loader

झारखंड: 'जय श्री राम' के नारे लगाती भीड़ ने मुसलिम युवकों को पीटा

झारखंड की राजधानी राँची में दो मुसलिम युवकों की पिटाई किए जाने का मामला सामने आया है। युवकों का आरोप है कि 'जय श्री राम' के नारे लगाती हुई भीड़ ने उनके साथ मारपीट की जिससे दोनों के सिर में गंभीर चोटें आईं। आरोपियों के परिजनों ने राँची के चुटिया थाने में शिकायत दी है।

यह घटना उसी राँची में हुई जहाँ बीजेपी नेताओं की पैगंबर मोहम्मद साहब पर टिप्पणी को लेकर विरोध प्रदर्शन हुआ था और जिस हिंसा में दो लोगों की मौत हो गई थी। यह घटना 11 नवंबर को दिन में हुई थी और मुसलिम युवकों की पिटाई का मामला भी 11 नवंबर को ही हुआ था, लेकिन रात में।

ताज़ा ख़बरें

एक रिपोर्ट के अनुसार 11 जून की रात 8 बजे 24 वर्षीय जीशन और 21 वर्षीय फैजान रांची के सुजाता चौक के पास के डोमिनोज से पिज्जा लेने गए थे। जब वे अपने ऑर्डर लिए जाने की प्रतीक्षा कर रहे थे तभी एक हिंदुत्ववादी भीड़ वहाँ पहुँची। द वायर की रिपोर्ट के अनुसार जीशन ने कहा, 'जब हम पहुँचे ही थे तो वे 'जय श्री राम' जैसे कुछ नारे लगा रहे थे, लेकिन जब उन्होंने हमें देखा तो वे चिल्लाने लगे कि 'उनका पीछा करो, उनका पीछा करो'।

रिपोर्ट के अनुसार जीशन ने कहा, 'वहाँ कम से कम 30 लोग थे, शायद अधिक, और वे हथियार लिए हुए थे। हमें देखते ही उन्होंने हमें घेर लिया और हमसे हमारा नाम पूछने लगे और फिर उन्होंने हमें पीटना शुरू कर दिया। उन्होंने मेरे भाई को कई बार मारा जब तक कि उसका सिर फट नहीं गया। खून बहता दिखा तो वे दौड़ पड़े। मेरा भी बहुत ख़ून बह रहा था, इसलिए हम भी भाग खड़े हुए... बाद में हमें सदर अस्पताल ले जाया गया।'

जीशन के चाचा नसीम अख्तर ने चुटिया पुलिस स्टेशन में थाना प्रभारी को शिकायत दर्ज कराई। उन्होंने शिकायत में आरोप लगाया कि उनके भतीजे की जान पर 30-40 अज्ञात व्यक्तियों द्वारा हमला किया गया था, जबकि वह सुजाता सिनेमा परिसर में डोमिनोज में पिज्जा के लिए बाहर गए थे।

झारखंड से और ख़बरें

उसी दिन इकरा चौक पर नमाज के बाद बड़ा विरोध प्रदर्शन किया गया था। पुलिस की कड़ी कार्रवाई के साथ, सोशल मीडिया पर साझा किए गए वीडियो में दिखता है कि कैसे पथराव की ख़बरों के बीच भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने भी गोलियां चलाईं। उस दौरान दो लोगों की मौत हो गई और कई लोग घायल भी हो गए।

रिपोर्ट के अनुसार जीशन और फैजान ने दावा किया है कि दोनों उस दिन शाम को हुए विरोध प्रदर्शन में शामिल नहीं थे। फिर भी उन्हें निशाना बनाया गया।

जीशन का कहना है कि अस्पताल में टाँके लगने के बाद वे घर लौट आए। उनका कहना है कि उनकी स्कूटी अभी भी थाने में है, जहां उन्हें लेने के लिए बुलाया गया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

झारखंड से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें