loader

झारखंड: सकंट में एनडीए, आजसू ने की बग़ावत, एलजेपी अकेले लड़ेगी चुनाव

महाराष्ट्र में शिवसेना के सियासी दाँव के कारण सरकार बनाने में असफ़ल रही बीजेपी को अब झारखंड में भी मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। झारखंड में सीट बँटवारे को लेकर बीजेपी और ऑल झारखंड स्टूडेंट्स यूनियन (आजसू) के बीच समझौता नहीं हो सका और दोनों दलों का गठबंधन टूट गया। आजसू ने झारखंड में 12 सीटों पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है। इनमें वे सीटें भी शामिल हैं, जहाँ पर बीजेपी अपने उम्मीदवार उतार चुकी है। राँची स्थित आजसू मुख्यालय में सोमवार शाम को पार्टी के मुख्य प्रवक्ता डॉ. देवशरण भगत ने 12 उम्मीदवारों के नाम घोषित किए।

ताज़ा ख़बरें
आजसू ने झारखंड बीजेपी के अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुआ के ख़िलाफ़ भी उम्मीदवार उतार दिया है। आजसू के अध्यक्ष सुदेश महतो सिल्ली सीट से चुनाव लड़ेंगे। आजसू के बाद केंद्र सरकार में बीजेपी की सहयोगी लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) ने झारखंड के आगामी विधानसभा चुनाव में अकेले मैदान में उतरने का एलान किया है। 

एलजेपी के नवनियुक्त अध्यक्ष और सांसद चिराग पासवान ने कहा है कि उनकी पार्टी राज्य में 50 सीटों पर चुनाव लड़ेगी और मंलगवार को ही पहली सूची जारी कर दी जाएगी। झारखंड में विधानसभा की 81 सीटें हैं। इससे बीजेपी के लिए मुश्किलें खड़ी हो सकती हैं। 

झारखंड से और ख़बरें
दूसरी ओर, विपक्षी महागठबंधन में भी फूट पड़ चुकी है और झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम), कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) ने सीटों का बँटवारा कर लिया है। बँटवारे में जेएमएम को 43, कांग्रेस को 31 और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) को सात सीटें दी गई है। यह भी तय कर लिया गया है कि जेएमएम के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन गठबंधन की तरफ़ से मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार होंगे। बाबूलाल मरांडी की पार्टी झारखंड विकास मोर्चा (जेवीएम) और वाम दलों को इस गठबंधन से बाहर रखा गया है। 
झारखंड में पाँच चरणों में विधानसभा के चुनाव होंगे। पहले चरण का मतदान 30 नवंबर को होगा। 7 दिसंबर को दूसरे, 12 दिसंबर को तीसरे चरण के तहत वोटिंग होगी। वहीं, चौथे चरण की वोटिंग 16 दिसंबर को जबकि 20 दिसंबर को पाँचवें चरण की वोटिंग होगी। चुनाव के नतीजे 23 दिसंबर को आएँगे।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

झारखंड से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें