loader

बेगूसराय में गिरिराज, कन्हैया और तनवीर में जोरदार मुक़ाबला

सराय की एक ख़ूबसूरत बेग़म की याद में इस ज़िले का नाम बेगूसराय रख दिया गया। 1972 में मुंगेर से अलग होकर बेगूसराय ज़िला बना, जो राष्ट्रकवि दिनकर की जन्म-भूमि है। बेगूसराय के इस चुनाव में दिनकर के द्वंदगीतों की गूंज सुनाई दी। सार्वजनिक चुनाव प्रचार में शनिवार तक द्वंदगीत गूंजते रहे। 

बीजेपी प्रत्याशी गिरिराज सिंह और वाममोर्चा के उम्मीदवार कन्हैया कुमार के साथ-साथ महागठबंधन के उम्मीदवार तनवीर हसन के बीच के द्वंद तो सार्वजनिक हो चुके। मगर, कन्हैया कुमार और तेजस्वी यादव के बीच का द्वंद सार्वजनिक नहीं हो सका। इस द्वंद के चलते वाममोर्चा महागठबंधन धर्म का पालन नहीं कर सका। फिर भी भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव एस. सुधाकर रेड्डी ने बेगूसराय संसदीय सीट से अपने उम्मीदवार कन्हैया कुमार के समर्थन में महागठबंधन के उम्मीदवार तनवीर हसन को हटाने की अपील बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव से की। 

ताज़ा ख़बरें

सुधाकर रेड्डी की मानें, तो उनके मन में पिक्चर साफ़ थी कि कामरेड कन्हैया कुमार और फ़ायर ब्रांड बीजेपी नेता गिरिराज सिंह के बीच सीधी लड़ाई है और कन्हैया को हर तबके़ का समर्थन मिल रहा है। उनके मुताबिक़, अगर महागठबंधन के उम्मीदवार तनवीर हसन को चुनाव मैदान से हटा लिया जाए तो कन्हैया की जीत सुनिश्चित है। 

कन्हैया का उत्साह बढ़ाने के लिए देशभर से युवा और प्रबुद्ध लोग बेगूसराय पहुँचे। मगर बिहार और बेगूसराय की राजनीति का पेच यह है कि अगर तनवीर हसन बैठ जाते तो उनका राजनीतिक वजूद बैठ जाता।
तनवीर हसन की छवि अच्छी है और भूमिहार समाज में भी उनकी पैठ गहरी है। इससे भी बड़ी बात यह है कि कन्हैया कुमार राजनीति का उभरता हुआ एक ऐसा सितारा हैं, जिनके सामने तेजस्वी यादव की राजनीति का सितारा गर्दिश में न आ जाए, इस वजह से महागठबंधन धर्म का पालन कन्हैया के लिए नहीं हो सकता। यही एक दिलचस्प द्वंदगीत है।  

बड़े लोगों ने त्रिकोणीय बनाया मुक़ाबला

बिहार के प्रतिष्ठित अख़बार ‘आर्यावर्त’ के समय से पत्रकार रहे भुनानन्द मिश्री जी अपने जीवन का 13वाँ लोकसभा चुनाव कवर कर रहे हैं। उनकी मानें तो शुरुआत में मुक़ाबला गिरिराज सिंह और तनवीर हसन के बीच ही था। मगर, वाममोर्चा के उम्मीदवार कन्हैया के समर्थन में फ़िल्म स्टार शबाना आज़मी, प्रकाश राज, गीतकार जावेद अख़्तर, कविता कृष्णन, डी. राजा, सीताराम येचुरी, जिग्नेश मेवाणी आदि अनेक बड़े-बड़े नामी-गिरामी लोगों के आने से संघर्ष त्रिकोणीय बन गया है। 

देश और दुनिया का ध्यान बेगूसराय खींच रहा है। यह सच है किसी जमाने की ख़ूबसूरत बेग़म अब नहीं रहीं और अब वह सराय भी नहीं रही। मगर बेगूसराय का वजूद कायम है। उसकी एक नई ख़ूबसूरती भी बनी हुई है। यह बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री श्री बाबू की भूमि है।
कामरेड कन्हैया कहते हैं कि उनकी लड़ाई लूटतंत्र, भीड़ तंत्र और नोटतंत्र के ख़िलाफ़ है। एक समय में बेगूसराय को मास्को और बीहट को लेनिनग्राद कहा जाता था। यहाँ मुसलिम वामपंथी कैंडरों की संख्या भी काफ़ी है। अगर इनका 80 प्रतिशत वोट और 30 प्रतिशत भूमिहारों का वोट कन्हैया ले आए, तो उनके जीतने की संभावना बढ़ जाएगी।  

कमजोर होता गया वामपंथ 

स्थानीय पत्रकारों की मानें, तो पिछड़ी जातियों में वामपंथ का जो जनाधार था, वह खिसक कर लालू और नीतीश के पास चला गया। कन्हैया ने कोशिश की है कि पिछड़े वर्ग का वामपंथी वोट वापस वाममोर्चा में आ जाए। वैसे, सीपीआई और सीपीएम के बीच के खूनी संघर्ष ने वाम आंदोलन की जड़ों को खोखला कर दिया है। रही-सही कसर तब पूरी हो गई जब कांग्रेस ने बेगूसराय के पहले बाहुबली कामदेव सिंह को अपनी पार्टी में शामिल कर लिया, इस तरह वामपंथ की जड़ों को कमजोर करने में कांग्रेस की अहम भूमिका रही। इस प्रकार की परिस्थिति में संघ-जनसंघ और बीजेपी का उदय हुआ। 

कन्हैया के प्रचार में फ़िल्मी ग्लैमर का तड़का लगा, तो गिरिराज सिंह के पक्ष में नए हिंदुत्व के वक्ता पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ और कर्नल एसआरएन सिंह का व्याख्यान आयोजित करवा कर सामाजिक कार्यकर्ता दीपक साह ने बेगूसराय को एक नए राष्ट्रवाद के रंग से रंगने की एक पहल की।
बरौनी विधानसभा का बीहट गाँव कन्हैया का गाँव है। यहाँ भूमिहारों की आबादी सर्वाधिक है। भागलपुर के डीआईजी विकास वैभव का ही यही गाँव है। सिमरिया से बीहट के बीच रिक्शा चलाने वाले एक व्यक्ति बताते हैं कि यूँ तो लोग फूल छाप के साथ हैं मगर मुकेश सहनी के कारण लालटेन की भी चर्चा है। फूलबरिया वालों का कहना है कि हमारे वोट फूल को ही जाएँगे।
बेगूसराय के बछवारा विधानसभा में मेरी मुलाक़ात प्रेमशंकर राय (भूमिहार) जिला उपाध्यक्ष बीजेपी, कमल पासवान सीपीआई से लोजपा में आए प्रखंड अध्यक्ष और विश्वनाथ महतो (धानुक) जदयू प्रखंड अध्यक्ष से हुई। वे बताते हैं कि राजनीति में वर्चस्व के लिए सीपीआई और सीपीएम में खूनी संघर्ष हुआ सैकड़ों लोगों की जानें गई। वामपंथियों ने दूसरे की ज़मीन पर बाँटने के लिए नहीं अपने लिए लाल झंडा गाड़ा। ग़रीबों की लड़ाई से कन्नी काटने के कारण वामपंथ की धारा सूखने लगी। कैडर रह गए, पार्टी गुम हो गई।
चुनाव 2019 से और ख़बरें

स्थानीय लोग बताते हैं कि बछवाड़ा दियारा के चमथा-एक, दो, तीन, बीसनपुर, दादूपुर में सड़क, गली, नाली, बिजली, शौचालय, प्रधानमंत्री आवास योजना और गैस कनेक्शन को घरों में जाकर देख सकते हैं। बेगूसराय लोकसभा में तेछड़ा, बेगूसराय, साहेबपुर कमाल, बखरी, बछवाड़ा और चेरिया बरियारपुर विधानसभा क्षेत्र हैं। इन सीटों पर जदयू और कांग्रेस के दो-दो विधायक हैं। 

गिरिराज को महादेव से है उम्मीद

दिवंगत बीजेपी सांसद भोला बाबू भी नवादा से बेगूसराय पहुँचे थे। उसी नक्शे क़दम पर गिरिराज सिंह भी विवादों के बीच यहाँ पहुँचे हैं। जय महादेव के सहारे जय-जय की उम्मीद उन्हें ज़्यादा हैं। समस्त द्वैत-द्वैताद्वैत, द्वंद और विपरीत परिस्थितियों से महादेव ही उन्हें उबारेंगे। यह उनकी आशा और अभिलाषा है और उनके मन में ऐसा विश्वास है। 

मार्क्सवादी राजनीति के उभरते सितारे कन्हैया के सहारे वामपंथी कश्ती को नए खेवैया के मिलने की उम्मीद है तो राजद कोटे के महागठबंधन प्रत्याशी तनवीर हसन ख़ामोशी से चुनाव को रोचक बना रहे हैं। 

सम्बंधित खबरें

बेगूसराय में कुल 19 लाख मतदाता हैं। जिनमें भूमिहार 4 लाख 30 हज़ार, मुसलमान 2 लाख 80 हज़ार, महादलित 3 लाख 50 हज़ार, कानू, कोईरी, कुर्मी, धानुक मिलाकर 2 लाख 50 हज़ार, यादव 1 लाख, 50 हज़ार, ब्राह्मण 70 हज़ार, राजपूत 60 हज़ार, सहनी 60 हज़ार, चंद्रवंशी 60 हज़ार और 2 लाख वैश्य मतदाता हैं। 

कन्हैया कुमार के पक्ष में हवा ऐसी बनी है कि लोग कहते हैं कि ‘कन्हैया बोलय बड़े निमन छै।’ यानी कन्हैया बड़ा अच्छा वक्ता है और सदन में बोलने वाला चाहिए। गिरिराज सिंह के पक्ष में हवा है कि काम करने वाला चाहिए। ताकि बंद पड़े कारखाने फिर से खुलें। तनवीर को अपनी अच्छी छवि और माय (मुसलिम-यादव) समीकरण पर भरोसा है। महादेव, मार्क्स और मुसलमान, इस महीने मतदान, अगले महीने परिणाम। परिणाम क्या होंगे इसका पता 23 मई को ही चलेगा। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

चुनाव 2019 से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें