loader

LIVE: झारखंड चुनाव : रुझानों में जेएमएम गठबंधन को बहुमत, 47 सीटों पर आगे

  • झारखंड चुनाव में काँटे की टक्कर के बीच झारखंड मुक्ति मोर्चा की अगुआई वाला महागठबंधन को बहुमत मिल गया है। ताज़ा रुझानों के मुताबिक़, वह 47 सीटों पर आगे चल रहा है, जबकि बीजेपी 24 सीटों पर आगे है। ऑल झारखंड स्टूडेट्स यूनियन को 4 सीटों पर बढ़त मिली हुई है। पिछले विधानसभा चुनाव में आजसू को 5 सीटों पर जीत हासिल हुई थी। 

  • ऑल झारखंड स्टूडेट्स यूनियन को 5 सीटों पर बढ़त मिली हुई है। पिछले विधानसभा चुनाव में उसे 5 सीटों पर जीत हासिल हुई थी। बाबू लाल मरांडी की अगुआई वाला जेवीएम 4 सीटों पर आगे चल रहा है।
  • झारखंड चुनाव के वोटों की गिनती के अब तक के रुझानों से लगता है कि झामुमो की अगुआई में बने महागठबंधन और सत्तारूढ़ बीजेपी में कड़ा मुकाबला है। ताज़ा रुझानों के मुताबिक़, बीजेपी को 33 सीटों पर बढ़त हासिल है, जबकि महागठबंधन 36 सीटों पर आगे चल रही है।  

  • झारखंड चुनाव में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी को सिर्फ 23 सीटों पर बढ़त मिली है। इसका मतलब यह है कि उसके हाथ से सत्ता फिसल रही है।
  • झामुनो की अगुआई में बने महागठबंधन को तेज़ी से बढ़त मिल रही है। अब तक के रुझानों में यह गठबंधन 33 सीटों पर आगे चल रहा है। इसमें झामुमो के अलावा कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल हैं। 
  • जमशेदपुर पूर्व से बीजेपी के रघुबर दास आगे चल रहे हैं। वहीं से कांग्रेस प्रवक्ता गौरव वल्लभ पीछे हैं। 
  • झारखंड मुक्ति मोेर्चा के हेमंत सोरेन दो सीटों पर चुनाव लड़ रहे हैं, वह दोनों पर आगे हैं। वह दुमका और बरहेट से मैदान में हैं।
  • झारखंड विधानसभा चुनाव के शुरुआती रुझानों में झारखंड मुक्ति मोर्चा 33 सीटों पर आगे है। दूसरी ओर भारतीय जनता पार्टी को 18 सीटों पर बढ़त हासिल हो चुकी है। इसके साथ ही ऑल झारखंड स्टूडेंट्स यूनियन यानी आजसू 4 सीटों पर आगे चल रही है। 
झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए वोटों की ग़िनती शुरू हो गई है। झारखंड में विधानसभा की 81 सीटें हैं और सरकार बनाने के लिए 41 सीटों की ज़रूरत है। राज्य में बीजेपी और विपक्षी गठबंधन के बीच कड़ा मुक़ाबला है। महाराष्ट्र और हरियाणा में जैसी जीत की उम्मीद बीजेपी ने की थी, वैसी उसे नहीं मिली थी और इन राज्यों के नतीजों के बाद उसने झारखंड जीतने के लिए पूरी ताक़त लगा दी थी। चुनाव प्रचार के दौरान बीजेपी की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष और गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सहित अन्य नेताओं ने चुनावी रैलियां की तो विपक्षी गठबंधन के लिए हेमंत सोरेन, राहुल गाँधी और तेजस्वी यादव मैदान में उतरे। इसके अलावा बाबूलाल मरांडी और सुदेश महतो ने भी अपनी-अपनी पार्टियों के लिए पूरा जोर लगाया। 
ताज़ा ख़बरें

सीएम के लिए हेमंत पहली पसंद 

इंडिया टुडे-एक्सिस माई इंडिया के सर्वे में 29 फ़ीसदी लोगों ने झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन को मुख्यमंत्री पद के लिए अपनी पसंद बताया है। मुख्यमंत्री रघुबर दास 26 फ़ीसदी के साथ दूसरे नंबर पर, झारखंड विकास मोर्चा (जेवीएम) के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी 10 फ़ीसदी और ऑल झारखंड स्टूडेंट्स यूनियन (एजेएसयू) के अध्यक्ष सुदेश महतो 9 फ़ीसदी लोगों की पसंद हैं। 

इन प्रमुख सीटों पर रहेगी नज़र

विधानसभा चुनाव के रण में जमशेदपुर पूर्वी सीट पर जोरदार चुनावी मुक़ाबला देखने को मिला और यह झारखंड की सबसे हॉट सीट है। यहाँ से मुख्यमंत्री रघुवर दास चुनावी मैदान में हैं। दास की मुश्किलें इसलिए बढ़ी हुई हैं क्योंकि उन्हीं की सरकार में मंत्री रहे सरयू राय ने उन्हें कड़ी चुनौती दी है।  

5 साल तक राज्य सरकार में सहयोगी रही आजसू ने इस बार बीजेपी से नाता तोड़ लिया था और 53 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं। आजसू अध्यक्ष सुदेश महतो सिल्ली सीट से चुनाव मैदान में हैं।
रांची सीट से राज्य सरकार के मंत्री सीपी सिंह बीजेपी के प्रत्याशी हैं। जेवीएम प्रमुख बाबूलाल मरांडी राजधनवार सीट से चुनाव लड़ रहे हैं, इसलिए इस सीट पर भी सभी की नज़रें लगी हुई हैं। मरांडी का मुक़ाबला बीजेपी के लक्ष्मण प्रसाद सिंह से है। चक्रधरपुर सीट से बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा चुनाव मैदान में हैं। दुमका सीट से हेमंत सोरेन चुनाव लड़ रहे हैं और उन्हें राज्य सरकार में मंत्री डॉ. लुइस मरांडी ने टक्कर दी है। हेमंत सोरेन बरहेट विधानसभा सीट से भी चुनाव लड़ रहे हैं।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

झारखंड से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें