loader

सबरीमला मंदिर में सबसे पहले घुसीं, पर घर में पिटीं कनकदुर्गा

सबरीमला मंदिर में सबसे पहले घुसने वाली दो महिलाओं में से एक कनकदुर्गा पर उसकी सास ने ही कथित रूप से हमला कर दिया। उन्हें इतनी गंभीर चाटें आई हैं कि अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। उनकी हालत स्थिर है।

दक्षिणपंथी ताक़तों की धमकियों के कारण 39 साल की कनकदुर्गा दो हफ़्ते तक छुपी रहने के बाद सुबह ही घर लौटी थीं। मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि उनकी सास ने ही उनके सिर पर वार कर दिया।

बिंदु के साथ कनकदुर्गा मंदिर में घुसनेवाली 50 साल से कम उम्र की पहली महिला बनी थीं। दोनों पिछले 13 दिनों से कोच्ची के बाहरी इलाक़ों में गुप्त स्थान पर छुपी हुई थीं। बिंदु अभी भी गुप्त स्थान पर ही हैं।

मंदिर में घुसने के बाद ही मीडिया से बातचीत में कनकदुर्गा ने कहा था, ‘मुझे पता है कि मेरी जान ख़तरे में होगी। फिर भी मैं मंदिर जाना चाहती थी। हमें गर्व है कि हम दोनों ने उन महिलाओं के लिए राह आसान कर दिया है, जो मंदिर जाना चाहती हैं।’

10 साल से 50 की उम्र की महिलाओं पर मंदिर में घुसने पर लगी पाबंदी को हटाने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद से ही तनाव बना हुआ है। श्रद्धालु और प्रदर्शनकारी इस आयु की महिलाओं को घुसने नहीं देना चाहते हैं। इसके बावजूद कनकदुर्गा और बिंदु एक विशेष तकनीक और कुछ पुलिस कर्मियों की मदद से मंदिर में घुसने में सफल रहीं। कनकदुर्गा सरकारी कर्मचारी हैं, जबकि बिंदु केरल के कन्नूर यूनिवर्सिटी में व्याख्याता हैं। 

यह भी पढ़ें : सबरीमला में 'अदृश्य गुरिल्ला' तकनीक से घुसी थीं कनक और बिंदु! 

क्यों है आपत्ति?

बिंदु और कनकदुर्गा के मंदिर के अंदर जाने पर केरल में जमकर विरोध प्रदर्शन हुए थे। 1500 सालों से चली आ रही परंपरा में लंबी लड़ाई के बाद भी महिलाएँ मंदिर के अंदर नहीं जा सकी थीं।

सबरीमला मंदिर के पुजारी और अयप्पा के भक्तों का मानना  है कि भगवान की पवित्रता को बनाए रखने के लिए 10 से 50 साल की महिलाओं को मंदिर में नहीं आने देना चाहिए।  मासिक धर्म के आयु वर्ग में आने वाली महिलाओं को सबरीमला मंदिर में जाने की अनुमति नहीं थी। लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने सितंबर में दिए एक फ़ैसले में सभी महिलाओं को मंदिर में जाने की अनुमति दे दी। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

केरल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें