loader

कर्नाटक: बस स्टॉप 'मसजिद' जैसा? बीजेपी सांसद ने गुंबद क्यों हटवाए

कर्नाटक के मैसूर में एक बस स्टॉप पर लगे विवादास्पद गुंबद हटा दिए गए। बीजेपी सांसद प्रताप सिम्हा ने इस पर आपत्ति की थी और उन्होंने गुंबदों को गिराने की धमकी दी थी। हालाँकि बीजेपी के ही एक विधायक ने इन बस स्टॉप को तैयार करवाया था। स्थानीय बीजेपी विधायक ने ही कहा है कि उन ढाँचों को ग़लत तरीक़े से सांप्रदायिक रूप दिया गया। एक रिपोर्ट है कि बीजेपी के इन विधायक और सांसद के बीच विवाद चला। अब जब दो गुंबदों को हटा दिया है तो कथित तौर पर सांसद इस फ़ैसले को अपनी ही पार्टी के विधायक पर जीत के तौर पर देख रहे हैं।

बीजेपी सांसद प्रताप सिम्हा ने ट्वीट किया है, 'यदि बीच में एक बड़ा गुम्बद और एक दूसरे से सटे हुए दो छोटे गुम्बद हों तो वह मस्जिद होती है। जिलाधिकारी को धन्यवाद जिन्होंने समय मांगा और बात रखी और रामदास जी को भी धन्यवाद जिन्होंने हकीकत समझी और जनमत को स्वीकार किया।'

karnataka mysuru bus stop domes disappear after bjp mp threat - Satya Hindi

सिम्हा के ट्वीट में साफ़ तौर पर लिखा है कि बस स्टैंड पर मुख्य गुंबद के दोनों ओर बने दो गुंबद मस्जिद की तरह दिखाई देते हैं। एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने धमकी दी थी, 'मैंने इंजीनियरों से कहा है कि वे तीन-चार दिनों में ढाँचे को गिरा दें। अगर वे ऐसा नहीं करते हैं, तो मैं एक जेसीबी ले आऊँगा और इसे गिरा दूंगा।' उनके इस बयान की विपक्ष समेत कई लोगों ने विभाजनकारी बताकर आलोचना की थी।

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण यानी एनएचएआई ने अधिकारियों को नोटिस जारी कर इस मामले में स्पष्टीकरण मांगा था।

ताज़ा ख़बरें

स्थानीय भाजपा विधायक राम दास ने पहले अपनी पार्टी के सहयोगी की टिप्पणियों का खंडन किया था। उन्होंने दोहराया था कि बस शेल्टर डिजाइन मैसूर पैलेस से प्रेरित था। रिपोर्ट के अनुसार रामदास ने कहा, 'बस स्टॉप को विवाद में नहीं डालना चाहिए। मैंने पूरे मैसूर में एक मॉडल पैलेस के रूप में 12 बस स्टॉप का निर्माण किया। लेकिन इसे सांप्रदायिक रंग दे दिया गया और इससे मुझे ठेस पहुँची है। मैंने वरिष्ठजनों की राय लेने के बाद दो छोटे गुंबद तोड़ दिए और बड़े गुंबद को बरकरार रखा। लोगों को इसे अन्यथा नहीं लेना चाहिए। विकास के हित में फ़ैसला लिया गया है।'

कर्नाटक से और ख़बरें

रामदास ने स्थानीय लोगों को संबोधित एक पत्र में माफी मांगते हुए कहा कि उन्होंने मैसूर की विरासत को ध्यान में रखते हुए बस स्टॉप को डिजाइन किया था। उन्होंने आगे कहा, 'विचारों में मतभेद पैदा हो गया... इसलिए मैं दो गुंबदों को हटवा रहा हूँ। अगर किसी की भावनाएँ आहत हुई हैं तो मैं माफी चाहता हूँ।'

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

कर्नाटक से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें