loader

क्या सुप्रीम कोर्ट को भी ‘मैनेज’ कर लेंगे मोदी, अमित शाह?

क्या कर्नाटक की सरकार को गिराने के लिए मोदी, अमित शाह सुप्रीम कोर्ट को भी मैनेज कर सकते हैं, यह सवाल उस कथित ऑडियो टेप के लीक होने के बाद कांग्रेस ने पूछा है जिसे कल कर्नाटक के मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने जारी किया था। कांग्रेस के मुताबिक़, कथित ऑडियो टेप में इस बात को कहा जा रहा है कि सरकार गिरने के बाद मोदी और अमित शाह सुप्रीम कोर्ट के मामलों को ‘देख’ लेंगे। कांग्रेस ने पूछा है कि क्या प्रधानमंत्री और बीजेपी अध्यक्ष ने पूर्व मुख्यमंत्री येदियुरप्पा को ऐसा कोई आश्वासन दिया है? कांग्रेस ने यह भी पूछा कि क्या सुप्रीम कोर्ट बीजेपी की जेब की दुकान है?

हर विधायक को 10 करोड़ का ऑफ़र

कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल ने आज नई दिल्ली में आयोजित प्रेस कॉन्फ़्रेंस में कहा, कथित ऑडियो क्लिप में यह सुनाई दे रहा है कि कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा कांग्रेस के प्रत्येक विधायक को 10-10 करोड़ रुपये का ऑफ़र दे रहे हैं और वह 18 विधायकों को लेकर यह बातचीत कर रहे हैं।’ वेणुगोपाल ने कहा, यह पूरी रकम लगभग 200 करोड़ बैठती है। इसके अलावा वह 12 विधायकों को मंत्री पद का भी लालच दे रहे हैं। 

स्पीकर को देंगे 50 करोड़!

कांग्रेस के मुताबिक़, येदियुरप्पा विधानसभा के स्पीकर को भी कांग्रेस विधायकों को अयोग्य न ठहराने के लिए 50 करोड़ रुपये देने की बात कर रहे हैं। वेणुगोपाल ने कहा कि येदियुरप्पा विधायकों को इस्तीफ़ा देने के बाद फिर से चुनाव लड़ने के लिए ख़र्चे देने की भी बात कह रहे हैं। वेणुगोपाल ने कहा, कथित ऑडियो टेप से यह पता चलता है कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कहने पर ही कर्नाटक की कुमारस्वामी सरकार को गिराने का काम हो रहा है।

यह काला धन है या सफ़ेद धन?

प्रेस कॉन्फ़्रेंस में मीडिया विभाग के प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पूछा कि यह 200 करोड़ की रकम काला धन है या सफ़ेद धन है। उन्होंने पूछा कि क्या यह वही काला धन है जिसकी चर्चा मोदी जी ने 24 घंटे पहले संसद में अपने भाषण में की थी। सुरजेवाला ने कहा कि मोदी संविधान की धज्जियाँ उड़ा रहे हैं। 

बीजेपी की कर्नाटक इकाई ने इस कथित ऑडियो टेप पर प्रतिक्रिया देते हुए इसे पूरी तरह झूठ बताया था और कहा था कि इसमें येदियुरप्पा की आवाज़ की नकल उतारने की कोशिश की गई है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

कर्नाटक से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें