loader

पूरा परिवार क्वरेंटाइन में, कोरोना मृतक का अंतिम संस्कार सरकार ने कराया 

कोरोना वायरस ने ऐसी स्थिति पैदा कर दी है कि किसी अपने की मृत्यु पर अंतिम संस्कार में भी परिवार का सदस्य शामिल नहीं हो पाए। क्या ऐसी स्थिति की कल्पना की जा सकती है कि न केवल अपने परिवार, बल्कि नज़दीकी रिश्तेदार और आसपड़ोस के लोग भी चाहें तो भी अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हो पाएँ! 

कर्नाटक के बेंगलुरु में ऐसा ही एक मामला सामने आया है। 'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार, कोरोना पीड़ित एक 65 वर्षीय वृद्ध की तबीयत ख़राब हुई थी। हॉस्पिटल में लाया गया। 13 अप्रैल को उनकी मौत के बाद उनके कोरोना पॉजिटिव होने की रिपोर्ट आई। उनके परिवार और नज़दीकी रिश्तेदार के 26 लोगों को क्वरेंटाइन में जाना पड़ा। उस स्थिति में शव के अंतिम संस्कार में परिवार का कोई सदस्य नहीं जा सकता था। उन 26 लोगों के अलावा उस कोरोना मरीज के संपर्क में आए दूर के परिवार के सदस्य, उनके पड़ोसी, उनके तीन मंजिली बिल्डिंग में सभी किरायेदार सहित 78 लोगों को भी क्वरेंटाइन किया गया। 

ताज़ा ख़बरें

अंतिम संस्कार में हॉस्पिटल के तीन कर्मचारी और बेंगलुरु सिटी कार्पोरेश के कुछ कर्मचारी शामिल हुए और एक एनजीओ के कुछ सदस्यों ने दफनाने में सहयोग किया। 

ऐसे मामले इटली में काफ़ी ज़्यादा आए थे। क्योंकि किसी मृत व्यक्ति के क़रीबी क्वरेंटाइन में थे तो उनका अंतिम संस्कार करने वाला कोई नहीं था। तब वहाँ मौत के काफ़ी ज़्यादा मामले आ रहे थे। हॉस्पिटल में कोरोना वायरस के मरीजों के लिए जगह नहीं थी। इसी पर 'न्यूयॉर्क टाइम्स' की एक रिपोर्ट आई थी कि कई हॉस्पिटलों के मुर्दाघर भरे हुए हैं। कुछ तो इसलिए कि मृतक के परिजन ख़ुद कोरोना वायरस के इलाज के लिए हॉस्पिटल में भर्ती हैं। जिन कुछ जगहों पर दफनाया जा रहा था वहाँ भी लाइनें लगी थीं। 

यह अहसास कितनी तकलीफदेह है कि ज़िंदगी के आख़िरी पलों में भी आप अपनों के बीच में नहीं हो सकते हैं। क्या हो जब उस वक़्त चाहकर भी आपके क़रीबी आपके पास न जा पाएँ? क्या हो जब आप चाहकर भी उन्हें पास नहीं बुलाना चाहें? 
कर्नाटक से और ख़बरें

बेंगलुरु में कोरोना मरीज के पीड़ित भी इससे काफ़ी आहत हैं कि वे अंतिम संस्कार में नहीं शामिल हो सके। 'इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार, कोरोना मरीज के दामाद ने कहा, ‘मुझे यह सोच कर पीड़ा होती है कि हम दफनाने के वक़्त वहाँ नहीं थे... हमें इस बीमारी ने दूर रहने के लिए मजबूर किया। उनके अंतिम क्षणों में हममें से कोई भी नहीं हो सकता था। यह काफ़ी गहरी पीड़ा देता है।' 

बता दें कि उस मरीज को साँस लेने में दिक्कत होने के बाद 12 अप्रैल को राजीव गाँधी इंस्टीट्यूट ऑफ़ चेस्ट डिजीज में भर्ती कराया गया था। वह दिल के मरीज थे। मरीज के परिजनों ने कहा कि वे इसलिए उनसे दूरी नहीं बना पाए थे क्योंकि उनको लगा था कि उनकी वह बीमारी दिल की बीमारी है। उन्होंने कहा कि वह न तो विदेश गए थे और न हीं कहीं बाहर। वह कभी-कभी सिर्फ़ सब्जी लेने बाहर जाते थे।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

कर्नाटक से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें