपना उपचार कराने के लिए अपनी ज़िंदगी उनके भरोसे छोड़ देते हैं। लेकिन यदि संकट के समय में कुछ लोग ऐसा व्यवहार करने लग जाएँ तो उस भरोसे का क्या होगा?

ताज़ा ख़बरें

भले ही कोरोना वायरस बहुत तेज़ी से फैलता है, लेकिन सावधानी बरतने पर इससे पूरी तरह से बचा जा सकता है। यह घातक भी उन लोगों के लिए है जो किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं या फिर ज़्यादा बुजुर्ग हैं। क़रीब 97 फ़ीसदी लोग स्वस्थ हो जा रहे हैं। 80 फ़ीसदी लोगों के हॉस्पिटल में भर्ती होने की ज़रूरत भी नहीं पड़ रही है। ऐसे में डॉक्टरों के लिए ज़्यादा डरने की वजह नहीं होनी चाहिए। फिर भी झारखंड के पश्चिम सिंहभूम ज़िले के उस सरकारी अस्पताल के डॉक्टर पति-पत्नी के इस्तीफ़े की वजह समझ से परे है। उन्होंने इस्तीफ़ा भी भेजा तो एक बार नहीं दो-दो बार। पहले वाट्सएप से और फिर ई-मेल से भी। यानी वे इत्मीनान हो जाना चाहते थे कि उनका इस्तीफ़ा तुरंत पहुँचे और मंजूर भी हो।

'हिंदुस्तान' की रिपोर्ट के अनुसार, पश्चिम सिंहभूम के सिविल सर्जन डॉ. मंजू दुबे ने मंगलवार को कहा कि राज्य के स्वास्थ्य सचिव डॉ. नितिन मदन कुलकर्णी के निर्देश पर उन्होंने 24 घंटे का अल्टीमेटम दिया है कि डॉ. आलोक टिर्की ड्यूटी ज्वाइन कर लें।  उन्होंने कहा, 'स्वास्थ्य सचिव के निर्देश के अनुसार, मैंने डॉ. टिर्की से 24 घंटे में ड्यूटी ज्वाइन करने को कहा है, नहीं तो झारखंड महामारी रोग (कोविड -19) विनियमन -2020 और महामारी रोग अधिनियम, 1897 के तहत उनके ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज की जाएगी। यदि वह तुरंत वापस ड्यूटी पर नहीं आते हैं तो उन्हें अपने मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया के पंजीकरण के रद्द किए जाने की स्थिति का भी सामना करना पड़ सकता है।'

झारखंड से और ख़बरें

हालाँकि इस पर डॉ. टिर्की ने सफ़ाई भी दी है। रिपोर्ट के अनुसार, वह कार्यालय की राजनीति का शिकार हैं। उन्होंने कहा, 'मेरी पत्नी और बहन इम्यूनोसप्रेस्सिव अवस्था में हैं और उन्हें संक्रमण का ख़तरा ज़्यादा है। इसलिए, हमने अपने पदों से इस्तीफ़ा दिया है। मेरी बहन का हाल ही में गुर्दे का प्रत्यारोपण हुआ था।'

इस बीच उसी हॉस्पिटल के 23 अन्य डॉक्टर ऐसे हैं जिन्होंने छुट्टी के लिए भी आवेदन नहीं किया है और मरीजों का इलाज करने को तत्पर हैं। यानी वे लोगों की ज़िंदगियाँ बचाने की अपनी ज़िम्मेदारी बख़ूबी समझते हैं। डॉक्टरों में ऐसा ही जज्बा लोगों में उम्मीद की रौशनी फैलाता है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

झारखंड से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें