loader

प्रधानमंत्री के हेलिकॉप्टर से उतारे गये काले बॉक्स की जाँच हो : कांग्रेस

प्रधानमंत्री के हेलिकॉप्टर में क्या कोई संदिग्ध 'काला बॉक्स' ले जाया जा रहा था? कम से कम कांग्रेस का आरोप तो यही है। कर्नाटक कांग्रेस ने चुनाव आयोग से शिकायत की है कि एक दिन पहले चित्रदुर्ग में रैली के लिए पहुँचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हेलिकॉप्टर से एक संदिग्ध 'काला बॉक्स' उतारा गया। कांग्रेस ने इसकी जाँच की माँग की है। 

प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर कांग्रेस के प्रवक्ता आनंद शर्मा ने रविवार को इस मामले की चुनाव आयोग से जाँच करने की माँग की और प्रधानमंत्री मोदी से सफ़ाई देने की माँग की। आनंद शर्मा ने कहा,

हमने देखा कि प्रधानमंत्री के हेलिकॉप्टर की सुरक्षा में तीन और चॉपर थे। लैंड करने के बाद एक काला बॉक्स उतारकर एक निजी कार में ले जाया गया। वह कार एसपीजी काफ़िले का हिस्सा भी नहीं थी।


आनंद शर्मा, कांग्रेस प्रवक्ता

कांग्रेस ने एक वीडियो शेयर करके बीजेपी और पीएम नरेंद्र मोदी को घेरने की कोशिश की है। पहले राज्य कांग्रेस प्रमुख दिनेश गुंडू राव ने इस वीडियो को शनिवार को ही शेयर कर लिखा, ‘चित्रदुर्ग में पीएम मोदी के हेलिकॉप्टर से एक रहस्मय बॉक्स को उतारा गया और एक प्राइवेट इनोवा में लाद दिया गया, जो तुरंत वहाँ से निकल गई। चुनाव आयोग को इस बात की जाँच करनी चाहिए कि बॉक्स में क्या था और यह गाड़ी किसकी थी?’

वीडियो कथित तौर पर कर्नाटक के एक हेलिपैड का है, जिसमें एक काले बॉक्स को मिनी वैन में लोड करते हुए दिखाया गया है। कांग्रेस का आरोप है कि पीएम नरेंद्र मोदी के लैंड करने के तुरंत बाद इस बॉक्स को पीएम के हेलिकॉप्टर से उतार कर कार में लोड किया गया। यूथ कांग्रेस मीडिया इनचार्ज श्रीवत्स ने भी यह वीडियो टि्वटर पर शेयर किया है। उनका दावा है कि वीडियो चित्रदुर्ग में नरेंद्र मोदी के हेलिकॉप्टर लैंड करने के तुरंत बाद का है। पीएम यहाँ एक चुनावी कार्यक्रम को संबोधित करने आए थे।

ताज़ा ख़बरें
हालाँकि सोशल मीडिया पर यह सवाल उठाया जा रहा है कि वीडियो में मोदी या हेलिकॉप्टर या बॉक्स को उतारते हुए नहीं देखा जा सकता। लेकिन यूथ कांग्रेस मीडिया इनचार्ज श्रीवत्स ऐसी तसवीरें ट्विटर पर पोस्ट की है जिसमें एक हेलिकॉप्टर और एक काला बॉक्स दिखाई देता है। इस ट्वीट के साथ श्रीवत्स ने लिखा है कि निष्पक्षता के लिए संबंधित अधिकारियों को इस संदिग्ध गतिविधि की जाँच करनी चाहिए और चुनाव अभियान के दौरान ऐसी चीजों को पूरी तरह से जाँचा जाना चाहिए…।

बाद में श्रीवत्स ने कई सवाल भी पूछे और ट्विटर पर लिखा, ‘बॉक्स सिक्योरिटी प्रोटोकॉल का हिस्सा क्यों नहीं था? इनोवा पीएम के काफ़िले का हिस्सा क्यों नहीं थी? यह किसकी कार थी?’

बता दें कि वीडियो में मोदी या हेलिकॉप्टर या बॉक्स को उतारते हुए नहीं देखा जा सकता। दो लोग एक काले बॉक्स को लेकर भागते नज़र आते हैं, जो बाद में इसे एक कार में डाल देते हैं।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

चुनाव 2019 से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें