loader

जज उत्तम आनंद की हत्या मामले को सीबीआई को सौंपने की सिफ़ारिश

झारखंड सरकार ने अतिरिक्त ज़िला जज उत्तम आनंद की कथित हत्या के मामले को सीबीआई को सौंपने की सिफ़ारिश की है। इस मामले में अब तक ऑटो चालक और उसके एक सहयोगी को गिरफ़्तार किया गया है और झारखंड पुलिस ने हत्या का केस दर्ज किया है। इसकी जाँच के लिए एक एसआईटी का गठन किया गया और एडीजी ऑपरेशन एसआईटी टीम के इंचार्ज बनाए गए हैं।

धनबाद ज़िले की यह घटना चार दिन पहले की है। शुरुआती रिपोर्ट आई थी कि जज की मौत ऑटो की टक्कर से हुई। लेकिन इसके साथ ही हत्या की आशंका जताई जा रही थी। बाद में इस घटना का वीडियो आने पर वह आशंका और पुष्ट हुई कि यह टक्कर जानबूझकर मारी गई है। घटना बुधवार सुबह उस वक़्त हुई थी जब एडिशनल जज उत्तम आनंद मॉर्निंग वॉक पर थे। 

ताज़ा ख़बरें

इस घटना की वीडियो क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हुई तो सुप्रीम कोर्ट ने इसका संज्ञान लिया। सीजेआई एनवी रमन्ना ने झारखंड हाई कोर्ट के चीफ़ जस्टिस से इस मामले में बात की। 

इसी बीच झारखंड सरकार ने सीबीआई जाँच की सिफारिश की है। पूर्व सीएम और बीजेपी नेता बाबूलाल मरांडी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में मामला उठाए जाने के बाद सरकार ने यह फ़ैसला किया। उन्होंने कहा कि धनबाद के पुलिस अधीक्षक के ख़िलाफ़ भी कार्रवाई की जानी चाहिए।

बता दें कि घटना के बाद ही टक्कर मारने वाले ऑटो को जब्त कर लिया गया था। वीडियो क्लिप में दिख रहा था कि जज उत्तम आनंद सड़क किनारे मॉर्निंग वॉक पर थे और पूरी सड़क खाली थी। लेकिन ऑटो ड्राइवर ऑटो को बीच सड़क से किनारे ले आया और जज को टक्कर मारकर फरार हो गया। जज को नज़दीकी अस्पताल में ले जाया गया, जहाँ इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। 

जब वह सुबह 7 बजे तक घर नहीं लौटे तो परिजनों ने उनकी गुमशुदगी की ख़बर पुलिस को दी। पुलिस ने पता लगाने के बाद इस घटना की जानकारी उन्हें दी। जांच में पता चला कि इस ऑटो को घटना को अंजाम देने से कुछ घंटे पहले ही चुराया गया था। 

जज के परिवार ने आरोप लगाया है कि पुलिस ने मामले को 'दुर्घटना' से हत्या के केस में बदलने में देरी की।

झारखंड उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रवि रंजन ने प्राथमिकी दर्ज करने में कथित देरी पर असंतोष व्यक्त किया था और घटना की एसआईटी जांच के आदेश दिए थे। अदालत ने कहा था कि वह जाँच की निगरानी करेगी और एसआईटी को नियमित अपडेट मुहैया कराने को कहा था। इसने यह भी चेतावनी दी थी कि जांच में देरी के कारण मामला सीबीआई को स्थानांतरित किया जा सकता है।

झारखंड से और ख़बरें

'एबीपी न्यूज़' की रिपोर्ट के अनुसार धनबाद एसएसपी संजीव कुमार ने कहा है कि पकड़े गए आरोपी लखन वर्मा और राहुल वर्मा ने यह बात मान ली है कि उनके द्वारा इस अपराध को अंजाम दिया गया है। आरोपी लखन वर्मा के परिजनों ने इस पूरे मामले में अनभिज्ञता जाहिर की है। रिपोर्ट के अनुसार लखन वर्मा की पत्नी पिंकी देवी ने कहा है कि उसका पति कुछ दिन पहले ही एक ऑटो लेकर आया था और कहा था कि उसकी 80 हजार की लॉटरी लगी है, उसी पैसे से उसने पुराना ऑटो खरीदा है। 

इस मामले में पुलिस उन मामलों के बारे में भी जानकारी हासिल कर रही है, जिन्हें जज देख रहे थे। जज उत्तम आनंद इन दिनों धनबाद में माफियाओं के द्वारा की गई हत्याओं के मामले की सुनवाई कर रहे थे और हाल ही में उन्होंने दो गैंगस्टर्स की जमानत याचिका को खारिज कर दिया था।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

झारखंड से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें