loader

'100 करोड़ पर 15 करोड़ भारी' बयान देने वाले वारिस पठान पर शिकायत दर्ज

एआईएमआईएम यानी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन के प्रवक्ता वारिस पठान ने एक विवादित बयान दिया है। नागिरकता क़ानून के ख़िलाफ़ प्रदर्शन के दौरान उन्होंने कहा कि 100 करोड़ पर 15 करोड़ भारी पड़ेंगे। उनके इस बयान को धार्मिक अलगाव पैदा करने वाला बताया गया। चौतरफ़ा आलोचना के बावजूद उन्होंने माफ़ी माँगने से इनकार कर दिया है और कहा है कि उनका बयान संविधान के दायरे में है। इधर पुणे के एक बीजेपी कार्यकर्ता ने दक्कन पुलिस थाने में पठान के ख़िलाफ़ लिखित में शिकायत दर्ज कराई है।

मामला कर्नाटक के कलबुर्गी का है। वारिस पठान 15 फ़रवरी को एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि '100 करोड़ पर 15 करोड़ भारी पड़ेंगे।' हालाँकि उन्होंने अपने संबोधन में किसी धर्म का नाम नहीं लिया, लेकिन माना जा रहा है कि वह साफ़ तौर पर हिंदू और मुसलिम का ज़िक्र कर रहे थे।

ताज़ा ख़बरें

अपने संबोधन में पठान ने कहा था, 'ईंट का जवाब पत्‍थर से देना हमने सीख लिया है लेकिन इकट्ठा होकर चलना होगा। अगर आज़ादी दी नहीं जाती तो हमें छीननी पड़ेगी। वे कहते हैं कि हमने औरतों को आगे रखा है... अभी तो केवल शेरनियाँ बाहर निकली हैं तो तुम्‍हारे पसीने छूट गए। तुम समझ सकते हो कि अगर हम सब एक साथ आ गए तो क्‍या होगा। 15 करोड़ हैं लेकिन 100 करोड़ के ऊपर भारी हैं। यह याद रख लेना।'

उनके इस बयान पर तीखी प्रतिक्रिया हुई। राजनीतिक विश्लेषक सलमान निज़ामी ने वारिस पठान की आलोचना की है। उन्होंने ट्वीट किया, 'ये वारिस पठान कौन है, वह आदमी जिसने महाराष्ट्र विधानसभा में अपनी सीट भी नहीं बचा पाया। क्या वह 20 करोड़ मुसलिमों का प्रतिनिधित्व करते हैं? नहीं। वह बीजेपी-एमआईएम के गुप्त समझौते का हिस्सा हैं, बिहार चुनाव में ध्रुवीकरण करना पहला प्रयास था। वे झारखंड में असफल रहे, अब बिहार उन्हें सबक़ सिखाएगा।'

कर्नाटक से और ख़बरें
सोशल मीडिया पर वारिस पठान के बयान को लेकर लोगों ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। वारिस पठान ट्विटर पर ट्रेंड कर रहे हैं। लोगों ने पठान के बयान को धार्मिक आधार पर विभाजन करने वाला बताया है। लोगों ने इसको लेकर भी सवाल उठाए कि वह नागरिकता क़ानून के ख़िलाफ़ प्रदर्शन के नाम पर लोगों को भड़का रहे हैं। बता दें कि नागरिकता क़ानून को धार्मिक आधार पर बाँटने वाला बताया गया है क्योंकि यह क़ानून पाकिस्तान, अफ़गानिस्तान और बांग्लादेश के हिंदू, सिख, जैन, पारसी, बौद्ध और ईसाई धर्म के लोगों को भारत में नागरिकता देने की बात करता है। इसी कारण देश भर में इस क़ानून का विरोध हो रहा है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

कर्नाटक से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें