loader

एम. नागेश्वर राव पर सुप्रीम कोर्ट सख़्त, 1 लाख का जुर्माना

सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई के अंतरिम निदेशक एम. नागेश्वर राव को अदालत की अवमानना का दोषी पाया है। राव को कोर्ट के उठने तक खड़ा रहना पड़ेगा और उन पर एक लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। मुज़फ़्फरपुर शेल्टर होम मामले में जाँच अधिकारी एके शर्मा के तबादले पर सुप्रीम कोर्ट ने सख़्त नाराज़गी जताई थी। 

सुप्रीम कोर्ट में दायर किए गए अपने हलफ़नामे में राव ने कहा कि वह इस बात को स्वीकार करते हैं कि उन्होंने जाँच अधिकारी एके शर्मा का ट्रांसफ़र करने के लिए कोर्ट से अनुमति न लेकर ग़लती की। राव ने कहा, 'मैं अपनी ग़लती के लिए बिना शर्त माफ़ी माँगता हूँ और मैं सपने में भी माननीय अदालत के आदेश का उल्लंघन करने के बारे में नहीं सोच सकता।' 

सुनवाई के दौरान प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई ने कहा कि जानबूझकर अदालत की अवमानना की गई है। राव का बचाव करते हुए अटॉर्नी जरनल केके वेणुगोपाल ने कहा कि राव का 32 साल का बेदाग करियर रहा है, राव ने ग़लती मान ली है, इसलिए अदालत उन पर नरम रुख दिखाए। वेणुगोपाल ने सुप्रीम कोर्ट में स्वीकार किया कि इस मामले में कई ग़लतियाँ की गईं। उन्होंने कहा कि राव ने ऐसा जानबूझकर नहीं किया। 

कोर्ट ने 7 फ़रवरी को हुई पिछली सुनवाई में कहा था कि पहली नज़र में यह लगता है कि राव ने बिना कोर्ट की अनुमति लिए सीबीआई के ऑफ़िसर एके शर्मा का ट्रांसफ़र करके अदालत की अवमानना की है। बता दें कि कोर्ट ने उससे पहले हुई सुनवाई में कहा था कि शर्मा का ट्रांसफ़र नहीं किया जाएगा। शर्मा मुज़फ़्फ़रपुर शेल्टर होम मामले की जाँच कर रहे थे। कोर्ट ने पिछली सुनवाई में कहा था कि नागेश्वर राव आपने कोर्ट से खिलवाड़ किया है, भगवान आपकी मदद करे'।

पिछली सुनवाई में कोर्ट ने राव को 12 फ़रवरी को अदालत के सामने पेश होने को कहा था। मुज़फ़्फरपुर शेल्टर होम मामले में सुनवाई के दौरान कोर्ट का रुख बेहद सख़्त रहा। कोर्ट ने राव के साथ ही एक अन्य अधिकारी को भी कोर्ट के सामने उपस्थित होने को कहा है। 

शेल्टर होम में 34 लड़कियों से दुष्कर्म होने के इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने आरोपी बिहार सरकार की पूर्व समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा की गिरफ़्तारी न होने पर  बिहार पुलिस को जमकर लताड़ लगाई थी। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

क़ानून से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें