loader

बीजेपी के ये दिग्गज इस बार नहीं उतरेंगे चुनाव मैदान में 

बीजेपी को इस चुनाव में अपने मार्गदर्शकों की आवश्यकता नहीं है। लौह पुरूष के नाम से मशहूर लाल कृष्ण आडवाणी के बाद मार्ग दर्शक मंडल के एक और सदस्य मुरली मनोहर जोशी का टिकट कटना तय है। चुनावों में स्टार प्रचारक रहीं सुषमा स्वराज, उमा भारती और अरुण जेटली जैसे कई नेताओं ने उम्र और स्वास्थ्य के कारण ख़ुद चुनाव नहीं लड़ने का फ़ैसला किया है। पेश है चुनाव मैदान से बाहर दिग्गज नेताओं पर एक रिपोर्ट - 

bjp veterans will not fight 2019 loksabha election - Satya Hindi

लाल कृष्ण आडवाणी 

लाल कृष्ण आडवाणी बीजेपी के संस्थापक सदस्यों में शामिल रहे हैं। लंबे समय तक गुजरात की गाँधीनगर सीट से लोकसभा का चुनाव लड़ते और जीतते रहे आडवाणी को पार्टी ने इस बार टिकट नहीं दिया है। इस सीट पर इस बार बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ताल ठोकेंगे। आडवाणी बीजेपी अध्यक्ष से लेकर, देश के गृह मंत्री, उप प्रधानमंत्री जैसे पदों पर रह चुके हैं। पार्टी को खड़ा करने में आडवाणी का अहम योगदान रहा है। ख़बरों के मुताबिक़, आडवाणी टिकट काटे जाने से बेहद नाराज हैं। 
bjp veterans will not fight 2019 loksabha election - Satya Hindi

मुरली मनोहर जोशी 

मुरली मनोहर जोशी भी आडवाणी की तरह ही इस बार चुनावी मैदान में नहीं दिखेंगे। माना जा रहा है कि कानपुर से उन्हें टिकट न मिलना लगभग तय हो गया है। इससे नाराज जोशी ने अपने संसदीय क्षेत्र के वोटरों के नाम एक खत लिखा है। इस खत में जोशी ने लिखा है, ‘भारतीय जनता पार्टी के महासचिव रामलाल ने मुझसे कहा है कि मुझे कानपुर या कहीं से भी लोकसभा का चुनाव नहीं लड़ना चाहिए।’ ख़बरों के मुताबिक़, जोशी भी टिकट काटे जाने को लेकर नाराज़ हैं और उन्होंने नाराजगी ज़ाहिर करने के लिए ही अपने संसदीय क्षेत्र के वोटरों को खत लिखा है। हैरान करने वाली बात यह भी है कि जोशी का नाम बीजेपी की स्टार प्रचारकों की लिस्ट में भी नहीं है। जोशी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष से लेकर केंद्र में मानव संसाधन विकास मंत्री जैसे बड़े पदों पर रह चुके हैं। 

bjp veterans will not fight 2019 loksabha election - Satya Hindi

सुषमा स्वराज 

विदेश मंत्री और प्रखर वक्ता सुषमा स्वराज ने भी इस बार चुनाव न लड़ने का एलान किया है। सुषमा ने कई महीने पहले ही आगामी लोकसभा चुनाव नहीं लड़ने के बारे में पार्टी नेतृत्व को सूचित किया था। सुषमा ने कहा था कि वह ख़राब सेहत के चलते चुनाव नहीं लड़ेंगी। सुषमा मध्य प्रदेश की विदिशा सीट से कई बार लोकसभा की सांसद रह चुकी हैं और वाजपेयी सरकार में भी अहम ओहदों पर रही हैं। सुषमा देश भर में बीजेपी का जाना-माना चेहरा हैं। 

bjp veterans will not fight 2019 loksabha election - Satya Hindi

अरुण जेटली 

वित्तमंत्री अरुण जेटली भी इस बार लोकसभा का चुनाव नहीं लड़ेंगे। जेटली को 2014 में अमृतसर सीट से हार का सामना करना पड़ा था। बाद में पार्टी ने उन्हें राज्‍यसभा का सांसद बनाया था। जेटली राज्यसभा में विपक्ष के नेता रह चुके हैं। 

bjp veterans will not fight 2019 loksabha election - Satya Hindi

कलराज मिश्र 

कलराज मिश्र बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं में से एक हैं। कलराज मिश्र घोषणा कर चुके हैं कि वह आगामी लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। कलराज उत्तर प्रदेश में बीजेपी अध्यक्ष से लेकर केंद्र में मंत्री जैसे बड़े पदों पर रहे हैं। 77 वर्षीय कलराज मिश्र को उम्र ज़्यादा होने के कारण मोदी सरकार की कैबिनेट से हटना पड़ा था। 

bjp veterans will not fight 2019 loksabha election - Satya Hindi

शाहनवाज़ हुसैन 

बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता शाहनवाज़ हुसैन को इस बार पार्टी ने टिकट नहीं दिया है। पिछले लोकसभा चुनाव में हुसैन को भागलपुर लोकसभा सीट से हार का सामना करना पड़ा था। बिहार में समझौते के मुताबिक़, भागलपुर सीट अब जेडीयू के खाते में चली गई है। शाहनवाज़ बीजेपी का मुसलिम चेहरा माने जाते हैं। टिकट कटने के बाद शाहनवाज़ ने कहा था कि बिहार में एनडीए के साथी नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू ने उनकी सीट ले ली है लेकिन फिर भी वे पार्टी की जीत के लिए मेहनत करेंगे। शाहनवाज़ केंद्र की अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में मंत्री रह चुके हैं। 

bjp veterans will not fight 2019 loksabha election - Satya Hindi

उमा भारती 

केंद्रीय मंत्री और मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती भी इस बार चुनाव मैदान में नहीं उतरेंगी। उमा 2014 में झाँसी से लोकसभा का चुनाव जीती थीं। उमा ने कुछ समय पहले घोषणा थी कि वह लोकसभा का चुनाव नहीं लड़ेंगी। उमा केंद्रीय मंत्री होने के साथ ही पार्टी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भी हैं। 

bjp veterans will not fight 2019 loksabha election - Satya Hindi

बी. सी. खंडूड़ी 

पूर्व मेजर जनरल भुवन चंद्र खंडूड़ी भी इस बार चुनावी मैदान में नहीं उतरेंगे। अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में मंत्री रह चुके खंडूड़ी उत्तराखंड के मुख्‍यमंत्री भी रहे हैं। खंडूड़ी ने उम्र का हवाला देकर बीजेपी आलाकमान को पहले ही बता दिया था कि वह इस बार चुनाव मैदान में नहीं उतरेंगे। जनरल बीसी खंडूड़ी को रक्षा मामलों की संसदीय समिति के चेयरमैन पद से हटाए जाने के बाद कांग्रेस ने इसे मुद्दा बनाया था। 

इन सभी नेताओं का बीजेपी को शीर्ष तक पहुँचाने में अहम योगदान रहा है। लेकिन इस बार बीजेपी को चुनाव में इनका पूरा साथ नहीं मिलेगा। हालाँकि इनमें से कुछ नेता पार्टी के लिए प्रचार ज़रूर करेंगे लेकिन फिर भी इन नेताओं के चुनाव न लड़ने या पूरी तरह चुनाव मैदान से बाहर रहने पर पार्टी को इनकी कमी ज़रूर खलेगी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

चुनाव 2019 से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें