loader

बीजेपी के संकल्प पत्र की 10 बड़ी बातें

बीजेपी ने लोकसभा चुनाव 2019 के लिए संकल्प पत्र जारी कर दिया है। बीजेपी ने कहा है कि इस संकल्प पत्र के ज़रिए 130 करोड़ लोगों की आकाँक्षाएँ पेश की जा रही हैं और यह एक तरह का विज़न डॉक्यूमेंट है। संकल्प पत्र में 2022 तक 75 संकल्प पूरे करने का लक्ष्य रखा गया है। आइए, संकल्प पत्र की 10 बड़ी बातों पर नज़र डालते हैं। 
  • संकल्प पत्र में कहा गया है कि राष्ट्रवाद के प्रति हमारी पूरी प्रतिबद्धता है। आतंकवाद के प्रति जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई जाएगी। सुरक्षा बलों को आतंकवादियों का सामना करने के लिए फ़्री हैंड की नीति जारी रहेगी। देश की सुरक्षा के साथ हमारी सरकार किसी भी सूरत में समझौता नहीं करेगी। 
  • उत्तर-पूर्व में घुसपैठ को रोकने के लिए स्मार्ट फ़ेंसिंग के साथ प्रौद्योगिकी का भी उपयोग किया जाएगा। यूनिफ़ॉर्म सिविल कोर्ड को लागू करेंगे। घुसपैठ को रोकने की कोशिश करेंगे।
  • जनसंघ के समय से किए गए अनुच्छेद 370 (जम्मू और कश्मीर को विशेष दर्जा) को ख़त्म करने के वादे को हम दोहराते हैं और अनुच्छेद 35A (कोई बाहरी व्यक्ति जम्मू और कश्मीर में संपत्ति नहीं ख़रीद सकता है) को ख़त्म करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। 
  • किसानों को ज़ीरो फ़ीसदी ब्याज पर 1 लाख रुपये तक का अल्पकालिक कृषि ऋण दिया जाएगा। 6000 रुपये सालाना आर्थिक मदद अब केवल दो हेक्टेयर ज़मीन वाले किसानों को ही नहीं, बल्कि देश के सभी किसानों को मिलेगी। छोटे और खेतिहर किसानों को 60 साल की उम्र के बाद पेंशन दी जाएगी। ब्याजमुक्त किसान क्रेडिट कार्ड की सुविधा देने का भी वादा किया गया है। 
  • बीजेपी ने कहा है कि इस बार भी राम मंदिर के प्रति हमारी प्रतिबद्धता है कि हम इस मामले में सभी संभावनाओं को तलाशेंगे। हमारी कोशिश होगी कि सौहार्द्रपूर्ण वातावरण में जल्द से जल्द राम मंदिर का निर्माण किया जाएगा। 
  • प्रत्येक ऐसे परिवार के लिए जो कच्चे घर में रह रहे हैं या जिनके पास कोई घर नहीं है उन्हें 2022 तक पक्का मकान  दिया जाएगा।  
  • 2024 तक बुनियादी ढाँचा क्षेत्र में 100 लाख करोड़ तक का निवेश किया जाएगा। 
  • नागरिकता विधेयक को संसद के दोनों सदनों से पास कराएँगे और लागू करेंगे। इसमें किसी राज्य की सांस्कृतिक और भाषाई पहचान पर आँच नहीं आने देंगे। 
  • बीजेपी ने कहा है कि सशस्त्र बलों की मज़बूती के लिए, उत्कृष्ट रक्षा उपकरणों की ख़रीद की प्रक्रिया को तेज किया जाएगा। 
  • अगले पांच साल में ग्रामीण विकास पर 25 लाख करोड़ रुपये खर्च किए जाएँगे। 

इसके अलावा 2022 तक हर ग्राम पंचायत को ऑप्टिकल फ़ाइबर नेटवर्क से जोड़ने, सिंचाई के जितने भी प्रोजेक्ट अधूरे हैं उन्हें पूरा करने, ज़मीनों के सभी रिकॉर्ड ऑनलाइन करने, इंजीनियरिंग कॉलेजों में सीटों की संख्या को बढ़ाने, क़ानूनी कॉलेजों में सीटों को बढ़ाने का भी वादा किया गया है। इसके अलावा प्रत्येक घर में शौचालय, सभी घरों में स्वच्छ पीने का पानी उपलब्ध कराने और नेशनल हाइवे की लंबाई को दोगुना करने का वादा भी किया गया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

चुनाव 2019 से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें